scriptRats gnawed the entire bridge the investigation revealed a shocking ch | चूहों ने कुतर डाला पूरा पुल, जाँच में हैरान कर देने वाला हुआ खुलासा | Patrika News

चूहों ने कुतर डाला पूरा पुल, जाँच में हैरान कर देने वाला हुआ खुलासा

अभी तक आपने चूहों द्वारा खाद्यान का नुकसान या घर में कपड़ों का नुकसान, बिजली के तार काट देने से हुए नुकसान या फिर इस तरह के कुछ और नुकसान के बारे में सुना होगा। मगर कभी सुना है कि चूहों ने पुल ही कुतर डाला। जी हाँ ये मामला सामने आया है उत्तर प्रदेश के कानपुर में।

लखनऊ

Published: October 23, 2021 01:24:20 pm

कानपुर. जिले में चूहों का आतंक इस कदर है कि उन्होंने एक पुल ही कुतर डाला। सुनने में थोड़ा अजीब भले लगे लेकिन ये सच है चूहों द्वारा पुल को कुतरने से सेतु निगम को 40 करोड़ रुपये झटका लगा है। मामला यहाँ के खपरा मोहाल फ्लाईओवर का है। यहाँ चूहों ने फ्लाईओवर के रैम्प को कुतर-कुतर कर इतना खोखला कर दिया कि बारिश के दौरान पुल तीन बार धँस गया। पहले तो सेतु निगम को समझ में नहीं आया कि आखिरकार पुल धँसा कैसे। मगर जब उनकी तकनीकी टीम ने जाँच की तो उनके होश उड़ गये।
Rat
बिजली फाल्ट करने के पीछे चूहों की कारस्तानी तो आपने कई बार सुनी होगी, लेकिन आपको जानकर यह हैरानी होगी कि चूहों की वजह से 40 करोड़ का नुकसान हो गया। लेकिन सच यही है कि 40 करोड़ से बनाया गया खपरा मोहाल फ्लाईओवर को चूहों ने कुतर डाला। चूहों ने रैम्प में छेद दर छेद कर पहले अपना बसेरा बनाया फिर इसे आर-पार खोखला कर दिया। बारिश हुई तो रैम्प की बालू बह गई और पुल तीन बार धंस गया। खपरा मोहाल पुल के बार-बार धंसने की सेतु निगम ने जांच भी कराई। निगम की तकनीकी टीम ने जांच की तो उसकी हवाइयां उड़ गई। पता चला कि बगल में रेलवे गोदाम से चूहे बीते कई महीनों से आ रहे हैं लेकिन कोरोना काल में जब लॉकडाउन हुआ तो सन्नाटा पाकर रैम्प के अंदर (रेलवे स्टेश्न की तरफ) चूहों की आमद तेज होने लगी। चूहों ने रैम्प में दोनों तरफ कई छेद कर रास्ते बना लिए।
इसी सीजन में अगस्त में जब भारी बारिश हुई तो रैम्प की सड़क धंस गई और रैम्प की बालू बहकर खपरामोहाल की सर्विस लेन पर बहने लगी। सेतु निगम ने मामूली मरम्मत कर पुल को चालू कर दिया। इसके बाद सितम्बर में भारी बारिश ने फिर से पुल की सड़क को धंसा दिया। तब सेतु निगम ने रैम्प के ऊपरी छोर पर धंसी सड़क के बड़े हिस्से पर सीसी निर्माण कर इतिश्री कर ली। बीते सोमवार को भारी बारिश ने मरम्मत की पोल खोल दी और पुल की सड़क फिर धंस गई। इसी के बाद सेतु निगम ने तकनीकी टीम ने जांच कराई तो पता चला कि चूहों ने रैम्प में नीचे की तरफ छेद कर रास्ता बना लिया और जब बारिश हुई तो बालू बहने लगी इसी से पूरा रैम्प खतरनाक हो गया। जांच में यह भी सामने आया कि रैम्प में बालू की जगह पर राबिश का इस्तेमाल किया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.