उन्नाव पीड़िता की मृत्यु पर भावुक हुई राजनीतिक हस्तियां, अखिलेश ने किया धरना, प्रियंका ने कहा सामाजिक तौर पर हम सब दोषी

- उन्नाव पीड़िता की मृत्यु पर तेज हुई राजनीति

- अखिलेश ने विधानसभा के सामने किया धरना

- प्रियंका ने खड़े किए कई सवाल

लखनऊ. जिंदगी और मौत से जूझने वाली उन्नाव रेप पीड़िता ने आखिरकार दिल्ली के सफदरगंज में दम तोड़ दिया। पीड़िता की मौत ने जहां आमजन को झकझोर दिया, तो वहीं राजनीतिक हस्तियों ने भी पीड़िता के परिवार से सहानुभूति जताई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मामले को फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलाए जाने की बात कही। वहीं विपक्षी दलों में मायावती (Mayawati) से लेकर प्रियंका गांधी (Priyanka Gandhi) ने पीड़िता की मौत पर दुख प्रकट कर यूपी की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए। समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने विधानसभा के बाहर धरना प्रदर्शन कर पीड़ित परिवार को समूचित न्याय दिलाने की मांग की।

फास्ट ट्रैक कोर्ट में दोषियों को सजा

उप्र मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की। साथ ही कहा कि मुकदमे को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाकर दोषियों को कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

सामाजिक तौर पर हम सब दोषी: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यूपी की कानून व्यवस्था पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि रेप पीड़िता को न्याय न दिला पाना हम सबकी नाकामयाबी है। सामाजिक तौर पर हम सब दोषी हैं लेकिन ये उत्तर प्रदेश में खोखली हो चुकी कानून व्यवस्था को भी दिखाता है। प्रियंका ने यूपी सरकार पर कई सवाल खड़े कर पूछा कि पीड़िता को सुरक्षा क्यों नहीं दी गई? जिस अधिकारी ने उसका एफआईआर दर्ज करने से मना किया उस पर क्या कार्रवाई हुई? उप्र में रोज-रोज महिलाओं पर जो अत्याचार हो रहा है, उसको रोकने के लिए सरकार क्या कर रही है?

लोगों में पैदा हो कानून का खौफ: मायावती

बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती ने भी पीड़िता के प्रति दुख व्यक्त किया। मायावती ने राज्य सरकार को यह नसीहत भी दी कि लोगों में कानून का खौफ पैदा किया जाए। ऐसी घटनाओं को मद्देनजर रखते हुये दोषियों को निर्धारित समय के भीतर ही फांसी की सख्त सजा दिलाने का कानून जरूर बनाए। मायावती ने कहा कि बसपा दुख की घड़ी में पीड़ित परिवार के साथ खड़ी है। यूपी सरकार पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए विशेष पहल करे, यही इंसाफ का तकाज व जनता की मांग है।

धरने पर बैठे अखिलेश

पीड़िता की मौत के बाद समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव धरने पर बैठ गए। उन्होंने आए दिन होने वाले अपराधों को काला दिन बताया। अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार में ऐसी घटना कोई पहली बार नहीं हुई है। मुख्यमंत्री ने इससे पहले कहा था, 'अपराधियों को ठोक दिया जाए' लेकिन वह एक पीड़िता की जान तक नहीं बचा सके। यूपी में इतने अपराध हो रहे हैं लेकिन अब तक उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, डीजीपी और राज्य के गृह सचिव ने इस्तीफा नहीं दिया। उन्होंने ऐलान किया कि उन्नाव हादसे के संबंध में समाजवादी पार्टी शनिवार को सभी जिलों में शोक सभा आयोजित करेगी।

दोषी पुलिस और प्रशासन पर कार्यवाही: उमा भारती

पीड़िता की मौत से दुखी पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती (Uma Bharti) ने उप्र मुख्यमंत्री से सख्त कार्रवाई की मांग की है। उन्‍होंने कहा है कि उन्नाव की इस घटना के बाद ऐसी कार्रवाई हो कि उत्तर प्रदेश में महिलाओं की तरफ़ बुरी नज़र डालने वाले लोग भय से कांप उठे। उन्नाव की घटना से जुड़े जो भी पुलिस व प्रशासन दोषी पाए जाते हैं उनके खिलाफ कार्यवाही की जाए।

बता दें कि उन्नाव में रेप और उसके बाद हादसे का यह दूसरा बड़ा मामला है। इससे पहले आरोपी विधायक कुलदीप सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) पर उन्नाव की एक अन्य पीड़िता ने दुष्कर्म का आरोप लगाया था। पीड़िता ने मुख्यमंत्री आवास के सामने आत्मदाह का प्रयास किया तो मामला सुर्खियों में आया। इसके बाद अपने बयान में पीड़िता ने बताया कि 4 जून को सेंगर ने उसका रेप किया। आरोपी सेंगर को 13 अप्रैल, 2018 को गिरफ्तार कर लिया गया था। इसके बाद 28 जुलाई, 2019 को रायबरेली जा रही पीड़िता की कार को ट्रक ने टक्कर मारी। हादसे की साजिश रचने का आरोप कुलदीप सेंगर पर लगाया गया था।

ये भी पढ़ें: उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने तोड़ा दम, अब जिले में तीन साल की बच्ची हुई दरिंदगी का शिकार, मेडिकल के लिए भेजा अस्पताल

Show More
Karishma Lalwani
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned