स्टडी में हुआ खुलासा, तीन में से एक अस्पताल कर्मी को गंभीर संक्रमण का खतरा

स्टडी में हुआ खुलासा, तीन में से एक अस्पताल कर्मी को गंभीर संक्रमण का खतरा

Karishma Lalwani | Updated: 04 Dec 2018, 05:43:17 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

ये खतरा तब और बढ़ जाता है जब वह सावधानी और सफाई से अपने काम को अंजाम नहीं देता है

लखनऊ. प्रदेश के तीन में से एक अस्पताल कर्मी गंभीर संक्रमण का शिकार है। ये खतरा तब और बढ़ जाता है जब वह सावधानी और सफाई से अपने काम को अंजाम नहीं देता है। ये खुलासा हुआ है इंडियन सोसाइटी ऑफ हॉस्पिटल वेस्ट मैनेजमेंट की 18वीं कॉन्फ्रेंस में। कॉन्फ्रेंस का आयोजन केजीएमयू के पर्यावरण विभाग के अटल बिहारी वाजपेई साइंटिफिक कन्वेंशन सेंटर में किया गया।

अस्पताल कर्मचारियों को अगर किसी तरह का संक्रमण होता है, तो ये मरीजों की सेहत के लिए अच्छी बात नहीं होती। डॉ. परवेज के मुताबिक प्रभावी रूप से कूड़े का किस प्रकार का मैनेजमेंट होना चाहिए, इसके लिए जरूरी है कि अस्पताल का कूड़ा अलग करके रिसायकल किया जाए। डॉ. कीर्ती श्रीवास्तव के मुताबिक रिसायकल करने के बाद प्राप्त होने वाले पदार्थ उपयोगी होते हैं, जिससे कि प्रोफिट कमाया जा सकता है।

निडिल, ऑपरेशन के समय इस्तेमाल होने वाले औजारों को अलग रखना चाहिए। इन्हें पूरी सावधानी से प्रोटोकॉल के अनुसार डिस्पोज करना चाहिए। इससे कर्मचारियों को खतरनाक संक्रमण से बचाया जा सकता है। ये बातें डॉ. डी हिमांशु ने कहीं। उन्होंने यह भी बताया कि सिरींज के दोबारा इस्तेमाल से हेपेटाइटिस और एचआईवी भी हो सकता है। ऐसे में इसे डिब्बे में बंद कर डिस्पोज कर देना चाहिए।

किसे क्या खतरा

मरीज को ब्लड इंफेक्शन और लंग इंफेक्शन होने का खतरा रहता है। वहीं कूड़े कचरे से अस्पताल कर्मी को स्किन रैश व ईयर इंफेक्शन होने का खतरा रहता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned