UP पुलिस पर नहीं है राजनैतिक दलों को विश्वास, DGP ने मांगी केंद्रीय पुलिस फ़ोर्स 

UP पुलिस पर नहीं है राजनैतिक दलों को विश्वास, DGP ने मांगी केंद्रीय पुलिस फ़ोर्स 

राजनैतिक दलों ने निष्पक्ष चुनाव के लिए रखी केंद्रीय बल की डिमांड, UP पुलिस पर नही भरोसा

लखनऊ। मुख्य निर्वाचन आयुक्त नसीम जैदी और चुनाव आयोग के अन्य अधिकारी लखनऊ पहुंचे और विधानसभा चुनाव की तैयारियों पर गौर किया। इसी क्रम में आयोग ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से भी मुलाकात की। समाजवादी पार्टी को छोड़कर बाकी पार्टियों ने आयोग से साफ कहा कि उन्हें यूपी पुलिस पर भरोसा नहीं है इसलिए केंद्रीय बल की निगरानी में निष्पक्ष चुनाव कराए जाएं।

वोटर लिस्ट में गड़बड़ी का मुद्दा

बसपा प्रदेश अध्यक्ष रामअचल राजभर ने वोटर लिस्ट की गड़बड़ियों की तरफ आयोग का ध्यान खींचा और नवमतदाता अभियान दोबारा चलाने का अनुरोध किया। कांग्रेस के राकेश मिश्रा ने भी वोटर लिस्ट पर निशाना साधते हुए लिस्ट में डुप्लीकेसी का मुद्दा उठाया। उन्होंने आयोग से अनुरोध किया कि निजी भवनों में बूथ न बनाए जाएं इससे चुनाव प्रभावित हो सकता हैं।

फिर उठा कैराना का मुद्दा

बीजेपी के सतीश महाना ने कैराना का मुद्दा भी चुनाव आयोग के सामने रखा। उन्होंने कहा कि एनएचआरसी की रिपोर्ट से साफ है कि लोग पलायन कर रहे हैं। जो वहां हैं वह भी भय में हैं। इसलिए निष्पक्ष चुनाव के लिए कड़े कदम उठाए जाने जरूरी हैं।

आरएलडी के अनिल दुबे ने आयोग से मांग की कि दो साल से एक ही जगह जमे अफसरों को जिले से हटाया जाए। और दो साल पहले ही जिन्हें उम्मीदवार घोषित किया जा चुका है उनके खर्च भी चुनाव आयोग जोड़े। थानों में इस्न्पेक्टरों की तैनाती की मांग भी आयोग के सामने रखी।

सपा के अंबिका चौधरी ने कहा कि आयोग के निर्देशों का पूरा पालन किया जाएगा। पंचायत चुनाव के आधार पर देखा जा सकता है कि यूपी पुलिस निश्पक्ष चुनाव करने में सक्षम है।

डीजीपी ने मांगी एक हज़ार कंपनी सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स

2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए डीजीपी मुख्यालय की तरफ से एक हजार कंपनी सेंट्रल पैरा मिलिट्री फोर्स मांगी गई है। ये मांग चुनाव आयोग के सामने प्रस्तुतिकरण के दौरान एडीजी एलओ दलजीत सिंह चौधरी ने रखी। उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव के मुकाबले करीब 6 हज़ार बूथ बढ़ें हैं। 2012 चुनावों में 695 कंपनियां केंद्र की मिली थी। इसको देखते हुए 1 हज़ार कंपनियों की डिमांड की गयी है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned