scriptRakesh Tikaits disclosure on kisan union 22 farmer leaders want to ele | राकेश टिकैत का खुलासा: 22 किसान नेता चुनाव लड़ना चाहते थे, उन्ही के साथ मिलकर मेरा विरोध किया जा रहा | Patrika News

राकेश टिकैत का खुलासा: 22 किसान नेता चुनाव लड़ना चाहते थे, उन्ही के साथ मिलकर मेरा विरोध किया जा रहा

देश के सबसे बड़े किसान संगठन भारतीय किसान यूनियन के संस्थापक चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत की 11 वीं पुण्यतिथि पर जंहा आज देश भर का किसान स्व: बाबा महेंद्र सिंह टिकैत को याद कर उन्हें श्रधांजलि दे रहा था। वहीं देश के सबसे बड़े किसान आंदोलन से किसानो के बड़े नेता के रूप में उभरे राकेश टिकैत की विचारधारा से अलग होकर नए संगठन को बना रहे थे। जिसका खुलकर जवाब टिकैत ने दिया है।

लखनऊ

Updated: May 15, 2022 08:42:09 pm

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रिय प्रवक्ता चौधरी राकेश टिकैत ने देर शाम मुज़फ्फरनगर में स्तिथ अपने आवास पर एक पत्रकारवार्ता के दौरान बताया कि, सोशल मीडिया पर एक खबर चल रही है बड़ी गलतफहमी की खबर चल रही है। भारतीय किसान यूनियन अलग हुआ है। कुछ हमारे पुराने साथी जीने हम छोटे-छोटे गांव से निकाल कर लाए थे उनको हमने बड़े पदों पर बिठाया है। इस संगठन में 30 - 35 साल काम किया है। संयुक्त किसान मोर्चा में भी साढ़े पांच सो किसान संगठन है। जो भी संगठन छोड़ कर गया है उसने अपना अलग संगठन बनाया।
Rakesh Tikait Leader
Rakesh Tikait Leader
कुछ लोग राजनीतिक रूप से प्रेरित होकर जा रहे

भारतीय किसान यूनियन संगठन को जो भी लोग छोड़ कर जा रहे हैं। उनका अब भारतीय किसान यूनियन संगठन से कोई संबंध नहीं है। 2 दिन बाद हरियाणा के करनाल में हमारी कार्यकारिणी की मीटिंग है इस मीटिंग में 7- 8 राज्यों के किसान आ रहे हैं 18 तारीख को वह मीटिंग होनी है। हमारा जो रजिस्ट्रेशन है वह भारतीय किसान यूनियन के नाम से है उन लोगों ने भारतीय किसान यूनियन राजनैतिक के नाम से संगठन बनाया है। हमारे बाइलॉज में यह है कि हम कोई चुनाव नहीं लड़ेगे इसलिए हमारा संगठन अराजनीतिक है। और जो भी भारतीय किसान यूनियन को छोड़कर जाएगा और अपना संगठन बनाता है तो वह भारतीय किसान यूनियन के आगे कोई भी नाम लगा सकता है। 13 महीने जिन लोगों ने कृषि बिल का विरोध किया संयुक्त किसान मोर्चा के मीटिंग में जाते रहे आंदोलन में वह लोग लंगर और भंडारा चलाते रहे और आज वह लोग कृषि बिल को बढ़िया बता रहे हैं। हम उन्हें मनाने गए थे उनसे बातचीत भी हुई थी लेकिन हमें यह लगा कि वह लोग किसी अंडर प्रेशर में काम कर रहे हैं। हमारे किसी से राजनीतिक संबंध नहीं है हमारे तो अराजनीतिक संबंध है आंदोलन के संबंध है। उन्होंने स्पष्ट कर दिया था कि उनके ऊपर बहुत बड़ा प्रेशर है मजबूरी है। इस सरकार में नहीं लगता कि वह लोग फिर से घर वापसी करेंगे। पुराने लोग गए हैं दुख तो होगा ही याद आएगी उन लोगों की।
22 लोग चाहते थे विधानसभा चुनाव लड़ना

चौधरी राकेश टिकैत ने कहा कि कुछ नाराजगी का कारण यह भी है कि संगठन के 22 लोग विधानसभा चुनाव भूमि टिकट की मांग कर रहे थे राजनीतिक है इस वजह से उन्हें किसी राजनीतिक दल से कोई मतलब नहीं है और ना ही किसी राजनीतिक दल के टिकट से तो इसलिए वह लोग संगठन छोड़ कर चले गए हैं उन्होंने अपना अलग संगठन बना लिया जो लोग उस संगठन में गए हैं अब उनका भारतीय किसान यूनियन से कोई मतलब नहीं है।
जो संगठन छोडकर गए थे उनका मकसद राजनीति करना

राकेश टिकैत ने कहा कि, जो भी संगठन छोड़कर दूसरे संगठन में गए हैं उनका ऑटोमेटिक इस संगठन भारतीय किसान यूनियन से पद खत्म हो गया है अब वह इस संगठन के कार्यकर्ता भी नहीं रहे हैं। वह लोग क्यों इस संगठन को छोड़कर दूसरे संगठन में गए हैं यह जानकारी तो वही दे सकते हैं। उनके जाने से संगठन पर कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि संगठन तो जनता चलाती है। भारतीय किसान यूनियन संगठन को कोई पदाधिकारी नहीं बल्कि जनता चलाती है। जनता में विश्वास रहना चाहिए। आज चौधरी महेंद्र सिंह टिकैत की पुण्यतिथि पर दो जगह प्रोग्राम था पहला प्रोग्राम सिसौली में था और दूसरा प्रोग्राम लखनऊ में था। लखनऊ में उन लोगों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की है। उनके जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा भारतीय किसान यूनियन की जो लड़ाई चल रही है किसानों की समस्याओं को लेकर वह चलती रहेगी। हमारी कार्यकारिणी जो बनी हुई है वही है अभी बंद नहीं हुई है।
एक पदाधिकारी के रहते दूसरे को कैसे नियुक्त किया

राकेश टिकैत ने कहा कि, एक राष्ट्रीय पदाधिकारी संगठन को छोड़कर गया है दूसरा भी पदाधिकारी था वह भी छोड़ कर गया है। सोशल मीडिया पर तो अफवाह चलती रहती है। वह हमें क्या हटाएंगे यह संगठन उनका थोड़ा ही है यह तो हमारा संगठन है। उन्होंने तो आज अपना नया संगठन बनाया है। इसलिए हम उनके मेंबर कैसे हुए। जो आदमी इस संगठन को छोड़कर गया है वह हमें कैसे हटा देगा।:

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहार कैबिनेट पर दिल्ली में मंथन, आज शाम सोनिया गांधी से मिलेंगे तेजस्वी यादव, 2024 के PM कैंडिडेट पर बोले नीतीश कुमारCoronavirus News Live Updates in India : राजस्थान में एक्टिव मरीज 4 हजार के पारडिप्टी सीएम बनने के बाद आज पहली बार लालू यादव से मिलेंगे तेजस्वी यादव, मंत्रालयों के बंटवारे पर होगी चर्चाRajasthan BSP : 6 विधायकों के 'झटके' से उबरने की कवायद, सुप्रीमो Mayawati की 'हिदायत' पर हो रहा कामJammu Kashmir: कश्मीर में एक और बिहारी मजदूर की हत्या, बांदीपोरा में आतंकियों ने मोहम्मद अमरेज को मारी गोलीबिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार 'बिहार वृक्ष सुरक्षा दिवस' कार्यक्रम में हुए शामिल, पेड़ को बांधी राखी, कहा - वृक्ष की भी होनी चाहिए रक्षाअमरीका: गर्भपात के मामले में फेसबुक ने पुलिस से शेयर की माँ-बेटी की चैट हिस्ट्री, अमरीका से लेकर भारत तक रोष, निजता के अधिकार पर उठे सवालLegends league के लिए पाकिस्तानी क्रिकेटरों को वीजा देगा भारत?, BCCI अधिकारी ने कही ये बात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.