आज होगी देश के सबसे बड़े रोजगार कार्यक्रम की शुरुआत, 1 करोड़ होंगे आत्मनिर्भर योजना की खास बातें

- आत्मनिर्भर उप्र रोजगार अभियान (UP Rojgar Abhiyan)
- तीन तरह से लोगों को मिलेगा काम
- आत्मनिर्भर भारत रोजगार कार्यक्रम
- एमएसएमई (MSME) सेक्टर और निजी कंपनियां
- बैंकों से लोन (Bank Loan) लेकर खुद का रोजगार करने वाले लोग

By: Abhishek Gupta

Published: 26 Jun 2020, 07:00 AM IST

पत्रिका इन्डेप्थ स्टोरी.

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) शुक्रवार 26 जून को देश के सबसे बड़े रोजगार कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। भारत के इतिहास में यह पहला कार्यक्रम होगा जब एक करोड़ (1 crore Jobs in UP) लोगों को नौकरी या स्वरोजगार के कार्यक्रमों के से जोड़ा जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi) के इस ड्रीम प्रोग्राम में युवाओं को तीन प्रकार के रोजगार कार्यक्रम (Employment Program) को शामिल किया गया है। पहला भारत सरकार का आत्मनिर्भर भारत रोजगार कार्यक्रम है। दूसरा एमएसएमई (MSME) सेक्टर में जिन्हें नौकरी मिली है वे और सरकार ने जिन औद्योगिक संगठनों के साथ एमओयू किया है और वे नौकरी दिए हैं। और तीसरा वे लोग हैं जिन्होंने बैंकों और सरकारी प्रयासों से कर्ज लेकर रोजगार और उद्यम शुरू किया है। इस तरह से एक करोड़ लोगों को एक ही दिन में नौकरी और स्वरोजगार के पत्र सौंपे जाएंगे। प्रधानमंत्री मोदी इस कार्यक्रम में प्रवासी कामगार और श्रमिकों के साथ स्थानीय लोग से बात भी करेंगे। इसके लिए यूपी के 6 जिलों के लाभार्थियों को चुना गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 जून को देश के सबसे बड़े रोजगार कार्यक्रम को ऑनलाइन माध्यम से संबोधित करेंगे। इस रोजगार कार्यक्रम से उत्तर प्रदेश के एक करोड़ से ज्यादा नौकरी और रोजगार पाने वाले लोग जुड़ेंगे। इसमें तीन प्रकार के रोजगार के कार्यक्रम जुड़े हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के प्रयासों से प्रदेश के एक करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी और रोजगार मिलेगा। इसमें अन्य राज्यों से घर लौटे श्रमिक और कामगार के साथ-साथ स्थानीय लोग भी लाभान्वित होंगे। पीएम मोदी 'आत्म निर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान' की शुरुआत करेंगे।

देश के सबसे बड़े इस रोजगार कार्यक्रम में तीन प्रकार के रोजगार कार्यक्रम को शामिल किया गया है। पहला भारत सरकार का आत्मनिर्भर भारत रोजगार कार्यक्रम है। इसे भारत सरकार ने शुरू किया है। इसमें वे लोग शामिल हैं, जिन लोगों को इस कार्यक्रम के जरिए रोजगार दिया गया है। जबकि, दूसरा एमएसएमई सेक्टर में जिन लोगों को नौकरी मिली है और सरकार ने जिन औद्योगिक संगठनों के साथ एमओयू किया है, ये लोग भी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे। तीसरा कार्यक्रम स्वत: रोजगार का है। इसमें वे लोग होंगे, जिसमें उनके उद्यम के लिए बैंकों और सरकारी प्रयासों से कर्ज दिलाकर उनके रोजगार और उद्यम को शुरू करवाया गया है। ऐसे लोग भी इस कार्यक्रम से जुड़ेंगे।

देश का सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम
देश का यह सबसे बड़ा रोजगार कार्यक्रम है, जिसमें दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ऑनलाइन माध्यम से लाभार्थियों से मुखातिब होंगे। एक दिन में एक करोड़ से ज्यादा लोगों को नौकरी और रोजगार देने वाली यह सबसे बड़ी संख्या होगी, जिसमें प्रवासी और स्थानीय लोग शामिल होंगे। इसमें दिल्ली से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ऑनलाइन माध्यम से उत्तर प्रदेश के 6 जिलों के लाभार्थियों से बात भी करेंगे। जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ से इस कार्यक्रम के जरिए लाभार्थियों से बात करेंगे।

Narendra Modi pm modi
Abhishek Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned