स्कूल मैनेजमेंट कमेटी का लखनऊ मेें द्वितीय वार्षिक राज्य स्तरीय सम्मेलन हुआ आयोजित

Abhishek Gupta

Publish: Nov, 14 2017 10:29:01 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
स्कूल मैनेजमेंट कमेटी का लखनऊ मेें द्वितीय वार्षिक राज्य स्तरीय सम्मेलन हुआ आयोजित

सरकारी अधिकारियों, पंचायत तथा एनजीओ सहित 200 से अधिक प्रतिभागियों ने भागीदारी की.

लखनऊ. शिक्षा का अधिकार (आरटीई) अधिनियम के अंतर्गत की गई संकल्पना के अनुसार सभी बच्चोें की गुणवत्तापूर्ण बुनियादी शिक्षा सुनिश्चित करने के संदर्भ में चुनौतियों को समझने तथा स्कूल मैनेजमेंट कमेटियों को एक मंच प्रदान करने के उद्देश्य से अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन ने उत्तर प्रदेश में अपने सहभागी संगठन लोकमित्र के साथ मिलकर एक राज्य स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया। इस आयोजन में राज्य के 30 जिलोें के एसएमसी सदस्यों, पंचायत प्रमुखों, शासकीय विद्यालय के शिक्षकों, सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए), राज्य शैक्षणिक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान (एससीईआरटी), शिक्षा विभाग के अधिकारियों, शिक्षक संघ तथा गैर सरकारी संगठनों सहित लगभग 200 लोगों ने प्रतिभाग किया।

इस अवसर पर अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन के कार्यक्रम प्रमुख सजित मेनन ने कहा ‘‘एआईएफ ने एसएमसी तथा विद्यालयी शिक्षा प्रणाली के विभिन्न भागीदारों मेें साझी समझ एवं सहयोग को बढ़ावा देने के लिए राज्य स्तरीय एसएमसी सम्मेलन का आयोजन किया है।"

शिक्षा के क्षेत्र में अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन 6 राज्यों में एसएमसी की क्षमता को मजबूत करने की दिशा में शिक्षा के अधिकार (आरटीई) अधिनियम के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए कार्य कर रहा है। विगत कई वर्षो से अपने लर्निंग एण्ड माइग्रेशन प्रोग्राम (लैम्प) के माध्यम से अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन तथा इसके सहभागियों ने आरटीई अधिनियम के विभिन्न पहलुओं - जैसे कि एसएमसी सदस्यों के चयन का मापदण्ड, भूमिका तथा दायित्वों तथा विद्यालय विकास योजनाओं (एसडीपी) तैयार करने के लिए लगभग 100,000 एसएमसी सदस्यों, पंचायत, प्रतिनिधियों तथा अन्य को प्रशिक्षित कर चुका है।

शिक्षा के क्षेत्र में अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन का लर्निंग एण्ड माइग्रेशन प्रोग्राम (लैम्प) एक सिग्नेचर प्रोग्राम है जो अधिक प्रवजन वाले क्षेत्रों के बच्चों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा हासिल करने की सुविधा प्रदान करता है तथा सरकारों तथा समुदायों के सामने शिक्षा के वैश्विक अधिकारों का पक्ष भी रखता है।

2004 से अमेरिका इंडिया फाउण्डेशन ने लगभग 11 राज्यों के प्रवासी परिवारों के बच्चों के साथ काम करते हुए 4,00,000 से अधिक बच्चों के जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास किया है। उत्तर प्रदेश में अमेरिका इंडिया फाउण्डेशन और लोकमित्र ने पूरे राज्य के एसएमसी तथा शिक्षा के भागीदारों को एक साथ लाकर राज्य में प्रारम्भिक शिक्षा में हो रहे सुधार के बारे में सकारात्मक चर्चा हेतु एसएमसीज की सफलताओं तथ चुनौतियों को प्रदर्शित किया है।
सम्पादकों के लिए नोट:

द अमेरिका इंडिया फाउण्डेशन (एआईएफ) के बारे में:
महिलाओे के लिए लैंगिक समानता हासिल करने तथा लडकियों का सशक्तिकरण करने पर खास जोर देते हुए शिक्षा, जीवनयापन, लोक स्वास्थ्य तथा नेतृत्व विकास में उच्च प्रभावयुक्त हस्तक्षेप के माध्यम से अमेरिका और भारत के बीच सेतु निर्माण करने तथा भारत में गरीबी उन्मूलन, सामाजिक तथा आर्थिक परिवर्तन में उत्पे्ररण के लिए द अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन प्रतिबद्ध है। स्थानीय समुदायों के साथ नजदीकी से काम करते हुए एआईएफ ने दीर्घकालीन प्रभाव को निर्मित कर उसे बढाने के लिए सरकारोें के साथ नवाचार समाधान विकसित कर उनका परीक्षण करने के लिए एनजीओ के साथ भागीदारी की है। भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी से प्राप्त सुझावों का अनुसरण करते हुए अमेरिका के राष्ट्रपति बिल क्लिंटन की पहल पर 2001 में स्थापित एआईएफ ने भारत के 3.7 मिलियन गरीबोें के जीवन पर सकारात्मक प्रभाव डाला है तथा 2018-19 तक इस संख्या को 5 मिलियन तक पहुंचाने का लक्ष्य है। अधिक जानकारी के लिए ूूूण्ंपण्वितह पर विजिट करें।

शिक्षा के क्षेत्र में द अमेरिकन इंडिया फाउण्डेशन का द लर्निंग एण्ड माइग्रेशन प्रोग्राम (लैम्प) अधिक प्रवजन वाले क्षेत्रों के बच्चों को गुणवत्तायुक्त शिक्षा हासिल करने की सुविधा प्रदान करता है तथा सरकारों तथा समुदायों के सामने शिक्षा के वैश्विक अधिकारों का पक्ष भी रखता है तथा मौसमी रोजगार के लिए प्रवास करने के कारण स्कूल छोडने वाले दुर्गम जिलों में अति वंचित परिवारों के साथ काम करता है। लैम्प यह सुनिश्चित करने के लिए काम करता है कि यह बच्चे विद्यालयों मे बने रहें, उनका बुनियादी कौशल का सुदृढ विकास हो तथा सेकेण्डरी स्कूल में उनकी संख्या में सुधार आए। 2004 में आरंभ एआईएफ के लैम्प ने 4,00,000 से अधिक बच्चों के जीवन में सकारात्मक प्रभाव निर्मित किया है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned