इटावा बीएसए के भ्रष्टाचार पर मुख्य सचिव ने मांगी रिपोर्ट, जानिए कौन है वास्तविक दोषी

इटावा बीएसए के भ्रष्टाचार पर मुख्य सचिव ने मांगी रिपोर्ट, जानिए कौन है वास्तविक दोषी

Anil Ankur | Updated: 12 Jun 2019, 09:49:35 PM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

15 दिनों के अन्दर आख्या उपलब्ध कराई जाए

 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रतिनिधि मण्डल द्वारा इटावा में तैनात बेसिक शिक्षा अधिकारी के भ्रष्टाचारी प्रकरणों पर जाँच कर कार्यवाही न किये जाने की शिकायत को गम्भीरता से लेते हुए प्रदेश के मुख्य सचिव ने प्रकरण में 15 दिनों के भीतर रिपोर्ट तलब की है। मुख्य सचिव ने इस मामले में सीधे मण्डलायुक्त को लिखा है कि राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद द्वारा 29 मई 19 को दिए गए शिकायती पत्र के आधार पर 15 दिनों के अन्दर आख्या उपलब्ध कराई जाए।


मीडिया प्रभारी मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी, महामंत्री शिव बरन सिंह यादव और संगठन मंत्री संजीव गुप्ता ने मुख्य सचिव डा. अनूप चन्द पाण्डेय को लिखित रूप से अवगत कराया था कि इटावा में तैनात बेसिक शिक्षा अधिकारी भ्रष्टाचार में संलिप्त है। इनके द्वारा शिक्षकांे का भी शोषण किया जा रहा है। इटावा में तैनात बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा तमाम भ्रश्टाचार के उदाहरण एवं साक्ष्य देने के बाद इसकी जाँच हेतु आपने भी आदेश दिये थे। मुख्य विकास अधिकारी द्वारा भी जाँच की जा रही है परन्तु सभी प्रकरण को दबाने का कार्य कर रहे है। इस प्रकरण में आप द्वारा निदेशक, बेसिक शिक्षा को प्रशासकीय जाँच समिति बनाकर परिषद के अध्यक्ष हरिकिशोर तिवारी का पक्ष सुनने का भी निर्देश दिये गया था लेकिन उपरोक्त बेसिक शिक्षा अधिकारी अपनी सांठ-गांठ से जाँच नही होने दे रहे है। इसके साथ ही उक्त बीएसए जाँच में गवाही दे रहे पदाधिकारी/सदस्यों का स्थानान्तरण आदि का उत्पीड़न कर रहे। इस शिकायत के आधार पर मुख्य सचिव ने मण्डलायुक्त कानपुर से इस प्रकरण में 15 दिनों में आख्या तलब की है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned