scriptNew Business Idea Rajnigandha flower cultivation will make rich invest | New Business Idea : रजनीगंधा फूल की खेती बनाएगा मालामाल, कम निवेश करें कमाएं लाखों रुपए | Patrika News

New Business Idea : रजनीगंधा फूल की खेती बनाएगा मालामाल, कम निवेश करें कमाएं लाखों रुपए

New Business Idea : यह एक नया बिजनेस आइडिया है। जहां कम निवेश के साथ लाखों रुपए महीने की कमाई कर सकते हैं। अब आप चौंक गए होंगे कि ऐसा कौन सा बिजनेस है जिसमें कम पैसा लगे और मुनाफा ढेर सारा हो। बुके से लेकर विवाह समारोह में रजनीगंधा फूलों की भारी डिमांड है। और फरवरी का महीना खेती के लिए बेहद उपयुक्त समय है।

लखनऊ

Updated: February 21, 2022 10:35:21 pm

यह एक नया बिजनेस आइडिया है। जहां कम निवेश के साथ लाखों रुपए महीने की कमाई कर सकते हैं। अब आप चौंक गए होंगे कि ऐसा कौन सा बिजनेस है जिसमें कम पैसा लगे और मुनाफा ढेर सारा हो। तो आप करें रजनीगंधा फूलों की खेती (Tuberose flower farming)। पारम्परिक खेती छोड़ अब लोग व्यावसायिक खेती को अपना रहे हैं। मार्केट में इस वक्त रजनीगंधा फूलों की भारी मांग है। बुके से लेकर विवाह समारोह में रजनीगंधा फूलों की भारी डिमांड है। और फरवरी का महीना खेती के लिए बेहद उपयुक्त समय है।
New Business Idea : रजनीगंधा फूल की खेती बनाएगा मालामाल, कम निवेश करें कमाएं लाखों रुपए
New Business Idea : रजनीगंधा फूल की खेती बनाएगा मालामाल, कम निवेश करें कमाएं लाखों रुपए
रजनीगंधा की दो किस्में

यूपी के उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग पूर्व निदेशक एसपी जोशी ने बताया, रजनीगंधा की दो किस्में एक सिंगल और दूसरी डबल किस्म होती है। वैसे तो रजनीगंधा फूल की खेती के लिए कोई भी मिट्टी ठीक है। पर अगर बलुई-दोमट या दोमट मिट्टी में खेती तो उपज में फायदा मिलता है। रजनीगंधा की रोपाई कंद से की जाती है। उत्तर प्रदेश सहित पश्चिमी बंगाल, कर्नाटक, तामिलनाडु और महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश में रजनीगंधा की व्यावसायिक खेती होती है।
यह भी पढ़ें

फिक्स्ड डिपॉजिट से कमाएं बढ़िया रिटर्न, इन बैंकों ने बढ़ाई ब्याज दरें

ताजे, अच्छे और बड़े कंद लगाएं

रजनीगंधा के फूल पूरे साल उगाए जाते हैं। रजनीगंधा के पौधों में 80-95 दिनों में फूल आने लगते हैं। वर्ष भर फूल लेने के लिए जरूरी है कि हर 15 दिन में कंद रोपण किया जाए। कंद का आकार दो सेमी. व्यास का या इस से बड़ा होना चाहिए। एक हेक्टेयर क्षेत्रफल में करीब 1200-1500 किग्रा कंदों की जरूरत पड़ती है। कन्द को चार-आठ सेमी. की गहराई और 20-30 सेमी. लाइन से लाइन और और 10-12 सेमी. कन्द से कन्द के बीच की दुरी पर रोपण करना चाहिए। ध्यान रहे कि हमेशा ताजे, अच्छे और बड़े कंद लगाएं, ताकि फूलों की खेती में आपको अच्छी पैदावार मिल सके।
यह भी पढ़ें

Mentha Oil Rate Mentha Oil Price Today : मेंथा आयल को लगी नजर, जानें आज का Mint Oil Price

खाद बेहद जरूरी

अधिक पैदावार के लिए एक एकड़ भूमि में 25-30 टन गोबर की खाद देना चाहिए। नाइट्रोजन तीन बार देना चाहिए। एक तो रोपाई से पहले, दूसरी इस के करीब 60 दिन बाद और तीसरी मात्रा तब दें जब फ़ूल निकलने लगे। कंपोस्ट, फ़ास्फ़ोरस और पोटाश की पूरी खुराक कंद रोपने के समय ही दे दें। गर्मी के मौसम में पांच-सात और सर्दी में 10-12 दिन के अंतर पर सिंचाई करें। आवश्यकतानुसार खरपतवार निकालना चहिए।
रजनीगंधा फूल से लाखों की कमाई

एक एकड़ में रजनीगंधा फूल की खेती से करीब 1 लाख स्टिक (फूल) मिलते हैं। फूल को आस-पास की मंडियों में बेच सकते हैं। मंदिर, फूल की दुकान, शादी घर से फूल के और अच्छे दाम मिल सकते हैं। रजनीगंधा का एक फूल 1.5 से 6 रुपए तक में बिकता है, जो इस बात पर निर्भर करेगा कि मांग कितनी है और सप्लाई कितनी हो रही है। यानी आप 1.5 लाख रुपए से 6 लाख रुपए तक की कमाई सिर्फ एक एकड़ में रजनीगंधा के फूलों की खेती से कर सकते हैं। अगर दस एकड़ खेत है तो 60 लाख रुपए की कमाई हो सकती है।
सरकार खेती के लिए देती है मदद

उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग उत्तर प्रदेश की तरफ से राष्ट्रीय औद्यानिक मिशन के तहत किसानों की आर्थिक सहायता भी दी जाती है। छोटे और सीमांत किसानों के लिए कुल लागत का 50 प्रतिशत या अधिकतम 35000 रुपए प्रति हेक्टेयर लाभ दिया जाता है। अन्य किसानों के लिए कुल लागत का 33 प्रतिशत या अधिकतम 23100 रुपए प्रति हेक्टेयर दिया जाता है और एक लाभार्थी को सिर्फ चार हेक्टेयर ज़मीन पर ही लाभ दिया जाता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

IPL 2022 LSG vs KKR : डिकॉक-राहुल के तूफान में उड़ा केकेआर, कोलकाता को रोमांचक मुकाबले में 2 रनों से हरायानोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाWatch: टेक्सास के स्कूल में भारतीय अमेरिकी छात्र का दबाया गला, VIDEO देख भड़की जनताHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.