सवर्ण आरक्षण को AAP ने बताया बीजेपी का चुनावी जुमला, राजबब्बर बोले- कांग्रेस भी देना चाहती थी अपर कास्ट को रिजर्वेशन

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने की घोषणा की है।

By: Hariom Dwivedi

Updated: 07 Jan 2019, 07:34 PM IST


लखनऊ. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने की घोषणा की है। केंद्रीय कैबिनेट में इस फैसले को सहमति मिल गई है। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले इसे बीजेपी का मास्ट्रर स्ट्रोक माना जा रहा है। इस फैसले से भाजपाई उत्साहित हैं। आम आदमी पार्टी ने इसे चुनावी जुमला करार दिया है तो कांग्रेस का मानना है कि बीजेपी के इस फैसले से कांग्रेस पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा।

कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने मोदी सरकार द्वारा आर्थिक रूप से कमजोर सवर्णों को आरक्षण देने के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस भी पिछड़े सवर्णों को आरक्षण देना चाहती थी, लेकिन किन्हीं कारणों से ये मुमकिन नहीं हो सका। मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि बीजेपी सरकार का यह फैसला कहीं सिर्फ जुमेलबाजी ही न साबित हो जाए। कहा कि मोदी सरकार के इस फैसले से कांग्रेस को लोकसभा चुनाव में कोई नुकसान नहीं होगा।

सवर्णों का आरक्षण बीजेपी का चुनावी जुमला : आम आदमी पार्टी
आम आदमी पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता सभाजीत सिंह ने आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण देने के फैसले को चुनावी जुमला करार दिया। उन्होंने कहा कि साढ़े चार सालों में अब सत्ता से विदाई के वक्त बीजेपी को सवर्णों की याद आई है। सभाजीत सिंह ने कहा कि गरीब सवर्णों को आरक्षण देने के लिए सरकार संसद का विशेष सत्र बुलाये और संविधान संशोधन करे, नहीं तो यह केवल चुनावी जुमला ही माना जाएगा।

AAP BJP Narendra Modi
Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned