पीएम के संसदीय क्षेत्र में कोरोना की संभावित तीसरी लहार से लड़ने के लिए महा तैयारी

शहर से गॉव तक कोविड पर क़ाबू पाने के तरीक़े और प्रबंधन के सिखाए जाएंगे गुर।

तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमित होने की सम्भावना को देखते हुए लगातार चल रहा प्रशिक्षण कार्यक्रम।

 

By: Ritesh Singh

Published: 27 Jul 2021, 08:14 PM IST

लखनऊ , कोरोना की तीसरी संभावित लहर को देखते हुए सरकार ने तैयारियां तेज़ कर दी है। वाराणसी में 29 जुलाई से शुरू हो रहे ट्रैंनिंग प्रोग्राम में दो हज़ार से अधिक लोग प्रशिक्षित होंगे । इसमें कोविड मैनेजमेंट से संबंधित सभी तरह के प्रशिक्षण दिए जाएंगे। स्वास्थ विभाग, नगर निगम ,राजस्व ,शिक्षा ,पंचायत ,आंगनबाड़ी,पुलिस समेत कई विभाग के कर्मचारियों को अलग-अलग प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम एक हफ़्ते का होगा।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना की पहली लहर को हराते हुए। दूसरी लहर के दौरान आइसोलेशन में रहते हुए भी कोरोना को मात देने की कमान संभाले थे। यही नहीं योगी आदित्यनाथ ग्राउंड जीरो पर उतर कर पूरे प्रदेश का दौरा किए। और कोरोना को क़ाबू में किए थे। कोरोना की तीसरी संभावित वेव की आशंका को देखते हुए सरकार पहले से तैयारी कर लेना चाहती है। इसके लिए सरकार वाराणसी में 29 जुलाई से बड़े पैमाने पर प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाने जा रही है।

ज़िलाधिकारी वाराणसी कौशल राज शर्मा ने बताया कि आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत संक्रमण से बचाव तथा प्रभावी प्रबंधन के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम कराया जा रहा है। पूरे प्रशिक्षण प्रोग्राम के लिये स्थान ,तिथि तय कर दिया गया है। नोडल अधिकारी व प्रशिक्षक भी निर्धारित कर दिए गए हैं। प्रशिक्षण का कार्यक्रम एक हफ़्ते तक चलेगा।

जिसमें कोविड प्रबंधन, डाटा मैनेजमेंट,फीडिंग , कॉल सेण्टर के लिए 194 राजस्व,स्वास्थ,शिक्षा,नगर निगम के लोगों को ट्रैंनिंग दिया जाएगा। सैम्पलिंग एवं टेस्टिंग, के लिए 250 स्वास्थ विभाग ,एलटी ,एलए, कर्मचारियों को प्रशिक्षित किया जाएगा।शिकायत निवारण प्रबंधन के लिए 50 लोग स्वास्थ विभाग ,राजस्व विभाग ,नगर निगम ,पुलिस व विधुत विभाग के लोग प्रशिक्षित होंगे।

डेड बाडी डिस्पोजल के लिए 50 लोग प्रशिक्षण लेंगे जिसमे स्वास्थ विभाग ,नगर निगम , शव वाहिनी चालक प्रबंधक ,घाट ड्यूटी कर्मचारी होंगे। दवा वितरण, के काम में राजस्व विभाग,स्वास्थ विभाग,पंचायत विभाग आंगनबाड़ी के कर्मचारी रहेंगे। हॉस्पिटल व एम्बुलेंस प्रबंधन के लिए 50 कर्मचारी ट्रेंनिग लेंगे जिसमे स्वास्थ विभाग,राजस्व विभाग ,पुलिस विभाग ,जिला स्तरीय अधिकारी प्रशिक्षण लेंगे ।

ऑक्सीजन आपूर्ति एवं प्रबंधन के लिए 56 लोग जिसमें स्वास्थ विभाग,राजस्व विभाग ,जिला स्तरीय अधिकारी ट्रैंनिंग लेंगे। कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए 400 लोग बेसिक शिक्षा विभाग ,स्वास्थ विभाग से प्रशिक्षित होंगे। आरआरटी के लिए 300 लोग स्वास्थ विभाग ,डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ़ प्रशिक्षण लेंगे। क्लस्टर प्लान के लिए स्वास्थ विभाग स्टाफ ट्रैंनिंग लेगा। निगरानी समिति, कंटेनमेंट ज़ोन व सैनिटाइजेशन, के लिए अलग से 5 व 6 अगस्त को ब्लॉक पीएचसी,सीएचसी जोन मुख्यालय पर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned