'बुलेट ट्रेन से आखिर कौन चलेगा? टिकट का किराया 10-15 हजार रुपए होगा'

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सवाल किया है कि बुलेट ट्रेन पर आखिर कौन चलेगा। 'यूपी उद्घोष' कार्यक्रम के जरिए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए गांधी ने कहा कि रेल विभाग का कुल बजट एक लाख चालीस हजार करोड रुपये है।

By:

Published: 29 Jul 2016, 05:24 PM IST

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से सवाल किया है कि बुलेट ट्रेन पर आखिर कौन चलेगा। 'यूपी उद्घोष' कार्यक्रम के जरिए उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए गांधी ने कहा कि रेल विभाग का कुल बजट एक लाख चालीस हजार करोड रुपये है। मोदी एक लाख करोड रुपये की लागत से सिर्फ बुलेट ट्रेन चलवाना चाहते हैं। बुलेट ट्रेन का टिकट 10-15 हजार रुपये में होगा। उस पर कौन चलेगा। केवल सूट -बूट वाले ही चलेंगे। मोदी सरकार केवल तीन -चार घरानो के लिए काम कर रही है। 



कहां जा रहे हैं दाल के 150 रुपए

रैम्प पर टहल-टहल कर कार्यकर्ताओं के सवालों का जवाब देते हुए गांधी ने कहा कि केन्द्र सरकार ने गरीब की थाली से दाल गायब कर दिया है। संयुक्त प्रगतिशील गठबन्धन (संप्रग) सरकार में किसान से 45 रुपये में खरीदकर बाजार में 75 रुपये में दाल बिकती थी लेकिन इस समय 50 रुपये में खरीदकर 200 रुपये में बेची जा रही है, 150 रुपये कहां जा रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि अपने पसन्दीदा तीन-चार उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए गरीब की थाली से दाल गायब कर दिया है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा), समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) झूठ की राजनीति करती है। प्रधानमंत्री ने चुनाव के दौरान बहुत सारे वायदे किये थे, एक भी पूरा नहीं किया। कांग्रेस झूठ की राजनीति नहीं करती। उन्होंने कार्यकर्ताओं से कांग्रेस के लिए बोलना और संघर्ष का आह्वान किया।



बीजेपी शासित राज्यों में दलितों को मारा जा रहा

गांधी ने कहा कि भाजपा शासित गुजरात, मध्य प्रदेश, हरियाणा में दलितों को मारा जा रहा है। देश में कमजोरों को दबाया जा रहा है। प्रश्न पूछने वाले कार्यकर्ता का नाम और उसके सवाल को पार्टी की पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी बोल रही थीं और उसका जवाब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी रैम्प पर टहल-टहल कर दे रहे थे। सवाल पूछने वाले कार्यकर्ता को खड़ा भी किया जा रहा था ताकि गांधी उसे पहचान सकें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कमजोर की रीढ बननी होगी। कांग्रेस कार्यकर्ता अपनी ताकत को पहचाने। कांग्रेस कार्यकर्ता यदि एक साथ खड़े हो गये तो दूसरे को जगह ही नहीं मिलेगी। 



शीला विकास का चेहरा

शीला दीक्षित को मुख्यमंत्री के रुप में पेश करने के लिए उठे सवाल पर उन्होंने कहा कि शीला जी अनुभवी हैं। उन्होंने दिल्ली में बहुत काम किया है। वह विकास का चेहरा हैं। कार्यकर्ताओं से जनता के बीच जाने की अपील करते हुए उन्होंने कहा, 'जिसका कुर्ता फटेगा, मैला होगा मौका भी उसी को मिलेगा। जमीन पर काम करने वाले कार्यकर्ताओं को उठाया जायेगा।'



थाने बने राजनीतिक कार्यालय

विशेष रूप से तैयार 50 सवालों की प्रश्नावली का जवाब देते हुये कांग्रेस उपाध्यक्ष कहा कि जनता को राहत पहुंचाने के मकसद से स्थापित किये गये थाने सपा सरकार राजनीतिक कार्यालय बन गये हैं। कांग्रेस की सत्ता आयी तो थाने में सिर्फ पुलिसकर्मी ही बैठेंगे। उन्होंने कहा कि 27 साल में विभिन्न पार्टियों ने उत्तर प्रदेश को बेहाल कर दिया है। उन्होंने कहा कि महंगाई समेत अन्य समस्याओं की खातिर कार्यकर्ता आन्दोलन के लिये तैयार रहें। बारिश की वजह से लग रहा था कि कार्यक्रम में व्यवधान पड जायेगा लेकिन गांधी के पहुंचने के थोडी देर पहले बरसात थम गयी और कार्यक्रम निर्धारित समय पर शुरु हो गया। 



इंदिरा गांधी से को भी कार्यकर्ता मिल सकता था आपसे क्यों नहीं?

भदोही के विकास यादव के सवाल पर गांधी ने कहा कि अब वह हर सप्ताह राज्य में जनता दर्शन का कार्यक्रम आयोजित करेंगे। उनसे पूछा गया था कि इन्दिरा गांधी के समय में उनसे कोई भी कार्यकर्ता मिल सकता था लेकिन आपके समय में ऐसा नहीं ही है। चित्रकूट के भरत निषाद और प्रवीण खरे के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर उत्तर प्रदेश में मनरेगा के साथ ही यूपीए सरकार के दौरान बनी योजनाओं को सटीक ढंग से लागू किया जायेगा। 



जातियों में बांटकर संघर्ष कराने की कोशिश

PM मोदी और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ पर दलितों को दबाने का आरोप लगाते हुये उन्होने कहा कि कांग्रेस दलितों की आवाज को दबने नहीं देगी। कांग्रेस दलितों और कमजोरों के साथ है। दलितों और कमजोरों की लडाई कांग्रेस हमेशा लड़ती रही है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश को जातियों में बांटकर संघर्ष कराने की कोशिश की गयी। धर्म के आधार पर बांटने की साजिश की गयी। कांग्रेस की सरकार आने पर जाति और धर्म का भेदभाव मिटाया जायेगा। 



किसानों के हित के लिए संघर्ष होगा

गांधी ने कहा कि किसानों के हित के लिए संघर्ष किया जायेगा। गन्ना किसानों के बकाये मूल्य का भुगतान कराया जायेगा। स्वास्थ्य और शिक्षा की बेहतर व्यवस्था की जायेगी। केन्द्र में जब कांग्रेस की सरकार थी तो राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन योजना शुरु की गयी थी। उसका लाभ अब सबको मिल रहा है। इस अवसर पर कांग्रेस की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार शीला दीक्षित, महासचिव और प्रदेश प्रभारी गुलाम नबी आजाद, चुनाव प्रचार अभियान समिति के समन्वयक संजय सिंह, वरिष्ठ नेता प्रमोद तिवारी और प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर भी मौजूद थे। बीच बीच में आजाद और दीक्षित भी कार्यकर्ताओं के सवालों का जवाब दे रहीं थीं। 






pm modi Narendra Modi
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned