एक फोन आया और खाली नहीं हो पाया अम्मार रिजवी का बंगला, एनडी तिवारी की पत्नी ने मांगा समय

मुलायम और अखिलेश के पत्र को विधिक राय के लिए भेजा गया

By: Anil Ankur

Published: 24 May 2018, 06:09 PM IST


एनडी तिवारी की पत्नी ने मांगा एक साल का समय

लखनऊ। राज्य सम्पत्ति विभाग की पूरी कार्रवाई आज एक फोन के आने के बाद धरी की धरी रह गई। इस तरह एक बार फिर अम्मार रिजवी को गौतमपल्ली में आवंटित आवास आज भी खाली नहीं हो पाया। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी की पत्नी उज्जवला तिवारी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर आवंटित भवन एक मालएवेन्यू को खाली करने के लिए एक साल का समय मांगा है। दूसरी और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव के द्वारा मांगे गए समय के लिए शासन ने विधिक राय मांगी है। इनके पत्र न्याय विभाग भेजे गए हैं।

कई बार खाली होने के प्रयास रहे असफल
गौतमपल्ली स्थित अम्मार रिजवी का आवास उन्हें तब आवंटित किया गया था जब वे कांग्रेस सरकार में मंत्री थे। सरकार गए हुए करीब तीस साल होने जा रहे हैं लेकिन सरकार उनसे यह मकान खाली नहीं करा पाई है। अब वे सरकारी मकान में एक एनजीओ का बोर्ड भी लगाए हुए हैं। इस मकान को खाली करने के लिए हाई कोर्ट ने आदेश दिए थे। इस आवास को खाली कराने के लिए आज की तारीख तय की गई थी। पुलिस फोर्स भी राज्य सम्पत्ति विभाग को मिल गई, लेकिन कार्रवाई शुरू होने से पहले एक फोन आरएसए के पास आया और मकान खाली होने की कार्यवाही रोक दी गई।

इधर नारायण दत्त तिवारी की पत्नी उज्जवला तिवारी ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि एनडी तिवारी विगत आठ महीने से दिल्ली के साकेत में एक अस्पताल में भर्ती हैं। उनका इलाज चल रहा है। ऐसी स्थिति में उन्हें यहां छोड़कर मकान खाली करना उचित नहीं होगा। अत: हालातों को देखते हुए इस आवास को एक साल के लिए न खाली करने दिया जाए। राज्य सम्पत्ति विभाग ने इन सभी मामलों को न्याय विभाग भेज दिया है, लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि आखिर अम्मार रिजवी का मकान क्यों नहीं खाली करा पाए जबकि उन्हें फोर्स भी मिल गई थी।

Anil Ankur Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned