लखनऊ , ‘‘रमजान शरीफ और डायबिटीज’’ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। इस अवसर पर आयोजित पत्रकार वार्ता में डायबिटीज रोग विशेषक डा. ए के तिवारी ने कहा कि अफ्तार से सेहरी तक पानी और तरल पदार्थों का सेवन अधिक से अधिक करे। टाइप टू डायबिटीज के मरीज कुछ एहतियात के साथ रोजा रख सकते हैं। अबकी बार रोजा 16 घंटे से अधिक का है। ऐसे में गरमी और उमस के कारण शरीर में तरावट बनाये रखना सबसे जरूरी है।

यह लोग रोजा रख सकते हैं

डा0 एके तिवारी ने कहा कि रोजा में उन लोगों को विशेष सावधानी रखनी चाहिए जो मधुमेह के मरीज। इन्हें कुछ विशेष सावधानी रखनी चाहिए। बूढ़े लोग, दूध पिलानी वाली महिलाएं, गर्भवती महिलाएं एवं जो लोग इन्सुलिन लेते है उनके लिए रोजा रखना मुनासिब नहीं होता है। 20 वर्ष से अधिक आयु के टाइप 2 मधुमेह रोगी जिन की शुगर नियंत्रित है और जिनमें कोई जटिलताएं जैसे की गुर्दें में असर, दिल की बीमारी आदि नहीं है, वह लोग रोजा रख सकते हैं।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned