प्याज की बेतहाशा बढ़ती कीमतों से लोग परेशानी, चिकन के बराबर पहुंची कीमत

प्याज की कीमतें 150 पार जा सकती हैं क्योंकि थोक की कीमतें 135 रुपये पहुंच गई हैं

लखनऊ. प्याज की बेतहाशा बढ़ती कीमतों (Onion Price) ने आम लोगों की जेब पर असर डाला है। राजधानी लखनऊ में प्याज की कीमत ने 120 रुपये प्रति किलो की छलांग लगा दी है। खुदरा बाजार (Retail Market) में प्याज 100 से 120 रुपये प्रति किलो बिकने लगा है। कारोबारियों का कहना है कि एक तरफ प्याज की कमी हुई, तो दूसरी तरफ प्याज के खरीददार कम हो गए हैं। वहीं दाम बढ़ने से कारोबार भी प्रभावित हो रहा है। प्याज की कीमतें 150 पार जा सकती हैं क्योंकि थोक की कीमतें 135 रुपये पहुंच गई हैं। मार्केट में चिकन की कीमत 160 रुपये तक है।

प्याज की किल्लत से व्यापार प्रभावित

लखनऊ के निशातगंज एरिया से सब्जी बेचने वाले रवि बताते हैं कि प्याज की काफी किल्लत है। जहां पहले हर दिन 100 पैकेट (प्रति पैकेट 45 किलो) तक प्याज थोक में मिलता है, वहीं अब यह घटकर 30-35 पैकेट पर सिमट गया है। थोक कारोबारि गोविंद ने बताया कि राजधानी लखनऊ में नासिक से प्याज आता है। वहां भी प्याज की किल्लत है। दाम बढ़ने के कारण खुदरा बाजार में प्याज की मांग काफी कम हो गई है। इसका असर बिक्री पर पड़ रहा है। जहां पहले आसानी से प्याज बिक जाते थे वहां अब प्याज महंगे दाम में बेचना थोड़ा मुश्किल हो रहा है।

प्याज की बढ़ती कीमत और कम बिक्री के कारण कई खुदरा व्यवसायियों ने इसे बेचना बंद कर दिया है। इंदिरा नगर बाजार के खुदरा व्यवसायी किशन पिछले 15 दिनों से प्याज नहीं बेच रहे हैं। बढ़ते दामों के कारण ग्राहक प्याज को खरीदने से मना कर रहे हैं। ग्राहकों की संख्या में काफी कमी आई है। इससे कारोबार प्रभावित हो रहा है और मुनाफा भी नहीं हो रहा।

शादी-ब्याह में भी यही हाल है। महंगा होने के कारण लोग शादी-ब्याह के लिए प्याज न के बराबर खरीद रहे हैं। जहां पहले 50-60 किलो में प्याज खरीदा जाता था वहां अब 10 रुपये में प्याज खरीदा जाता है। घरों की भी यही स्थिति है। पहले 20-30 रुपये प्रति किलो में प्याज मिल जाता था। अब कीमत ज्यादा होने से लोगों ने प्याज की मात्रा अपने खाने में कम ही कर दी है।

पांच टन से ज्यादा प्याज नहीं रख सकेंगे थोक व्यापारी

उपभोक्ता मंत्रालय ने तत्काल प्रभाव से प्याज बेचने वाले खुदरा और थोक व्यापारियों के लिए स्टॉक लिमिट को घटा दिया है। अब थोक व्यापारी 25 टन और खुदरा व्यापारी पांच टन से ज्यादा प्याज नहीं रख सकेंगे। हालांकि प्याज का आयात करने वालों पर किसी तरह की कोई सीमा लागू नहीं होगी।

ये भी पढ़ें: लुढ़का पारा, बढ़ी ठंड, लेकिन पिछली बार से कम पड़ेगी इस बार सर्दी, 15 दिसंबर के बाद ऐसा होगा मौसम का हाल

Karishma Lalwani
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned