कारगिल युद्ध के शहीदों काे नमन करते हुए सीएम ने उनके परिवारों काे किया सम्मानित

शहीदों के परिवारों काे सम्मानित करते हुए सीएम ने कहा कि एक सिपाही की मौत कौम की जिन्दगी होती है, एक जवान जब शहीद होता है तो वह कौम को नई जिन्दगी देता है नई प्रेरणा प्रदान करता है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर ‘वीरता और सम्मान’ पुस्तक का विमोचन भी किया

By: shivmani tyagi

Updated: 27 Jul 2021, 11:29 AM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

लखनऊ. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ( Chief Minister Yogi Adityanath ) ने कारगिल विजय दिवस के अवसर पर कारगिल युद्ध के शहीदों के परिवारीजनों को सम्मानित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने कारगिल शहीद स्मृति वाटिका में स्थापित कारगिल युद्ध में शहीद सैनिकों की प्रतिमाओं पर पुष्प चढ़ाकर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि भी दी।

यह भी पढ़ें: विकास की दौड़ में दूसरे राज्यों काे पछाड़कर 60 अंकों के साथ आगे बढ़ रहा यूपी

कारगिल शहीदों को नमन करते हुए मुख्यमंत्री जी ने कहा कि भारत माता के महान सपूतों और वीर जवानों की सतर्कता, सजगता, मातृभूमि के प्रति उनके समर्पण और अद्भुत बलिदान के कारण ही हम सब न केवल स्वाधीनता का अनुभव करते हैं, बल्कि एक सुरक्षित माहौल में चैन से अपना गुजर-बसर करते हैं। इसलिए कहा जाता है कि शहीद की मौत ही कौम की जिन्दगी होती है। एक जवान जब शहीद होता है, तो वह कौम को नई जिन्दगी देता है, नई प्रेरणा प्रदान करता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीनेशन अपडेट : अब कोरोना टीकाकरण की दूसरी डोज लेने वालों को मिलेगी वरीयता

सीएम ने कहा कि मई 1999 में पड़ोसी राष्ट्र ने षड़यंत्र के तहत कारगिल युद्ध देश पर थोपा था। कारगिल की चोटियों पर एक साजिश के तहत दुश्मन देश ने कब्जा कर भारतीय सेना को निशाना बनाना शुरू कर दिया था। विपरित परिस्थितियों के बावजूद मात्र दो से ढाई माह में भारत के बहादुर जवानों ने दुश्मन को वहां से भाग खड़ा होने के लिए मजबूर कर दिया था। तब से 26 जुलाई की तिथि को पूरा देश कारगिल विजय दिवस के रूप में मनाता है। अमर शहीदों के प्रति सम्मान और श्रद्धा व्यक्त करने, उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए पूरे देश में बड़े गौरव और सम्मान के साथ यह आयोजन सम्पन्न होता है।

यह भी पढ़ें: बिना रोक-टोक यूपी आ सकते हैं गोवा, उड़ीसा के लोग, नहीं दिखानी पड़ेगी कोविड-19 या वैक्सीनेशन रिपोर्ट

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह विजय दिवस हमारे लिए गौरव और गरिमा का अवसर है। 22 वर्ष पूर्व 1999 में दुश्मन देश को बुरी तरह परास्त करते हुए कारगिल पर विजय प्राप्त करके दुनिया के सामने भारतीय सेना के शौर्य और पराक्रम का लोहा एक बार फिर से मनवाया था। उन्होंने शहीद सैनिकों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए शहीदों के परिवारीजन को आश्वस्त किया कि राज्य सरकार सदैव उनके साथ खड़ी रहेगी। भारत के बहादुर जवानों की सजगता का ही यह परिणाम है कि आज विपरीत परिस्थितियों के बावजूद भारत पूरी मजबूती के साथ अपनी सीमाओं की सुरक्षा करने और बड़े से बड़े षड़यंत्र को विफल करने में सक्षम है। भारत के बहादुर जवानों के पुरुषार्थ के परिणामस्वरूप 136 करोड़ की आबादी स्वयं को सुरक्षित महसूस करती है। वीर जवानों के प्रति सम्मान का भाव रखने के साथ-साथ समाज का उनके परिजनों के प्रति सम्बल बहुत महत्वपूर्ण है, ताकि वे हतोत्साहित न हों हमें यह विस्मृत नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना में 7 लाख 81 हजार बालिकाएं लाभान्वित

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि हमारी उपासना विधियां अलग-अलग हो सकती हैं, खान-पान अलग-अलग हो सकता है। रहन-सहन अलग-अलग हो सकता है, बोली-भाषा अलग-अलग हो सकती है, लेकिन हमारा धर्म एक है और वह धर्म है राष्ट्र धर्म। राष्ट्र धर्म के लिए प्रत्येक भारतीय को प्राणपण से जुट करके अपनी सेना, अर्द्धसैनिक बलों और सुरक्षा से जुड़े सभी जवानों के मनोबल को सदैव बनाए रखने का पूरा प्रयास करना चाहिए। सीएम नेकहा कि चार वर्षों में राज्य सरकार ने कुछ निर्णय किए हैं। युवा पीढ़ी के अच्छे प्रशिक्षण की व्यवस्था के साथ-साथ सेना में हमारे युवाओं को अवसर मिल सके, इसके लिए राज्य सरकार ने सैनिक स्कूल की स्थापना की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाया है। केन्द्र सरकार के नए बजट में देश में 100 नए सैनिक स्कूल की स्थापना प्रस्तावित किये जाने पर उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश में मण्डल मुख्यालय स्तर पर नए सैनिक स्कूल को खोलने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जा रहा है। प्रशिक्षण, अनुशासन तथा राष्ट्र के प्रति समर्पण की अद्भुत मिसाल सैनिक स्कूल के माध्यम से प्रस्तुत की जा सकती है।

यह भी पढ़ें: Weather Update: अगले तीन दिन किसानों के साथ आम आदमी को भी रुलाएगा मौसम, छिटपुट हो सकती है बरसात

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में सैनिक स्कूलों का शुभारम्भ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ से हुआ था। कैप्टन मनोज पाण्डेय, लखनऊ सैनिक स्कूल की ही देन थे, जिन्हें कारगिल युद्ध में सर्वोच्च बलिदान देने के लिए भारत के सर्वोच्च रक्षा सम्मान परमवीर चक्र से अलंकृत किया गया था। इसलिए हमारी सरकार ने कैप्टन मनोज पाण्डेय के नाम पर लखनऊ सैनिक स्कूल का नामकरण भी किया। उत्तर प्रदेश में वर्तमान में चार सैनिक स्कूल संचालित हैं। पांचवें सैनिक स्कूल का शिलान्यास जनपद गोरखपुर में हाल ही में सम्पन्न हुआ है।

यह भी पढ़ें: योगी सरकार की सबसे बड़ी कार्रवाई, यूपी के इस माफिया की तोड़ी कमर, कैरियर इंस्टीट्यूट की अरबों की संपत्ति कराई कुर्क

अर्द्धसैनिक बलों तथा पुलिस के प्रदेश के बहादुर जवानों की शहादत पर राज्य सरकार शहीद के परिवार को अपनी ओर से 50 लाख रुपये की सहायता प्रदान करती है। साथ ही, परिवार के एक सदस्य का शासकीय सेवा में समायोजन, शहीद के नाम पर उनके जनपद में एक भवन या मार्ग के नामकरण के साथ-साथ उनका स्मारक बनाने की कार्यवाही भी प्रारम्भ की गई है। सैनिकों, पूर्व सैनिकों, सेना अर्द्धसैन्य बलों में कार्यरत जवानों को सम्बल देने के लिए राज्य सरकार निरन्तर प्रयास कर रही है।
इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने लखनऊ के शहीद सैनिकों के परिवारीजनों का सम्मान किया। उन्होंने परमवीर चक्र विजेता कैप्टन मनोज पाण्डेय, मेजर रितेश शर्मा, राइफलमैन सुनील जंग के परिवारीजनों को सम्मानित किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने उत्तर प्रदेश के रणबांकुरों के साहस, शौर्य, पराक्रम और उनकी शौर्य गाथाओं पर केन्द्रित पुस्तक ‘वीरता और सम्मान’ का विमोचन किया। कार्यक्रम में सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास निदेशालय की तरफ से मुख्यमंत्री जी को स्मृति चिन्ह भी भेंट किया गया।
चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना ने देश की आजादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने तथा सीमा की रक्षा करते हुए प्राणों का बलिदान देने वाले सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने कहा कि आज विशेष रूप से कारगिल विजय दिवस मनाने के पीछे यह उद्देश्य है कि देश को सुरक्षित रखने में हमारे वीर सैनिकों ने जो बलिदान एवं कुर्बानियां दी हैं, उसे याद कर उनसे प्रेरणा लें।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी बोले खत्म नहीं हुआ है कोरोना, बचाव और इलाज के लिये टी-3 पर जोर, वैक्सिनेशन में तेजी लाने का निर्देश

यह भी पढ़ें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मार्च में करेंगे जेवर एयरपोर्ट का भूमि पूजन; पोर्न मूवी मामले में राज कुंद्रा का वाराणसी कनेक्शन

shivmani tyagi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned