शिवपाल-ओमप्रकाश राजभर ने की बैठक, मिलकर 2022 के लिए किया बड़ा ऐलान

यूपी सरकार से अलग हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर व सपा से अलग हुए प्रसपा लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को मुलाकात की व 2022 चुनाव को लेकर गठबंधन व अन्य दलों को साथ में लाने पर चर्चा की।

By: Abhishek Gupta

Published: 19 Mar 2020, 11:04 PM IST

लखनऊ. यूपी सरकार से अलग हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर व सपा से अलग हुए प्रसपा लोहिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को मुलाकात की व 2022 चुनाव में गठबंधन व अन्य दलों को साथ में लाने पर चर्चा की। मीडिया से मुखातिब होते हुए दोनों ने 2022 चुनाव के लिए बड़े संकेत दिए। और कहा कि जब केंद्र में 38 दलों की सरकार चल सकती है तो राज्य में 10 दलों की सरकार क्यों नहीं हो सकती। दोनों ही नेताओं ने वंचित, उपेक्षित समाज के लोग को साथ में लाकर चुनाव लड़ने का ऐलान किया। इससे एक बार फिर शिवपाल के सपा में जाने या साथ में चुनाव लड़ने पर भी असमंजस की स्थिति बन गई है। वह हाल में सैफई में हुए होली मिलन समारोह में शामिल हुए थे। जिसे परिवार की एकता के लिए एक सकारात्मक पहल की तरह देखा गया। उससे पहले भी वह सपा संग चुनाव लड़ने के संकेत दे चुके थे।

ये भी पढ़ें- कोरोनाः पीएम मोदी के संबोधन के तुरंत बाद सीएम योगी ने सभी डीएम व पुलिस अधिकारियों को जारी किए बड़े निर्देश

दोनों की मुलाकात लखनऊ में विक्रमादित्य मार्ग स्थित प्रसपा अध्यक्ष के आवास पर हुई। शिवपाल यादव ने बैठक के बाद कहा कि हम लोग राजनीति से जुड़े हुए पिछड़े लोग हैं। समय की मांग है कि सब लोग इकट्ठे हों। इकट्ठे होकर ही लड़ाई लड़ी जा सकती है। हमारी कोशिश है कि 2022 में सब लोग एक साथ, जितने भी उपेक्षित और वंचित लोग हैं, जिन्हें सम्मान नहीं मिल रहा है वो एक होकर लड़ें। वहीं ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि जो वंचित समाज है और जो लोग अलग-अलग लड़ रहे हैं, सबको 2022 चुनाव के लिए एक साथ लाने पर चर्चा की गई है। भागीदारी मोर्चा के माध्यम से हमनें कई दलों को जोड़ा है। शिवपाल सिंह भी यही कह रहे हैं। हम लोगों ने विधानसभा चुनाव के लिए एक साथ आने पर चर्चा की है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned