2022 में विपक्षी दलों से मुकाबले को 'सीक्रेट कैंप' में तैयार हो रहे सपा के सूरमा

ट्रेनिंग कैम्प की किसी को भी फोटो खींचने या वीडियो बनाने की इजाजत नहीं है और न ही मीटिंग के लिए पार्टी की ओर से किसी तरह का प्रचार किया जा रहा है

By: Hariom Dwivedi

Published: 21 Jan 2021, 03:09 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
लखनऊ. यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में बीजेपी को मात देने के लिए समाजवादी पार्टी सीक्रेट ट्रेनिंग कैम्पों में सूरमा तैयार कर रही है। मंडल स्तर पर ऐसे कार्यकर्ताओं की लिस्ट तैयार की गई है जो पार्टी के प्रति पूरी तरह से समर्पित हैं और सक्रिय हैं। सीक्रेट ट्रेनिंग कैम्प में इन्हें मैनेजमेंट गुरुओं से लेकर पार्टी के कई वरिष्ठ नेता प्रशिक्षित कर रहे हैं और बीजेपी सहित तमाम विपक्षी पार्टियों से मुकाबले का मंत्र दे रहे हैं। यहां उन्हें बताया जा रहा है कि किस तरह से विपक्षी पार्टियों की योजाना का नाकाम करना है। साथ ही कार्यकर्ताओं को अनुशासन और सोशल मीडिया मैनेजमेंट का पाठ भी पढ़ाया जा रहा है।

उत्तर प्रदेश के बरेली में समाजवादी पार्टी का तीन दिवसीय ट्रेनिंग कैम्प चल रहा है। इस सीक्रेट ट्रेनिंग कैंप में बरेली मंडल के 2500 कार्यकर्ताओं को खास ट्रेनिंग दी जा रही है। सभी 25 विधानसभा से 100-100 कार्यकर्ताओं को सिलेक्ट किया गया है। बुधवार से शुरू हुए इस कैम्प के पहले दिन सपा प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम ने कार्यकर्ताओं को अनुशासन का पाठ पढ़ाया और हाईकमान के निर्देशों पर चलने की सीख दी। इसके बाद मुख्य ट्रेनर एसए राय, वी पांडेय और जावेद अली ने अलग-अलग सेशन लिए।

गुरुवार को सपा प्रमुख अखिलेश यादव व पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता भी बरेली पहुंचे और सीक्रेट ट्रेनिंग कैम्प में कार्यकर्ताओं को जीत का मंत्र दिया। अखिलेश यादव बरेली में दो दिन रहेंगे। इस दौरान वह पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ-साथ मंडल के मौजूदा विधायकों व पूर्व विधायकों संग बैठक कर रुहेलखंड का मिजाज भी समझने की कोशिश करेंगे। कैम्प के समापन के बाद शुक्रवार को उनके लखनऊ लौटने का कार्यक्रम है।

बरेली में सपा का चौथा प्रशिक्षण शिविर
समाजवादी पार्टी ने यूपी के सभी मंडलों में ऐसे सीक्रेट ट्रेनिंग कैम्प की रणनीति बनाई है। बरेली से पहले चित्रकूट, कानपुर और श्रावस्ती मंडल में भी ऐसे ही सीक्रेट कैम्प लग चुके हैं। सीक्रेट कैम्प में सपा के राजनीतिक रणनीतिकार माने जा रहे एसए राय और वी पांडेय के अलावा सपा के कई दिग्गज नेता जुझारू कार्यकर्ताओं की फौज तैयार कर रहे हैं। कैम्प में कार्यकर्ताओं को वैचारिक स्तर पर मजबूत करने के साथ ही सोशल मीडिया मैनेजमेंट का भी ज्ञान दिया जा रहा है। नाम न छापने की शर्त पर पार्टी के नेता ने बताया कि इस कैम्प में पार्टी के कमिटेड नेताओं को बुलाया जाता है। किसी को भी इस कैम्प की फोटो खींचने या वीडियो बनाने की इजाजत नहीं है। और न ही मीटिंग के लिए पार्टी की ओर से किसी तरह का प्रचार किया जा रहा है। कैंप का मकसद 2022 के लिए कार्यकर्ताओं को पूरी तरह से तैयार करना है।

यह भी पढ़ें : पंचायत चुनाव से पहले बीजेपी का बड़ा दांव, पीएम ने 6 लाख लोगों को दी सौगात

Show More
Hariom Dwivedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned