आईआईटी में सीनियर ने जूनियरों को बनाया मुर्गा

Ashish Pandey

Publish: Sep, 17 2017 08:47:31 (IST)

Lucknow, Uttar Pradesh, India
आईआईटी में सीनियर ने जूनियरों को बनाया मुर्गा

जांच रिपोर्ट में आरोप सही पाए गए और डॉयरेटर ने 22 सीनियरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दे दिए।

कानपुर। देश के प्रतिष्ठित शैक्षिक संस्थान आईआईटी के सीनियर स्टूडेंट्स ने एक माह पहले जूनियरों के साथ रैंगिग की। उन्हें जबरन मुर्गा बनाने के साथ नचाया गया। स्टूडेंट्स ने जब इसका विरोध किया तो उनको जमकर पीटा गया। पीड़ितों ने इसकी शिकासत डॉयरेक्टर से की। डॉयरेक्टर ने मामले की जांच करने के लिए एक टीम बना दी। शनिवार को जांच रिपोर्ट सामने आई, जिसमें जूनियर स्टूडेंट्स के लगाए गए आरोप सही पाए गए और डॉयरेटर ने 22 सीनियरों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के आदेश दे दिए। साथ ही स्टूडेंट जिमखाना के प्रेसिडेंट रितुज जुगाड़े का नाम सामने आया है, जिसे आईआईटी प्रशासन ने पद से हटा उसके खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराने का आदेश दिया है।
22 पर एफआईआर दर्ज कराने के आदेश
कानपुर के कल्याणपुर स्थित आईआईटी में रैगिंग का मामला सामने आया है। यहां 14-15 व 20 अगस्त की सीनियर स्टूडेंट्स ने जुनियरों को इंस्टीट्यूट के हॉल नंबर पर दो पर बुलाया। सीनियरों ने इस दौरान जूनियरों के साथ रैंगंग की और उन्हें नचाया, मुर्गा बनाया। मना करने पर उन्हें गालियां दी गईं। कुछ ने पिटाई करने का भी आरोप लगाया है। मामले में पीड़ित जूनियर छात्रों की शिकायत पर डीन स्टूडेंट अफेयर्स और एंटी रैगिंग कमेटी ने जांच करने के बाद 22 आरोपी छात्रों को चिन्हित किया था। चिन्हित किए गए छात्रों को टर्मिनेट करने और उनपर एफआईआर दर्ज करने की सिफारिश की गई थी। इसमें एक नाम स्टूडेंट जिमखाना के प्रेसिडेंट रितुज जुगाड़े का भी शामिल था।
मिल रही हैं धमकियां
रैगिंग की शिकायत करने के बाद हॉल-2 के पीड़ित छात्रों को लगातार धमकियां दी जा रही हैं। आईआईटी कन्फेशन के फेसबुक पेज पर कई सीनियरों ने कहा है कि अब हॉल-2 के जूनियर छात्रों को किसी भी तरह की मदद नहीं दी जाएगी। उन्हें अंतराग्नि, उद्घोष, ई-सेल सहित किसी भी क्लब और कमेटी में शामिल नहीं किया जाएगा। चार साल तक उन्हें यूं ही परेशान होना पड़ेगा। एक छात्र ने गाली देते हुए हॉल-2 के छात्रों को आईआईटी नानकारी में शिफ्ट कराने की बात कही है। वहीं सीनियर छात्र इसे इंस्टीट्यूट का कल्चर बताते हैं। एक स्टूडेंट ने बताया कि जब वो पहली बार कैम्पस में आया तो उसके साथ रैगिंग की गई थी। उसने अपने साथ हुई घटना का भी जिक्र किया है। फेसबुक पेज आईआईटी कन्फेशन पर लिखा है कि उसके सीनियरों ने उसे सबसे पहले भद्दा इशारा करते हुए कुछ बोला था। पहले वह समझ नहीं पाया लेकिन बाद में वह समझ गया और वैसा कर दिया जैसा करने को कहा गया था।

जिमखाना के प्रेसिडेंट रितुज जुगाड़े को पद से हटाया गया
आईआईटी कानपुर में जूनियर छात्रों के साथ रैगिंग के मामले में स्टूडेंट जिमखाना के प्रेसिडेंट रितुज जुगाड़े और पूर्व छात्र निखिल कुरेले का नाम भी सामने आया है। डायरेक्टर प्रो. इंद्रनील मन्ना ने जुगाड़े को प्रेसिडेंट पद से हटाने के साथ ही एक पूर्व छात्र निखिल कुरेले पर एफआईआर और कैंपस में आने पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया है। मामले की जांच कर रही सीनेट स्टूडेंट्स अफेयर्स कमेटी (सैक) ने इसकी सिफारिश की थी। आरोप है कि रैगिंग की जानकारी जुगाड़े को थी। कुछ जूनियर स्टूडेंटों ने इसकी शिकायत जुगाड़े से की थी तो उन्होंने मदद करने से इंकार कर दिया था। जांच में यह बातें सामने आई हैं इसलिए शनिवार को जांच कमेटी की सिफारिशों पर प्रो. मन्ना ने मुहर लगा दी। आरोपी छात्रों के टर्मिनेशन की सिफारिश पर सीनेट की बैठक में अंतिम फैसला लिया जाएगा। डायरेक्टर प्रो. मन्ना ने कहा कि रैगिंग के मामले में कठोर कार्रवाई की जाएगी।

1
Ad Block is Banned