लखनऊ. समाजवादी सेकुलर मोर्चा का गठन करने के बाद शिवपाल जमीन पर इस संगठन को मजबूत करने में लग गए हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को अपनी ताकत दिखाने की शुरुआत उन्होंने कर दी है। मंगलवार को श्री कृष्ण वाहिनी के राज्य प्रतिनिधि सम्मेलन में उन्होंने कंस,रावण का उदाहरण देकर एक तरफ अखिलेश पर तंज कसे तो दूसरी ओर से समाजवादी पार्टी से दुरी बनाने का कारण भी बता दिया। वह बोले , ''मुझे पद की लालसा नहीं थी। मुझे बस सम्मान चाहिए था जो एक बुजुर्ग नेता का होना चाहिए। ये सम्मान मुझे सपा में नेतृत्व परिवर्तन के बाद नहीं मिला। मैं अलग नहीं होना चाहता था, कई बार सोचा लेकिन मजबूरी में ये कदम उठाया। सम्मान के लिए ये कदम उठाया। ''

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned