प्रदूषण बोर्ड सख्त, तीन विभागों समेत 15 बिल्डरों को नोटिस

Dikshant Sharma

Publish: Nov, 15 2017 12:10:27 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
प्रदूषण बोर्ड सख्त, तीन विभागों समेत 15 बिल्डरों  को नोटिस

शहर में बिना ढके बनाए जा रहे मल्टीस्टोरी अपार्टमेंटों से राजधानी में वायु प्रदूषण गंभीर स्थिति में पहुंच गया है।

लखनऊ। शहर में बिना ढके बनाए जा रहे मल्टीस्टोरी अपार्टमेंटों से राजधानी में वायु प्रदूषण गंभीर स्थिति में पहुंच गया है। इसके साथ ही अधिकांश इलाकों में वाहनों के बढ़ते दबाव व नए तथा ध्वस्तीकरण निर्माण गतिविधियां स्मॉग उत्पन्न कर रही हैं। पिछले दिनों केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने एयर क्वालिटी इन्डेक्स को लेकर शहर का सर्वेक्षण कराया है। सर्वे के बाद इस प्रकार की स्थिति सामने आने के बाद दो दर्जन बिल्डरों को नोटिस भेजी गई है। इसके साथ ही आवास विकास, एलडीए, नगर आयुक्त तथा आरटीओ को भी नोटिस भेजकर धूल के नियंत्रण पर प्रतिबंध लगाने को कहा गया है।

सीपीसीबी ने यह सर्वेक्षण 10 नवंबर को किया है। इस सर्वेक्षण के बाद सीपीसीबी के क्षेत्रीय अधिकारी डॉ. राम करन की ओर से सभी विभागों को नोटिस भेजी गई है। इस सर्वेक्षण के अनुसार निर्धारित क्षमता से अधिक लोडेड वाहनों का आवागमन रिंग रोड व शहीद पथ, सुल्तानपुर रोड, फैजाबाद व रायबरेली रोड में पाया गया है। निर्माण सामग्री ढोए जाने वाले वाहन जो पूरी तरह से कवर्ड नहीं थे, आरईआईएम व शहीद पथ पर आवागमन करते हुए मिले।

निर्माण संबंधी गतिविधियों में चिनहट से विनम्र खंड रोड पर भूमिगत सीवर लाइन का काम, पॉलीटेक्रिक फैजाबाद रोड में विजयंत खंड-3, गोमती नगर में नवनिर्मित हास्पिटल बिल्डिंग, एकेडमिक ब्लाब, राम मनोहर लोहिया इन्स्टीट्यूट एंड मेडिकल सांइसेंज, वी 3/4 विभूति खंउ व कठौता चौराहा-गोमती नगर में स्थित पीबीबीएम इंटर कॉलेज में बिल्ंिडग मेंटीनेंस संबंधी कार्य तथा ऐशबाग रोड स्थित मोतीझील मेसर्स कुलदीप प्लाईवुड इंडस्ट्रीज के पास नवनिर्मित बहुमंजिला इमारम नींव निर्माण कार्य हो रहा है। इसमें निर्माण गतिविधियों से उत्पन्न धूल के नियंत्रण के लिए आवश्यक प्रबंध नहीं पाए गए तथा निर्माण सामग्रियों को उक्त स्थलों पर ढका हुआ नहीं पाया गया। ध्वस्तीकरण निर्माझा सामग्रीयां सर्विस रोड के किनारे अनियंत्रित रूप से रखी गई है।

दिसंबर-जनवरी तक बढ़ेगा एसपीएम
क्षेत्रीय अधिकारी डा. राम करन ने संबंधित विभागों को नोटिस भेजते हुए कहा है कि नवंबर में वायुमंडल में सस्पेंडेड पार्टिकुलेट मैटर का घनत्व बढ़ रहा है। दिसंबर से जनवरी मेंं और भी अधिक बढ़ सकता है। ऐसे में सड़कों की साफ सफाई रहें तथा सड़क के कच्चे किनारों पर नियमित जल का छिड़काव होने की व्यवस्था की जाए। ट्रैफिक व्यवस्था को इस प्रकार से नियंत्रित किया जाए कि शहर के मु य चौराहों में वाहनों का अधिक देर तक ठहराव न हो सके। निर्माण संबंधी गतिविधियों से उत्पन्न धूल के नियंत्रण के लिए निर्माण सामग्रियों पर निर्धारित स्थलों पर ढक कर रखा जाए। निर्माण सामग्री वाले वाहनों को भी कवर्ड करके ले जाया जाए।

इन बिल्डरों को दी गयी नोटिस

अजिया बोटैनिका, सेक्टर 11, वृंदावन योजना
सांजर बिल्डर एंड कांन्सट्रक्शन प्रा. लि, से. 2, वृंदावन योजना
एके बिल्डर, से. 1,वृंदावन योजना
कासा ग्रीन एकजाटिका, से. 17, वृंदावन योजना
आस्था इंटरप्राइजेज प्रा. लि, से. 17 वृंदावन योजना
गोवर्धन एन्क्लेव, से. 20, वृंदावन योजना
केहलो गार्डन सिटी-2, वृंदावन योजना
ड्रेजल हो स, वृंदावन योजना
कार्मशियल बिल्डिंग पल्स हास्पिटल, एसजीपीजीआई रोड
आवास विकास के एलआईजी भवन
एकेडमिक ब्लाक, राम मनोहर लोहिया इन्स्टीट्यूट, गोमती नगर
शालीमार गार्डेन वे, सीतापुर हरदोई रोड
एल्डिको सिटी, आईआईएम रोड
एल्डिको रेगालिया, आईआईएम रोड
एल्डिको लक्सा, सीतापुर रोड
सोपान एन्क्लेव, सीतापुर रोड

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned