पटेल की जयंती के बहाने इस वोट बैंक को अपना बनाने की कोशिश में सपा!

पटेल की जयंती के बहाने इस वोट बैंक को अपना बनाने की कोशिश में सपा!
Akhilesh Yadav

Shatrudhan Gupta | Updated: 30 Oct 2017, 09:00:36 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

समाजवादी पार्टी पूर्व उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पहली बार कुछ अलग अंदाज में मनाने जा रही है।

लखनऊ. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में मात खा चुकी समाजवादी पार्टी अब कोई भी ऐसा मौका नहीं छोडऩा चाहती, जिससे उसका वोट बैंक इधर-उधर चला जाए। पार्टी हर उस समाज को साधने की कोशिश में जुटी है, जो उसे नगर निगम चुनाव में जीत दिला सके। दरअसल, समाजवादी पार्टी पूर्व उप प्रधानमंत्री सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पहली बार कुछ अलग अंदाज में मनाने जा रही है। राजधानी लखनऊ स्थित पार्टी कार्यालय में इसको लेकर तैयारियां तेज हैं। सियासी जानकार मानते हैं कि यूपी में रहने वाली करीब सात प्रतिशत कुर्मी बिरादरी सपा को 2019 के लक्ष्य हासिल करने में अहम योगदान देगी।

समाजवादी पार्टी कार्यालय में भव्य पंडाल और कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। ३१ अक्टूबर (मंगलवार) सुबह 11 बजे शुरू होने वाले सरदार पटेल के जन्म दिन कार्यक्रम में पूर्व मुख्यमंत्री व पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मुख्य अतिथि होंगे। बताते चलें कि इससे पहले पार्टी दफ्तर में 31 अक्टूबर का कार्यक्रम सिर्फ औपचारिकता होती थी। समारोह कुछ मिनटों का ही होता था। चूंकि, नगर निकाय चुनाव की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है और सभी पार्टियां मतदाताओं को रिझाने में जुट गई हैं। वहीं, समाजवादी पार्टी की नजर भी कुर्मी वोट बैंक पर है। वह सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के सहारे कुर्मी वोट बैंक पर अपना पकड़ मजबूत करना चाहती है, ताकि उसे निकाय चुनाव में इसका फायदा मिल सके। यही कारण है इस साल पार्टी ने सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंकी कुछ अलग अंदाज में मनाने की तैयारी की है।

इस कार्यक्रम को भव्यता प्रदान करने के लिए वरिष्ठ नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी गई है। सूत्र बताते हैं कि सपा के इस कार्यक्रम में प्रदेश भर के कुर्मी बिरादरी के लगभग 10 हजार प्रतिनिधि शामिल होंगे। मालूम हो कि पिछले महीने प्रदेश सम्मेलन में अखिलेश यादव ने प्रदेश की जिम्मेदारी नरेश उत्तर पटेल को सौंपी थी। पटेल भी कुर्मी बिरादरी से ताल्लुक रखते हैं। वहीं, पार्टी ने पटेल की जयंती कार्यक्रम का संयोजक पूर्व कैबिनेट मंत्री राम मूर्ति वर्मा को बनाया गया है। वह भी इसी समाज से आते हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned