कोरोनाः नवरात्रि का जिक्र कर पीएम मोदी ने जनता से किए नौ आग्रह

पीएम मोदी ने गुरुवार को देश को संबोधित करते हुए जनता से कोरोना से डरने नहीं बल्कि सतर्क रहकर लड़ने का आग्रह किया है।

By: Abhishek Gupta

Updated: 19 Mar 2020, 11:49 PM IST

लखनऊ. चैत्रनवरात्रि को लेकर देश भर में लोग उत्साहित हैं। यूपी के प्रमुख मंदिरों में साजो सज्जा की प्रक्रिया चल रही है। चैत्र नवरात्रि में देवी नवदुर्गा नौ दिनों में नौ विभिन्न स्वरूपों में विराजित रहती है और साधकों के कष्टों का हरण कर उनकी मनोकामनाओं को पूर्ण करती है। इन नौ दिनों में देवी के नौ स्वरूप शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्माण्डा, स्कन्दमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी और सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है। लखनऊ के बड़ी काली जी, बलरामपुर के देवी पाटन, मिर्जापुर के मां विंध्यवासिनी देवी जैसे मंदिरों में 25 मार्च से 2 अप्रैल के बीच भक्तों का तांता लगेगा। हालांकि कोरोना के चलते इनमें पहुंचने वाले भक्तों की संख्या में कमी आ सकती है। लेकिन आस्था में नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आने वाले इस पर्व में मां की शक्ति पर अपने अटूट विश्वास को दर्शाया है। उन्होंने कोरोना को लेकर देश को संबोधित करते हुए कहा कि कुछ दिन में नवरात्रि का पर्व आ रहा है। ये शक्ति उपासना का पर्व है। भारत पूरी शक्ति के साथ आगे बढ़े ऐसी मेरी शुभकामनाएं हैं। इसी के साथ उन्होंने लोगों से नौ आग्रह भी किए।

अब आईये जानते हैं उन नौ आग्रह के बारे में जो प्रधानमंत्री ने देश की जनता से किए हैं-

1. मांगा समय- पीएम मोदी ने जनता से आग्रह किया वह अपना कुछ समय दें। कोरोना से लड़ने के लिए उन्होंने कहा कि सभी देशवासी किसी से कुछ समय के लिए जितना कम हो सके उतना कम संपर्क में आएं।

2. संकल्प- पीएम मोदी ने देशवासियों से संकल्प की मांग की है। उन्होंने कहा कि आज हमें यह संकल्प लेना होगा कि हम स्वयं संक्रमित होने से बचेंगे और दूसरों को भी संक्रमित होने से बचाएंगे। इस तरह की वैश्विक महामारी में एक ही मंत्र काम करता है- “हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ”।

3. संयम- उन्होंने कहा कि संयम का तरीका है भीड़ से बचना, घर से बाहर निकलने से बचना। आजकल जिसे सोशल डिस्टेंस कहा जा रहा है, कोरोना वैश्विक महामारी के इस दौर में ये बहुत ज्यादा आवश्यक है।

4. घर में ही रहें- पीएम मोदी देशवासियों से आग्रह किया कि आने वाले कुछ सप्ताह तक, जब बहुत जरूरी हो तभी अपने घर से बाहर निकलें। जितना संभव हो सके अपना काम, चाहे बिजनेस से जुड़ा हो, ऑफिस से जुड़ा हो, अपने घर से ही करें।

5. 22 मार्च के लगाए जनता कर्फ्यू- पीएम मोदी ने इस दौरान रविवार 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को जनता-कर्फ्यू लगाने का आग्रह किया। उन्होंने प्रत्येक देशवासी से इसमें समर्थन मांगा। उन्होंने कहा कि जनता कर्फ्यू यानि जनता के लिए, जनता द्वारा खुद पर लगाया गया कर्फ्यू। 22 मार्च को जनता-कर्फ्यू की सफलता, इसके अनुभव, हमें आने वाली चुनौतियों के लिए भी तैयार करेंगे।

6. 5.05 बजे ताली बजाकर करें अभिनंदन- उन्होंने कहा कि मैं चाहता हूं कि 22 मार्च के दिन हम ऐसे सभी लोगों को धन्यवाद अर्पित करें जो कोरोना से लड़ाई लड़ रहे है। रविवार को ठीक 5 बजे हम अपने घर के दरवाजे पर खड़े होकर, बाल्कनी में, खिड़कियों के सामने खड़े होकर 5 मिनट तक ऐसे लोगों का आभार व्यक्त करें। पूरे देश के स्थानीय प्रशासन से भी मेरा आग्रह है कि 22 मार्च को 5 बजे, सायरन की आवाज से इसकी सूचना लोगों तक पहुंचाएं। सेवा परमो धर्म के हमारे संस्कारों को मानने वाले ऐसे देशवासियों के लिए हमें पूरी श्रद्धा के साथ अपने भाव व्यक्त करने होंगे।

7. दिन में 10 लोगों को कॉल कर जागरूक करें- पीएम मोदी ने आग्रह किया कि संभव हो तो हर व्यक्ति प्रतिदिन कम से कम 10 लोगों को फोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही जनता-कर्फ्यू के बारे में भी बताए। साथियों, ये जनता कर्फ्यू एक प्रकार से हमारे लिए, भारत के लिए एक कसौटी की तरह होगा।

8. रुटीन चेकअप से बचें- पीएम मोदी ने कहा कि संकट के इस समय में, आपको ये भी ध्यान रखना है कि हमारी आवश्यक सेवाओं पर, हमारे हॉस्पिटलों पर दबाव भी निरंतर बढ़ रहा है। इसलिए मेरा आपसे आग्रह यह भी है कि रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं, उतना बचें।

9. सीनियर सिटिजन से आग्रह- प्रधानमंत्री ने आग्रह किया कि परिवार में जो भी सीनियर सिटिजन्स हों, 65 वर्ष की आयु के ऊपर के व्यक्ति हों, वो आने वाले कुछ सप्ताह तक घर से बाहर न निकलें।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned