scriptRakesh Tikait hero of farmers after PM Modi Farm Laws Repeal | Farm Laws: आंदोलन सफल होने के साथ बड़े नेता के तौर पर उभरे राकेश टिकैत, रजानीति पार्टियों ने किया कटाक्ष | Patrika News

Farm Laws: आंदोलन सफल होने के साथ बड़े नेता के तौर पर उभरे राकेश टिकैत, रजानीति पार्टियों ने किया कटाक्ष

26 जनवरी को लालकिले पर हुई ट्रैक्टर रैली और हिंसा के बाद किसान आंदोलन खत्म होने जा रहा था तब राकेश टिकैत ने अपने आंसुओं ने इस आंदोलन में एक बार फिर से खड़ा किया। आंदोलन की कामयाबी के बाद राकेश टिकैत किसानों के बड़े नेता के तौर पर उभरे हैं।

लखनऊ

Published: November 19, 2021 04:09:07 pm

लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किसान बिल वापसी के ऐलान के बाद किसानों में उत्साह है वहीं आगामी विधानसभा चुनाव में किसान बिल वापसी को बड़ा मुद्दा माना जा रहा है। मोदी के फैसले के बाद अन्य राजनीतिक पार्टियों ने अपनी प्रतिक्रियाएं दी हैं। दूसरी ओर सोशल मीडिया पर लोग खूब प्रतिक्रिया दे रहे हैं। आंदोलन के सफल होने के बाद राकेट टिकैत किसानों के बड़े नेता के तौर पर उपऱ के सामने आएं हैं।
rakesh_tikat.jpg
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा है कि यह देश किसानों ने बनाया है, यह देश किसानों का है, किसान ही इस देश का सच्चा रखवाला है और कोई सरकार किसानों के हित को कुचलकर इस देश को नहीं चला सकती। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि अमीरों की भाजपा सरकान ने भूमि अधिग्रहण व काले क़ानूनों से ग़रीबों-किसानों को ठगना चाहा। सपा की पूर्वांचल की विजय यात्रा के जन समर्थन से डरकर काले-क़ानून वापस ले लिया गया। भाजपा बताए सैंकड़ों किसानों की मौत के दोषियों को सज़ा कब मिलेगी। बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि केंद्र सरकार ने विवादित कानूनों को वापस लेने की घोषणा अति देर से की, यदि यह फैसला केंद्र सरकार पहले ही ले लेती तो देश अनेकों प्रकार के झगड़े व झंझटों से बच जाता। जयंत चौधरी अध्यक्ष राष्ट्री लोक दल यह किसान की जीत है, हम सब की जीत है। देश की जीत है।
किसान आन्दोलन के हीरो बने टिकैत

केंद्र सरकार ने कृषि में सुधार के तीनों नए कानूनों को वापस ले का एलान कर दिया है। भारतीय किसान यूनियन कृषि कानूनों की वापसी पर सबसे ज्यादा खुश नजर आ रही है, जिसके अगुवा राकेश टिकैत और नरेश टिकैत बड़े किसान नेता बनकर उभरे हैं। 11 महीने से ज्यादा चले किसान आंदोलन में राकेश टिकैत ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। राकेश टिकैत और नरेश टिकैत के साथ सैकड़ों किसान अपना घर बार छोड़कर गाजीपुर बॉर्डर पर जमे हुए थे। अब कृषि कानून की वापसी पर राकेश टिकैत सबसे बड़े किसान नेता के रूप में उभरे हैं। 26 जनवरी को लालकिले पर हुई ट्रैक्टर रैली और हिंसा के बाद किसान आंदोलन खत्म होने जा रहा था तब राकेश टिकैत ने अपने आंसुओं ने इस आंदोलन में एक बार फिर से खड़ा किया। आंदोलन की कामयाबी के बाद राकेश टिकैत किसानों के बड़े नेता के तौर पर उभरे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Numerology: कम उम्र में ही अच्छी सफलता हासिल कर लेते हैं इन 3 तारीखों में जन्मे लोगहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीweather update: राजस्थान के इन जिलों में हुई बारिश, जानें आगे कैसा रहेगा मौसमतत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal Loan

बड़ी खबरें

भारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोहेट स्पीच को लेकर हिन्दू संगठन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट, कहा-मुस्लिम नेताओं की भी हो गिरफ्तारीPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलना5 मैच 4 शतक 603 रन फिर भी प्लेइंग XI से बाहर रुतुराज गायकवाड़, केएल राहुल हुए जमकर ट्रोलशिक्षकों ने टूरिस्ट प्लेस सा बना दिया सरकारी स्कूल, फर्राटेदार अंग्रेजी बोलते हैं बच्चेरोज लोगों से मिलने वाले सांसद, पूर्व सांसद, विधायक और भाजपा नेताओं को पुलिस ने कोर्ट में बताया फरार, फिर सुर्खियों में झंडा विवाद
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.