निगरानी समितियों को सौंपी गई लक्षणयुक्त बच्चों में वितरित होने वाली मेडिसिन किट

18 साल से अधिक उम्र के लोगों से कोविड टीकाकरण की भी अपील की

 

By: Ritesh Singh

Published: 27 Jun 2021, 07:44 PM IST

लखनऊ, कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बच्चों को सुरक्षित बनाने को लेकर सरकार हर स्तर पर तैयारी में जुटी है। इसी के मद्देनजर मुख्यामंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना लक्षण युक्त बच्चों में निगरानी समिति के माध्यम से मेडिसिन किट वितरित करने के निर्देश दिए थे। इसी क्रम में रविवार को कोरोना के लक्षण वाले शून्य से 18 वर्ष के बच्चों को कोरोना से बचाव के लिए घर बैठे दवाई मुहैया कराने के उद्देश्य से सभी शहरी एवं ग्रामीण सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर बच्चों की मेडिसिन किट का वितरण शुरू हुआ। राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति सिंह ने सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र (सीएचसी) सरोजिनी नगर में बच्चों के लिए दवा किट निगरानी समिति को सौंपी। इस मौके पर स्वाति सिंह ने कहा- कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा यह कदम उठाया गया है, जिसके तहत निगरानी समिति को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गयी है। जिस घर में भी कोरोना के लक्षण से पीड़ित बच्चे मिलेंगे, यह निगरानी समितियां उन्हें यह मेडिकल किट उपलब्ध करायेंगी। उन्होंने 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों से कोरोना का टीका लगवाने की अपील भी की।

सिल्वर जुबली सीएचसी में राज्य मंत्री डा. मोहसिन रजा ने बच्चों के लिए दवा किट निगरानी समिति को सौंपी । इस मौके पर उन्होंने कहा- बच्चों को कोरोना की संभावित तीसरी लहर से बचाने के लिए सरकार द्वारा हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं लेकिन हमें भी सावधानी बरतनी है | 18 साल से अधिक आयु के लोगों को कोरोना का टीका तो लगवाना ही है, साथ ही हमें कोरोना से बचाव के प्रोटोकॉल जैसे मास्क पहनना, दो गज की सामाजिक दूरी का पालन करना और बार –बार साबुन और पानी से हाथ भी धोना है । मोहनलालगंज क्षेत्र के सांसद कौशल किशोर ने सीएचसी मोहनलालगंज और गोसाईगंज में निगरानी समिति को बच्चों की मेडिकल किट सौंपी। इस मौके पर उन्होंने कहा- संभावित तीसरी लहर में बच्चों के संक्रमण का अंदेशा है। इसी को ध्यान में रखते हुए यह किट निगरानी समितियों को सौंपी जा रही हैं । वह इस जिम्मेदारी को समझें और इन दवाओं का आवश्यकतानुसार वितरण सुनश्चित करें ।

अलीगंज सीएचसी पर मेडिकल किट का वितरण करते हुए विधायक नीरज बोरा ने कहा- निगरानी समिति के माध्यम से हम घर-घर तक बच्चों के लिए मेडिकल किट उपलब्ध करा रहे हैं ताकि हम कोरोना की संभावित तीसरी लहर से अपने बच्चों को सुरक्षित रख पायें। साथ ही बच्चों के अभिभावक व जो भी 18 से 44 साल और 45 साल से अधिक आयु के लोग हैं वह कोविड का टीका जरूर लगवाएं क्योंकि कोविड से बचाव का एकमात्र उपाय कोविड का टीकाकरण है। सीएचसी माल, महिलाबाद और काकोरी में विधायक जय देवी कौशल ने बच्चों की मेडिसिन किट का वितरण करते हुए कहा- सभी निगरानी समितियाँ कोरोना के लक्षण से पीड़ित बच्चों के मिलने पर प्राथमिकता के आधार पर मेडिकल किट का वितरण करें । अभी तक निगरानी समितियों ने अच्छा काम किया है | आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता द्वारा घर-घर जाकर कोविड के लक्षण वाले मरीजों को जो स्क्रीनिंग की गयी है उसके कारण ही हम कोरोना की दूसरी लहर पर विजय पा सके हैं।

यूसीएचसी नवल किशोर रोड तथा रेडक्रॉस पर विधायक डेंजिल जे गोडिन ने निगरानी समिति को बच्चों की मेडिसिन किट का वितरण किया। इस मौके पर डेंजिल जे गॉडिन ने कहा- कोरोना के संभावित मरीजों की स्क्रीनिंग हो या बच्चों को मेडिकल किट बाँटना यह सभी काम बहुत अहम् है जो निगरानी समितियों को सौंपे गए हैं। पहले भी इन समितियों ने अपने काम को बखूबी निभाया है । उन्हें जो जिम्मेदारी दी गयी है वह आगे भी उसे अच्छे से निभाएंगी। सीएचसी चन्दन नगर पर विधायक सुरेश तिवारी ने मेडिकल किट निगरानी समिति को सौंपते हुए निगरानी समिति द्वारा किये जा रहे कामों की प्रशंसा की और साथ ही में लोगों से कोरोना का टीका लगवाने और कोरोना से बचाव के प्रोटोकॉल का पालन करने की अपील की।

सीएचसी बक्शी का तालाब और चिनहट पर बक्शी का तालाब क्षेत्र के विधायक अविनाश त्रिवेदी ने निगरानी समिति के सदस्यों को बच्चों के लिए मेडिकल किट सौंपे । इस मौके पर उन्होंने कहा- निगरानी समिति की सक्रिय भागीदारी का परिणाम है कि हम कोरोना को हरा पा रहे हैं । यह समितियां आगे भी इसी सक्रियता से अपनी भागीदारी सुनिश्चित करेंगी। कोरोना अभी गया नहीं है इसलिए लापरवाही नहीं बरतनी है । कोरोना का टीका लगवाकर खुद को और अपने बच्चों को सुरक्षित करना है।

Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned