बसपा के बागी विधायकों ने लगाये गंभीर आरोप, कहा- प्रस्तावक के तौर पर फर्जी दस्तखत जमा किए गए

बसपा के पांच विधायकों ने पार्टी प्रत्याशी रामजी गौतम के प्रस्तावक बनने से किया इनकार, नाम लिया वापस

By: Hariom Dwivedi

Updated: 28 Oct 2020, 03:32 PM IST

लखनऊ. बसपा के 5 विधायकों ने अपनी ही पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी है। बागी विधायकों ने बसपा के राज्यसभा उम्मीदवार रामजी गौतम के प्रस्तावक से अपना नाम वापस ले लिया है। इस दौरान उन्होंने बहुजन समाज पार्टी पर गंभीर आरोप लगाये हैं। बागी विधायकों ने मायावती पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि प्रस्तावक के तौर पर उनके फर्जी दस्तखत जमा किए गए। पार्टी के उम्मीदवार रामजी गौतम के नामांकन के समय उनमें से कोई मौजूद नहीं था। इन सबने निर्वाचन अधिकारी से मिल कर गौतम का पर्चा खारिज करने की मांग की है।

श्रावस्ती के भिनगा से बसपा विधायक असलम राईनी ने कहा कि उनके साथ धोखा हुआ है। उन्होंने बताया कि चार विधायकों ने लिखकर दिया है कि राम जी गौतम के प्रस्तावक के रूप में उन लोगों ने दस्तखत नहीं किया। उनके फर्जी हस्ताक्षर बनाए गए हैं।

विधायक राईनी के बेटे व प्रतिनिधि आतिफ असलम ने कहा कि कूटरचित हस्ताक्षर के लिए वह विधिक कार्रवाई करेंगे। फर्जी हस्ताक्षर की शिकायत करने वाले विधायकों में मुज्तबा सिद्दीकी, हाकिम लाल बिंद व असलम चौधरी हैं। इतना ही नहीं राईनी ने बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा पर देख लेने व जान से मरवाने की धमकी देने का आरोप भी लगाया है।

राज्यसभा चुनाव में प्रत्याशी के प्रस्तावक के रूप में 10 विधायकों का होना जरूरी होता है। लेकिन, अब बसपा के पांच विधायकों ने अपना प्रस्ताव वापस ले लिया है। ऐसे में अब स्क्रूटनी के दौरान बसपा प्रत्याशी का नामांकन रद्द होना तय माना जा रहा है। ऐसे में अगर बसपा प्रत्याशी का नामांकन रद्द होता है तो सपा समर्थित प्रकाश बजाज की राह थोड़ी आसान हो सकती है।

यह भी पढ़ें : अखिलेश के इशारे पर बसपा में बगावत! मायावती के ये 5 विधायक सपा में हो सकते हैं शामिल

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned