कांग्रेस में शामिल हुए कई नए चेहरे, दूसरे दल व छात्र सगंठन के नेता भी जुड़े

कांग्रेस में शामिल हुए कई नए चेहरे, दूसरे दल व छात्र सगंठन के नेता भी जुड़े

Prashant Srivastava | Publish: Sep, 02 2018 10:02:18 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर की मौजदूगी रविवार को में विभिन्न दलों व छात्र संगठनों के आए सौ से ज्यादा सदस्यों ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की।

लखनऊ. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर की मौजदूगी रविवार को में विभिन्न दलों व छात्र संगठनों के आए सौ से ज्यादा सदस्यों ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता ओंकारनाथ सिंह ने प्रेस नोट जारी कर बताया कि इस मौके पर सदस्यता ग्रहण करने वालों में प्रमुख रूप से प्रीति एम. शाह, मोनिस यासीन अंसारी, बुशरापरवीन, अनस यासीन अंसारी, रोशन लाल, जनपद आजमगढ़ के शाद ताहिर सभासद एवं श्री दिनेश सरोज, जनपद गोण्डा के श्री ब्रजमोहन तिवारी सदस्य बीडीसी, अनिल तिवारी, तड़के वर्मा बीडीसी सदस्य, जनपद सीतापुर के सुधांशु बाजपेयी के साथ अनिल यादव, शहनवाज खान, सरिता पटेल, रघुनन्दन यादव, जनपद लखनऊ की प्रियंका गुप्ता, सदफ जाफर, डाॅ. जावेद अहमद, जनपद महोबा के श्रवण साहू, जनपद बाराबंकी के फरहान वारसी, जनपद फैजाबाद के दिनेश सिंह आदि ने सदस्यता ग्रहण की।


सदस्यता ग्रहण करने वालों में भारी संख्या में आइसा, इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्र नेता, आम आदमी पार्टी, पीस पार्टी आदि राजनीतिक एवं सामाजिक क्षेत्रों से जुड़े प्रमुख युवा शामिल रहे।यूपी में अब तक कई बड़े आंदोलनों में सक्रिय रहे शाहनवाज आलम, अनिल यादव के साथ लक्ष्मण प्रसाद, सुधांशु वाजपेयी, अक्षत शुक्ला, श्रवण साहू, दिनेश सिंह, सरिता पटेल, फरहान वारसी सहित 100 से अधिक युवा कांग्रेस में शामिल हो गए। बता दें कि इन युवाओं ने 9 अगस्त को राहुल गांधी से मुलाकात की थी। कांग्रेस में शामिल होकर इन युवा नेताओं ने कहा कि वह साम्प्रदायिकता के खिलाफ राहल गांधी का साथ देने को तैयार हैं।

जानिए कुछ नए सदस्यों के बारे में

सदफ़ जाफ़र: शुरुआत में कई साल प्रतिष्ठित स्कूल में टीचिंग की,उसके बाद पिछले10 साल से सामाजिक कार्यकर्ता हैं मगर किसी पार्टी से क़रीबी सरोकार नहीं रहा
महिला और बाल मुद्दों पर, जातिवाद, सम्प्रदायिकता, बढ़ती मेंहगाई के ख़िलाफ कई आंदोलनों को आयोजित किया और उनमें शमिल रही।

सुधान्शु बाजपेयी: पिछले लगभग दस साल से राजनीति में सक्रिय रहे, छात्रजीवन में लखनऊ विश्वविद्यालय के जुझारू छात्रनेता रहे, आइसा के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे,इधर तीन सालों से स्वतंत्र रूप से लगातार राज्य स्तर पर रोजगार बचाओ अभियान का नेतृत्व किया, कई आंदोलन भी जीते। अब रोजगार के सवाल को कांग्रेस के मंच से उठाएंगे।

रघुनंदन यादव: वर्तमान में दिल्ली विश्वविद्यालय में शोधार्थी हैं,रोजगार सहित तमाम मुद्दों पर लगातार सक्रियता और आइसा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल रहे।इससे पहले इलाहाबाद विश्वविद्यालय के लोकप्रिय छात्रनेता रहे,छात्रसंघ चुनाव में अध्यक्ष पद पर चुनाव भी लड़ा।


सरिता पटेल : पिछले 15वर्षों से राजनीति में सक्रिय हैं, छात्रजीवन में काशी विद्यापीठ छात्रसंघ में पुस्तकालय मंत्री रहीं, भाकपा माले की राज्य कमेटी सदस्य हैं, महिलाओं के मुद्दों पर लगातार सक्रिय रहीं ।

Ad Block is Banned