इमामबाड़े में डांस का वीडियो वायरल, मिनी स्कर्ट पहनकर आने पर रोक, फोटोग्राफी और वीडियो लेने पर भी मनाही

Prohibition on coming to Imambara wearing mini skirt- लखनऊ के ऐतिहासिक और मशहूर इमामबाड़ा (Imambada) में लड़कियों के मिनी स्कर्ट (Mini Skirt) पहनकर आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फैसला सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो के आधार पर हुसैनाबाद ट्रस्ट ने लिया है जो प्रतिष्ठित स्मारकों की देखभाल करते हैं।

By: Karishma Lalwani

Published: 04 Oct 2021, 04:44 PM IST

लखनऊ. Prohibition on coming to Imambara wearing mini skirt. लखनऊ के ऐतिहासिक और मशहूर इमामबाड़ा (Imambada) में लड़कियों के मिनी स्कर्ट (Mini Skirt) पहनकर आने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। यह फैसला सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक वीडियो के आधार पर हुसैनाबाद ट्रस्ट ने लिया है जो प्रतिष्ठित स्मारकों की देखभाल करते हैं। फोटोग्राफी और वीडियो लेने पर भी मनाही है। वीडियो में एक लड़की इमामबाड़ा में नाचती नजर आ रही है। इस वीडियो पर कई तीखी टिप्पणियां की गई हैं। वहीं, इस मामले में योगी सरकार के मंत्री मोहसिन रजा ने जांच के आदेश दिए हैं।

शिया मौलवियों ने की आलोचना

कई शिया मौलवियों ने इस घटना की तीखी आलोचना की और इमामबाड़े की यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए सख्त नियमों की मांग की है, जिसका उपयोग शिया मुसलमानों द्वारा मुहर्रम के दौरान शोक सभा आयोजित करने के लिए किया जाता है। शिया धर्मगुरु मौलाना सैफ अब्बास ने कहा, “यह एक गंभीर मामला है। जांच होनी चाहिए और लड़की के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए। इमामबाड़ा केवल एक पर्यटन स्थल नहीं है। यह एक धार्मिक स्थान भी है और इसके परिसर के अंदर इस तरह की गतिविधियों की अनुमति नहीं दी जा सकती है।

शॉर्ट्स या मिनी स्कर्ट की इजाजत नहीं

ट्रस्ट के एक पदाधिकारी ने कहा, “हम लड़कियों को शॉर्ट्स या मिनी स्कर्ट में अनुमति नहीं दे रहे हैं।” स्मारक 1784 में अवध के चौथे नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा एक प्रमुख अकाल राहत परियोजना के रूप में बनाया गया था। इसका केंद्रीय हॉल लकड़ी, लोहे या पत्थर के बीम के किसी भी प्रकार के समर्थन के बिना दुनिया के सबसे बड़े धनुषाकार हॉलों में से एक माना जाता है।

ये भी पढ़ें: खीरी जिले की घटना के बाद वाराणसी में अलर्ट जारी, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन पर पुलिस तैनात

ये भी पढ़ें: मिनटों में बदलें आधार में लगी तस्वीर, क्षेत्रीय भाषा में भी बनवा सकते हैं आधार कार्ड

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned