व्हाट्सएप पर तय हो रही थी लड़कियां, दो लड़कियों के साथ पकड़ा गया एक लड़का... कमरे के अंदर जाते ही पुलिस आंख बंदकर बाहर आई

व्हाट्सएप पर तय हो रही थी लड़कियां, दो लड़कियों के साथ पकड़ा गया एक लड़का... कमरे के अंदर जाते ही पुलिस आंख बंदकर बाहर आई

Ruchi Sharma | Publish: May, 18 2019 11:51:29 AM (IST) Lucknow, Lucknow, Uttar Pradesh, India

व्हाट्सएप पर तय हो रही थी लड़कियां, दो लड़कियों के साथ पकड़ा गया एक लड़का... कमरे के अंदर जाते ही पुलिस आंख बंदकर बाहर आई

लखनऊ. राजधानी के पॉश इलाके में चल रहे सेक्स रैकेट का पुलिस ने छापा मारकर खुलासा किया है। पुलिस ने तीन लोगों को गिफ्तार किया है। पुलिस ने अोयो एप से बुकिंग करवा कर इस सेक्स रैकेट को पकड़ा। गोमतीनगर इलाके में मेयो हॉस्पिटल के पीछे यह सेक्स रैकेट चल रहा था। बताया गया कि पुलिस ने छापा मारकर कई लोगों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।

 

जानकारी के मुताबिक आरोपियों ने पश्चिम बंगाल से कांट्रैक्टर पर बुलाई गई दो लड़कियों और एक ब्रोकर शामिल है। पुलिस की रेट पर होटल में हड़कंप मच गया और होटल के कमरा छोड़ कर कई लोग मौके से भाग खड़े हुए।

 

बता दें कि इससे पहले हुसैनगंज पुलिस ने मंगलवार को उदयगंज स्थित स्नो व्हाइट होटल पर छापा मारकर सेक्स रैकेट चला रहे दंपती समेत नौ लोगों को गिरफ्तार किया था। इनमें दो कॉल गर्ल शामिल थी। दंपती ने सेक्स रैकेट चलाने को होटल लीज पर ले रखा था। कॉल गर्ल व ग्राहक के बीच नोकझोंक होते देख एक चाय विक्रेता ने पुलिस को फोन किया। संचालिका व दो कॉल गर्ल अलग-अलग कमरों में ग्राहकों के साथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ी गईं।

 

पुलिस ने किया बड़ा खुलासा


गोमती नगर इंस्पेक्टर रामसूरत सोनकर के मुताबिक पश्चिम बंगाल में रहने वाली दो लड़कियों ने गोमती नगर स्थित होटल ग्रीन टाउन में 2 दिन पहले ऑनलाइन बुकिंग कराई थी। होटल में दोनों लड़कियां रह रही थी। दोनों लड़कियों को कुछ दिन पहले सेक्स रैकेट संचालक दीपेंद्र ने उन्हें कॉन्ट्रेक्ट पर बुलाया था। हर दिन के एक लड़की को १५ हजार रुपए दिए जाते थे। रैकेट संचालक बुकिंग करता था और कस्टमर को होटल के कमरे का नंबर देकर उन्हें भेजता था। होटल के बाहर रैकेट संचालक का एक गुर्गा मौजूद रहता था वही कस्टमर को लड़कियों के पास लेकर जाता था।

 

व्हाट्सएप पर तय होती थी लड़कियां


सेक्स रैकेट से जुड़े गैंग ऑनलाइन और व्हाट्सएप पर एक्टिव रहते थे। कस्टमर फिक्स नंबर पर कॉल करते हैं, जिसके बाद ब्रोकर उन्हें डिमांड के अनुसार व्हाट्सएप पर कुछ फोटो भेजते हैं। फोटो के सिलेक्शन के बाद रेट तय होता है। ब्रोकर कस्टमर के नजदीकी लोकेशन पर स्थित होटल का नाम और कमरा नंबर उन्हें दे देता है। इस खेल में ब्रोकर कस्टमर पर तभी विश्वास करता है जब कस्टमर उसे पुराने कस्टमर का रिफरेंस देता है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned