नवाबों के शहर पहुंची राजस्थानी डांसिंग क्वीन कही अपने दिल की बात

अभिनय के क्षेत्र में भी आजमा रहीं है हाथ

By: Ritesh Singh

Published: 03 Dec 2019, 02:13 PM IST

Ritesh Singh

लखनऊ राजस्थानी फोक डांसर निष्ठा अग्रवाल जिन्होंने बेहद कम समय में डांस की दुनिया में बड़ा नाम कमा लिया है। उनकी इस कला के दीवाने भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में भी हैं। यही वजह है कि उनसे राजस्थानी फोक डांस सीखने के लिए देश ही नहीं विदेशी छात्राओं की लम्बी कतार लगी रहती है। राजस्थानी उभरती डांसिंग क्वीन नवाबों के शहर लखनऊ में अपने एक खास इवेंट प्रोग्राम में आई थी। इसी बीच हमारी फोटो जर्नलिस्ट रितेश सिंह से उन्होंने अपने डासिंग कैरियर, अपने संघर्ष और अपने परिवार की ढेर सारी बातें शेयर की।

मां के डर की वजह से मिला मुकाम

किसी ने सही ही कहाकि हैं जब एक मां अपने बच्चों को लेकर जो जिम्मेदारी निभा सकती हैं उसकी जगह कोई और नहीं ले सकता क्योंकि मां तो मां ही होती हैं। इस सवाल पर डांसिंग क्वीन निष्ठा अग्रवाल ने बताया कि डांस का शौक बचपन से ही था लेकिन मां के अनुशासन की वजह से आज यहां तक पहुंची हूं। उन्होंने कहाकि मैं आलस करने की जब भी सोचती थी मां मुझे इस कदर मोटिवेट करती थी कि मैं डांस, पढ़ाई दोनों को अच्छे से कर पाती थी। इसलिए मेरी जीवन को बेहतर बनाने में मेरी मां का बहुत योगदान हैं।

अभिनय के क्षेत्र में भी आजमा रहीं है हाथ

निष्ठा अग्रवाल बताती हैं कि नृत्य के माध्यम से अभिनय करना कोई आसान नहीं होता हर एक फीलिंग को नृत्य के माध्यम से समझाना उतनी ही टेढ़ी खीर होती हैं जितना की तलवार, कांच और कीलों पर खड़े होकर नृत्य करना। उन्होंने बताया कि मेरा घूमर एल्बम पार्श्व गायिका अनुराधा पौडवाल के साथ था वह काफी लोकप्रिय हुआ। स्व संगीतकार रविंद्र जैन के साथ भी मंच पर प्रस्तुति दे चुकी हूं। निष्ठा ने कहाकि वो यह सब तब कर पा रही जब उनका परिवार उनका साथ दे रहा। शायद मैं अकेले ना कर पाती।

शादी के बाद नहीं आया बदलाव

निष्ठा ने बतायाकि हमारी शादी को कई साल हो चुके है हमारा बेबी भी हैं लेकिन कभी भी हमारे ससुरालवालों ने मेरे काम को लेकर मुझे नहीं रोका। उन्होंने कहाकि मेरे मां,पिता और पति का बहुत ही सहयोग मिलता हैं मुझे कभी लगा ही नहीं कि मैं अपने ससुराल में हूं। जब मैं बाहर इवेंट के लिए जाती हूँ तो मेरी सासु मां मेरा बहुत सपोर्ट करती हैं।

विदेशों से भी विद्यार्थी आते हैं डांस सीखने

निष्ठा अग्रवाल ने बतायाकि विदेशो में हमारे देश की संस्कृति को पसंद किया जाता हैं हमारे राजस्थानी लोक नृत्य को सीखने के लिए ब्राजील, बेल्जियम, फ्रांस, चीन से विदेशी विद्यार्थी आते हैं। उनके लिए हमारी यह क्लास स्पेशल होती हैं। अच्छा लगता हैं जब हमारी संस्कृति को विदेशो में सराहा जाता हैं। उन्होंने कहाकि मैं अपने लोक नृत्य और उसकी संस्कृति को आगे लेकर जाना चाहती हूँ जब मैं ना भी रहू तो मेरे नाम से लोग मेरे संस्कृति को याद करें और आगे बढ़ाएं।

महिलाओं से खास अपील

उत्तर प्रदेश से डांसिंग क्वीन को बहुत ही लगाव हैं, उन्होंने कहाकि मैं अक्सर लखनऊ आती रहती हूं लेकिन कुछ ऐसे भी अनुभव हैं जिनको शेयर जरूर करना चाहिए ऐसा मेरा मानना हैं। मैं भी एक महिला हूं मुझे अपने मायके और ससुराल दोनों से बहुत ही सपोर्ट रहता हैं लेकिन बहुत सी महिलाएं हैं जो अपने संकोची नेचर की वजह से अपने पति और ससुराल के किसी भी सदस्य से बात नहीं कर पाती। इसका कारण मैं नहीं जानती लेकिन अगर वो अपने अंदर के हुन्नर के बारे में अपने घर और ससुराल में कहेगी तो उनको जरूर जरूर मौका मिलेगा। यह मेरा विश्वास हैं।

Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned