शोध: नीतियों में सुधार से यूपी पुलिस के प्रदर्शन में हो सकता है 60 फीसदी का सुधार

Dhirendra Singh

Publish: Oct, 13 2017 04:39:38 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
शोध: नीतियों में सुधार से यूपी पुलिस के प्रदर्शन में हो सकता है 60 फीसदी का सुधार

रिसर्च के मुताबिक सही नीतियों के जरिये यूपी पुलिस में हो सकते हैं बड़ बदलाव।

लखनऊ. आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर द्वारा आईआईएम लखनऊ में फेलोशिप प्रोग्राम के लिए किये गए शोध से यह बात सामने आई है कि स्थानंतरण, प्रोन्नति, पुरस्कार सहित मानव प्रबंधन नीतियों में सुधार से पुलिस के प्रदर्शन में 60 फीसदी तक सुधार आ सकता है। जबकि इससे पुलिसवालों की कार्य के प्रति संतुष्टि में 70 फीसदी तक इजाफा होगा। शोध के अनुसार उत्तर प्रदेश में पुलिस वालों पर पड़ने वाले भारी तनाव के कारण उनका प्रदर्शन लगभग एक-तिहाई कम हो रहा है, जबकि पुलिसवालों की अपने कार्य में संतुष्टि घट कर आधी रह गई है।

यह भी पढ़ें : वैक्यूम क्लीनर और ट्रॉली बैग की पाइप में छिपाया 1 करोड़ का सोना, एयरपोर्ट पर ऐसे पकड़ा

शोध के अनुसार अच्छे पुलिस नेतृत्व से पुलिस के प्रदर्शन में 45 फीसदी तक बढ़ोत्तरी होती है। जबकि यह पुलिसवालों के अपने कार्य में संतुष्टि को 55 फीसदी बढ़ाता है। अमिताभ ने उत्तर प्रदेश के 933 पुलिसकर्मियों का सर्वेक्षण कर वैज्ञानिक ढंग से ये निष्कर्ष निकाले हैं।

यह भी पढ़ें : मुख्यमंत्री की चेतावनी दीपावली और छठ पर मोहर्रम जैसी हिंसा हुई तो नपेंगे अफसर

शोध के अनुसार पुलिस के कार्यों पर नेतृत्व और मानव प्रबंधन का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है, जबकि विभागीय तनाव का गंभीर विपरीत प्रभाव पड़ता है। शोध से यह सामने आया कि भावनात्मक प्रज्ञा (इमोशनल इंटेलिजेंस) के जरिये बेहतर पुलिसिंग की जा सकती है। यह भी पाया गया कि यूपी पुलिस में तनाव सामान्य से बहुत अधिक है, जिसमे भारी कमी की जरुरत है।

यह भी पढ़ें : दीपावली में आतिशबाजी से पहले जान ले ये नियम, नहीं तो हो सकती है जेल

अमिताभ ने इस हेतु 02 साल का अध्ययन अवकाश लिया था और सेवा में आने के बाद अपना शोध कार्य जारी रखा था। उन्होंने आईआईएम लखनऊ के प्रो० पंकज कुमार, हिमांशु राय और पुष्पेन्द्र प्रियदर्शी के अधीन अपना शोध कार्य किया।

यह भी पढ़ें : Video- यूपी पुलिस मार गिराए 22 कुख्यात, एनकाउंटर का आकड़ा रोज बदला रहा

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned