क्वॉरेंटाइन सेंटर से भाग रहे लोग अपनों के लिए बनेंगे कोरोना बम, खड़ी करेंगे बड़ी मुसीबत

- क्वॉरेंटाइन होम से भाग रहे मरीज, बढ़ा संक्रमण का खतरा,

- प्रदेश के जिलों से मरीजों के भागने की खबर से प्रशासन सकते में,

- बागपत में खिड़की तोडकर भागा नेपाली जमाती,

- उन्नाव, कुशीनगर, रायबरेली, कानपुर देहात, आजमगढ़ और सुलतानपुर में घटनाएं

लखनऊ. ऐसे समय जब देश कोरोना वायरस की महामारी का सामना कर रहा है, इससे प्रभावित लोग ऐसी गैरजिम्‍मेदाराना हरकतें कर रहे हैं जिससे वायरस का संक्रमण और बढ़ सकता है। वैसे भी जमातियों के पॉजिटिव आने के बाद मामलों में दोगुनी तेजी आई है। ऐसी स्थिति में भी लापरवाही कम नहीं हो रही है। क्वारंटाइन होम से भाग रहे मरीजों के चलते संक्रमण का खतरा और बढ़ रहा है। ताजा मामला उत्‍तरप्रदेश के बागपत में सामने आया। जहां कोविड-19 से पीड़ि‍त एक जमाती सरकारी हेल्‍थसेंटर के आइसोलेशन से भाग गया। इस व्‍यक्ति को 3 अप्रैल को सरकार की ओर से संचालित कम्‍युनिटी हेल्‍थ सेंटर में भर्ती कराया गया था। इसकी जानकारी मिलते ही जिला प्रशासन के अधिकारियों और डाक्टरों में हडकंप मच गया। पुलिस उसकी तलाश में जुट गई। हालांकि कोरोना मरीजों के भागने का यह कोई पहला मामला नहीं है। प्रदेश के दूसरे जिलों से भी इस तरह के मामले लगातार सामने आ रही हैं। जिनमें उन्नाव, कुशीनगर, रायबरेली, कानपुर देहात, आजमगढ़ और सुलतानपुर की घटनाएं प्रमुख हैं। वहीं कोरोना पॉजिटिव मरीजों के भागने की खबर से प्रशासन भी सकते में है। वहीं चिकित्सकों का कहना है कि ऐसे लोग ही सबसे पहले अपने घर के लिए कोरोना बम साबित होंगे और सभी के लिए बड़ी मुसीबत खड़ी करेंगे।

बागपत से भागा नेपाली जमाती

दिल्ली निजामुद्दीन के मरकज में देश-विदेश के जमातियों का जमावड़ा जमा था। वहां नेपाल के रहने वाले 37 जमाती भी आए थे। पुलिस ने सभी को वहां से उठाकर बागपत के बालैनी में श्रीकृष्ण इंटर कालेज में बनाए गए क्वारंटाइन सेंटर में भर्ती दिया था। वहां पर एक नेपाली जमाती की तबीयत खराब हो गई थी। जांच में वह कोरोना पॉजिटिव पाया गया। इसके बाद चार अप्रैल की रात में उसे खेकड़ा में सीएचसी पर बनाए गए कोविड-19 अस्पताल में भर्ती करा दिया था। वहां से वह सोमवार की रात खिड़की तोड़कर चादर का सहारा लेकर फरार हो गया। पुलिस उसकी तलाश में जुटी हुई है।

उन्नाव में भागे, केस दर्ज

आईसोलेशन वार्ड से भागने का मामला उन्नाव में भी सामने आया। जहां कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए बाहर से आए लगभग 30 लोगों को अस्थाई आइसोलेशन सेंटर में रखा गया, लेकिन नियनों का उल्लंघन करते हुए सभी लोग मौके से भाग निकले। जिसक बाद पुलिस ने इनको पकड़ा। साथ ही सभी के खिलाफ सख्त कार्रवाई करते हुए भारतीय दंड संहिता अधिनियम 1860 धारा 188, 269 तथा 270 के तहत केस दर्ज किया गया।

घरों में नोटिस चस्पा

कानपुर देहात के झींझक और संदलपुर ब्लॉक क्षेत्र में अभी तक 1723 लोग बाहर से आए थे। सभी का स्वास्थ्य परीक्षण कराने के बाद उन्हें क्वारंटीन कर दिया गया था। कुछ समय रुकने के बाद क्वारंटीन लोग सेंटरों से भाग गए। जिसके बाद प्रशासन ने सेंटरों से भागे 1576 लोगों के घरों में नोटिस चस्पा करा दिया। जिससे डर के अलग-अलग सेंटरों में 147 लोग वापस आ गए। वहीं डेरापुर में 45 क्वारंटीन सेंटरों में रुके 358 लोग पहले ही भाग चुके हैं। हालांकि प्रशासन का कहना है कि स्कूल से गए लोग 14 दिनों तक घरों में क्वारंटीन है। अगर वह बाहर घूमते पाए गए, तो कार्रवाई की जाएगी।

आजमगढ़ में भी भाग निकले

आजमगढ़ जिले के कोरंटाइन सेंटर से फरार हुए जमातियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल इ्हें मऊ के एक कोरंटाइन सेंटर में रखा गया है। पुलिस उसके खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में जुटी है। यह सभी दिल्ली के निजामुद्दीन में आयोजित तब्लीगी जमात में शामिल हुए थे और इन्हें क्वॉरेंटाइन वार्ड में रखा गया था। इन सभी की तलाश में आजमगढ़ के साथ ही मऊ और बलिया जनपद की पुलिस जुटी थी। इसी दौरान सर्विलांस पर मिली लोकेशन के आधार पर पकड़कर दोबारा पुलिस कस्टडी में क्वॉरेंटाइन सेंटर भेजा गया।

रायबरेली में भी 9 फरार

रायबरेली जिले की महराजगंज तहसील के कुबना गांव में बने क्वॉरंटीन सेंटर से 9 लोग फरार हो गए। इसकी जानकारी जब लेखपाल को हुई तो उसने मामले की तहरीर महराज गंज कोतवाली में दी। पुलिस ने सभी 9 लोगो के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी। यह सभी लोग बाहर से आए थे और जिला प्रशासन ने 14 दिनों तक इन्हें क्वॉरेंटाइन किया था।

कुशीनगर से भी भागे

कुशीनगर जनपद के हाटा तहसील के गांधी स्मारक इंटर कालेज में बनाए गए क्वारंटीन सेंटर से 12 लोग भाग निकले। ये लोग लॉकडाउन के दौरान विभिन्न शहरों से अपने गांव लौटे थे जिन्हें यहां रखा गया था। प्रशासन का कहना है कि क्वारंटीन सेंटर से भागने वालों को छोड़ा नहीं जाएगा। ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज भी होगी।

सुलतानपुर में भागे 25 लोग

सुलतानपुर में अलग-अलग राज्यों से आये 115 लोगों को फरीदीपुर स्थित क्‍वारंटीन सेंटर में रखा गया था। इनमें से 25 लोग क्‍वारंटीन सेंटर की दीवार कूदकर फरार हो गए। कड़ी मशक्कत के बाद सभी को अरेस्ट कर वापस क्‍वॉरेंटीन सेंटर लाया गया। पुलिस ने इन सभी पर मुकदमा दर्ज किया है। साथ ही अब कोई फरार न होने पाए, इसके लिए पुलिस की मुस्तैदी बढ़ा दी गई है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से निपटने के लिए 123 साल पुराना अधिनियम लागू, 1897 में प्लेग के लिए बना था

Show More
नितिन श्रीवास्तव Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned