नोटबंदी का असर: यूपी सरकार की घटी आमदनी, 50 फीसदी टैक्स हुआ कम 

नोटबंदी के बाद टैक्स वसूली में यूपी तकरीबन 50 प्रतिशत पिछड़ गया है।

अनिल के. अंकुर
लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 1000 और 500 रूपए बंद किए जाने का असर यूपी सरकार पर भी पड़ा है। हालत यह है कि उत्तर प्रदेश सरकार की आमदनी में करीब 50 फीसदी की गिरावट आई है। विभिन्न विभागों से प्रदेश के मुख्य सचिव राहुल भटनागर के पास जो रिपोर्ट पहुंची है, उससे साफ जाहिर है कि टैक्स वसूली में यूपी तकरीबन 50 प्रतिशत पिछड़ गया है। चाहे एक्साईज से टैक्स वसूली का मामला हो या फिर व्यापार कर वसूली का या फिर स्टाम्प ड्यूटी की बिक्री का सभी में 50 प्रतिशत की कमी दर्ज कर की गई है।

मुख्यसचिव कार्यालय में पहुंची रिपोर्ट के मुताबिक एक्साईज से 1104 करोड़ रूपए की वसूल हुआ। यह वसूली अपने निर्धारित लक्ष्य से 30 प्रतिशत कम है। इसकी वजह सिर्फ यह है क्योंकि नोट बंदी के बाद देशी शराब और अंग्रेजी शराब की बिक्री में काफी कमी आई है। अब राज्य सरकार इससे निपटने की योजना बना रही है। 

किसानों और व्यापारियों के लेनदेन में कमी
मुख्य सचिव कार्यालय में मंडी विभाग ने जो अपनी रिपोर्ट भेजी है उसमें साफ कहा गया है कि नोटों की कमी होने से किसानों और व्यापारियों के बीच लेन देन में भारी कमी आई है। मंडी शुल्क की वसूली में तकरीबन 45 प्रतिशत लक्ष्य कम रह गया है। यहां भी नोट बंदी का पूरा असर दिखा है। नगर निगम और  जलकल विभाग की टैक्स वसूली भी पिछले वर्षों की अपेक्षा 38 प्रातिशत कम हुई है। व्यापारकर विभाग के आयुक्त मुकेश मेश्राम ने जो रिपोर्ट शासन को भेजी है उसमें कहा गया है कि व्यापारियों पर इस नोट बंदी का काफी असर पड़ा है। जिसके कारण व्यापारकर की वसूली में 49 प्रतिशत की कमी रह गई है। 

रजिस्ट्री भी हुई कम
स्टाम्प और निबन्धन विभाग के प्रमुख सचिव अनिल कुमार ने बताया कि लोगों द्वारा जमीन की रजिस्ट्री इतनी कम कर दी गई है कि करीब 47 प्रतिशत स्टाम्प बिक्री कम हुई है। अधिकारियों की चिंता है कि अगर यही हाल रहा तो जल्द ही यूपी सरकार के सामने खासा संकट खड़ा हो जाएगा। प्रमुख सचिव राहुल भटनागर ने कहा कि उत्तर प्रदेश के विभिन्न विभागों से प्राप्त राजस्व रिपोर्ट के आंकलन से पता चला है कि राजस्व में कमी आई है। विभाग प्रमुख इसकी वजह पर्याप्त नगदी न होना मान रहे हैं।
Narendra Modi
Show More
नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned