नेशनल बैडमिंटन कोच पी गोपीचंद ने किया  रक्तदान

 नेशनल बैडमिंटन कोच पी गोपीचंद ने किया  रक्तदान

Ritesh Singh | Publish: Jan, 27 2017 08:08:00 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

रक्तदान करके जीवन बचाने में कर सकते हैं अमूल्य योगदान

लखनऊ, देश में बैडमिंटन खेल को एक नई पहचान देने वाले भारतीय बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष डा. अखिलेश दास गुप्ता की खेल के जरिए सामाजिक संदेश देने की एक नई सोच देने की पहल के चलते आज बाबू बनारसी दास यूपी बैडमिंटन अकादमी में एक रक्तदान शिविर का आयोजन किया गया।भारतीय बैडमिंटन संघ द्वारा यूपी बैडमिंटन एसोसिएशन व रेडक्रास सोसायटी के सहयोग से आयोजित इस रक्तदान शिविर के बारे मेें अपनी प्रतिक्रिया देते हुए भारतीय बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष डा.अखिलेश दास गुप्ता ने कहा कि  जरूरी नहीं कि किसी की जान बचाने के लिए आप डाक्टर बने, आप रक्तदान करके भी किसी के जीवन बचाने में अमूल्य योगदान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि खेल के जरिए लोगों की जान बचाने का संदेश देने के लिए बैडमिंटन फैटरनिटी के इस कदम को और आगे बढ़ाना चाहिए।
Syed Modi Badminton Tournament 2017
वहीं बैडमिंटन परिवार के इस कदम की सराहना करते हुए नेशनल बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि भारतीय बैडमिंटन संघ की यह सोच काबिले तारीफ है तथा इससे लोगों की जान बचाने में मदद मिलती है। भारतीय बैडमिंटन संघ के अध्यक्ष डा.अखिलेश दास गुप्ता इस पहल के लिए बधाई के पात्र है तथा अन्य खेल संघों को भी इस अनूठी पहल  का अनुकरण करना चाहिए जिससे समाज में एक पाजिटिव संदेश जाएगा। दूसरी ओर ओलंपिक रजत पदक विजेता पीवी सिंधु, चाइना ओपन चैंपियन के.श्रीकांत, ओलंपियन अष्विनी पोनप्पा, ओलंपियन मनु अत्री सहित अन्य खिलाड़ियों ने भी इस पहल का स्वागत करते हुए कहा कि यह काफी बेहतर कदम है तथा ऐसे अन्य शिविरों का भी आयोजन होना चाहिए।
Syed Modi Badminton Tournament 2017
इस रक्तदान शिविर की एक खास बात यह भी रही कि इसमें राजधानी में चल रही सैयद मोदी इंटरनेशनल ग्रांपी गोल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप में हिस्सा लेने आए अंपायरों, रेफरियों व आयोजन से जुड़े अन्य लोगों ने पूरे उत्साह से भाग लेकर रक्तदान किया। वहीं देश के सर्वश्रेष्ठ बैडमिंटन कोचों में शुमार राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने भी रक्तदान करके किसी की जान बचाने का संदेश दिया। इस शिविर में एक खास बात यह रही कि इसमें बड़ी संख्या में लोगों ने पंजीकरण कराया तथा जब आवष्यक जांच के बाद कुछ लोगों का खून नहीं लिया गया तो वह दूसरो का उत्साह बढ़ाते दिखे।

इस आयोजन को सफल बनाने के लिए भारतीय बैडमिंटन एसोसिएशन की संयुक्त सचिव अलकनंदा अशोक, यूपी बैडमिंटन एसोसिएशन के सचिव अरूण कक्कड़, यूपी बैडमिंटन एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष सुधर्मा सिंह, अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन रेफरी  गौरव खन्ना व पूर्व बैडमिंटन खिलाड़ी रामकुमार सिंह ने पूरा योगदान दिया। यह रक्तदान शिविर किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) के ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग के सहयोग से आयोजित  हुआ जिसमें ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की विभागाध्यक्ष डा.तूलिका चंद्रा के नेतृत्व में छह व यूपी रेडक्रास सोसायटी की स्टेट कोआर्डिनेटर प्राची भटनागर के नेतृत्व में 10 लोगों की एक टीम लगी थी।
रक्तदान शिविर के आयोजन के लिए ट्रांसफ्यूजन मेडिसिन विभाग की हाईटेक बस भी आई थी जिसमें ब्लड डोनेशन के साथ खून के हर तरह के परीक्षण की भी सुविधा उपलब्ध थी।
Syed Modi Badminton Tournament 2017
रक्तदान के बारे में कुछ तथ्य

कोई भी स्वस्थ व्यक्ति तीन महीने में एक बार रक्तदान कर सकता है। इसमें 18 से 65 साल का कोई भी स्वस्थ व्यक्ति जिसका वजन 50 किग्रा सेे ज्यादा हो, हीमोगलोबिन का स्तर सही हो रक्तदान कर सकता है। एक बार खून देने में महज 5 से 10 मिनट का समय लगता है तथा एक बार में सामान्यतया 350 मिली.खून लिया जाता है। खून देने के तुरंत बाद ही नई लाल कोशिकाएं बनने से खून में स्फूर्ति आती है। इसके साथ ही हृदय रोग में पांच प्रतिशत की कमी होती है तथा अस्थिमज्जा लगातार क्रियाशील रहती है। वहीं एक यूनिट खून से कई प्रकार के ब्लड कंपोनेंट बनाकर कई तरह के मरीजों को नई जिंदगी दी जा सकती है।
Ad Block is Banned