एनबीआरआई ने शुरू क‍िया मिशन लोटस, कमल से सुधरेगी सेहत

राष्ट्रीय पुष्प कमल अब जनता की सेहत का भी ख्याल रखेगा।

लखनऊ. राष्ट्रीय पुष्प कमल अब जनता की सेहत का भी ख्याल रखेगा। राष्ट्रीय वनस्पति अनुसंधान संस्थान (एनबीआरआइ) ने इसके लिए लोटस मिशन की शुरुआत की है। संस्थान कमल के फूल से पोषण और आय का प्रमुख स्रोत बनाने की कोशिश करेगा। संस्थान के अनुसार इसकी जड़ों और बीजों में महत्वपूर्ण पौष्टिक तत्व होते हैं। कनाडा, जापान, चीन, साउथ अमेरिका सहित कई देश इसे न्यूट्रास्यूटिकल की तरह प्रयोग करते हैं और इससे तमाम प्रोडक्ट तैयार कर रहे हैं। यही वजह है कि एनबीआरआइ 'लोटस मिशन' के तहत कमल को व्यावसायिक दृष्टि से महत्वपूर्ण बनाने की तैयारी में है। संस्थान के निदेशक प्रो.एसके बारिक बताते हैं कि कुछ स्थानों पर इसके स्टेम (भसीड़ा) का प्रयोग सब्जी के रूप में किया जाता और इसके बीज भी खाए जाते हैं। इसका स्टेम और बीज बहुत अधिक पौष्टिक होते हैं।

कैसे होगा कमल का इस्तेमाल

- एनबीआरआई लोटस मिशन के तहत इसका न्यूट्रीशनल प्रोफाइल तैयार करेगा।
- जर्म प्लाज्म बढ़ाएगा और बायोप्रोस्पेक्शन के जरिए लोटस की चुनिंदा किस्मों की पहचान करेगा।
- इससे बनने वाले उत्पादों की तकनीक विकसित करेगा।

आकांक्षा सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned