अखिलेश से दूर हुए शिवपाल का एक और बड़ा फैसला, अचानक हुए इस ऐलान से सब हैरान

अखिलेश से दूर हुए शिवपाल का एक और बड़ा फैसला, अचानक हुए इस ऐलान से सब हैरान

Nitin Srivastva | Publish: Sep, 03 2018 10:51:56 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

चाचा शिवपाल और भतीजे अखिलेश की कहानी में आया नया ट्विस्ट...

लखनऊ. 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पहले मुलायम के छोटे भाई शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बनाने की घोषणा कर दी। मोर्चा बनाने के बाद शिवपाल अब समाजवादी पार्टी से पूरी तरह किनारा करने लगे हैं। हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि शिवपाल ने ट्विटर पर अपना प्रोफाइल अपडेट किया है। अपने नए प्रोफाइल में शिवपाल ने खुद को समाजवादी सेक्यूलर मोर्चा का नेता लिखा है। शिवपाल इससे पहले अपने पुराने ट्विटर प्रोफाइल में खुद को समाजवादी पार्टी का सीनियर नेता लिखते थे।

 

 

Shivpal Singh Yadav twitter account profile change

 

शिवपाल ने अपना ट्विटर प्रोफाइल किया अपडेट

शिवपाल ने जिस तरह से अचानक ट्विटर पर अपना प्रोफाइल अपडेट किया है, उससे साफ है कि वह अपने समर्थकों के साथ अब सोशल मीडिया पर भी मोर्चे की अलग पहचान बनाने में लगे हैं। कुल मिलाकर अब ये कहना गलत नहीं होगा कि शिवपाल सिंह यादव खुद को अब समाजवादी पार्टी से अलग कर चुके हैं और नई पार्टी के ऐलान की औपचारिकताएं ही बची हैं। इतना ही नहीं आपको बता दें कि शिवपाल अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव में यूपी की सभी 80 सीटों पर समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के उम्मीदवार भी उतारेंगे। जो कहीं न कहीं सपा को ही नुकसान पहुंचाने वाले होंगे। क्योंकि शिवपाल के सभी उम्मीदवार सपा के वोटबैंक में ही सेंध लगाएंगे।

 

अखिलेश पर निशाना

दरअसल एक समय पर समाजवादी पार्टी के प्रमुख नेता रह चुके शिवपाल सिंह भतीजे अखिलेश यादव से विवाद के चलते हाशिये पर पहुंच गए थे। समाजवादी सेक्यलर मोर्चा बनाने के बाद शिवपाल सिंह के तेवर भी पहले से ज्यादा बगावती हो गए हैं। अब वह अखिलेश यादव या उनसे जुड़े फैसलों पर निशाना साधने का कोई मौका हाथ से नहीं जाने देते। हाल ही में शिवपाल ने सपा-बसपा गठबंधन के भविष्य पर भी सवाल उठाए थे। शिवपाल सिंह ने यह दावा किया था कि अगर मेरे बिना गठबंधन बनता है तो बना लें। वहीं शिवपाल मे ये भी साफ किया था कि उनकी बीजेपी से कोई बातचीत नहीं हुई।

 

नई पार्टी का ऐलान अब सिर्फ औपचारिकता

शिवपाल सिंह बीते दिनों मीडिया में ये बयान भी दे चुके हैं कि इसी साल दीपावाली तक उनकी नई पार्टी सबसे होगी। ऐसे में एक बात तो साफ है कि चाचा शिवपाल आने वाले दिनों में भतीजे अखिलेश यादव का सिरदर्द और बढ़ाने वाले हैं। क्योंकि शिवपाल के सेक्युलर मोर्चा में ज्यादातर नेता ऐसे ही होंगे जिनका नाता सपा से रह चुका है। ऐसे में यह नेता सपा की ही वोट बैंक अपने पक्ष में तब्दील करने की कोशिश करेंगे, जो सपा के लिए नुकसानदायक होना तय है। वहीं शिवपाल सिंह ये भी कह चुके हैं कि उनके पास नेताजी मुलायम सिंह यादव का समर्थन है जो अखिलेश यादव की और ज्यादा टेंशन बढ़ाने वाली बात है।

Ad Block is Banned