जिला अस्पताल में सरकारी पर्चे पर लिखी जा रही बाहर की दवाएं, मरीज परेशान

मामला है संयुक्त जिला चिकित्सालय भिनगा का
सीएमएस बोले लिखित शिकायत मिलने पर की जाएगी कार्रवाई

श्रावस्ती. प्रदेश के सभी जिला अस्पतालों में मरीजों के उपचार के लिए हर माह लाखों रुपए की दवाएं मुहैया कराई जाती हैं। इसके बाद भी अस्पताल के इमरजेंसी कक्ष में तैनात डाक्टर मरीजों को बाहर की मंहगी दवाएं खुलेआम लिखते हैं। इस पर कभी मरीज और डाक्टर में विवाद हो जाता है। पर डाक्टर, मरीजों का शोषण करने से बाज नहीं आ रहे हैं। सीएमएस ने कहा लिखित शिकायत करने पर कार्रवाई की जाएगी।

मामला है संयुक्त जिला चिकित्सालय भिनगा का। सोमवार दोपहर जब इमरजेंसी में पहुंचे एक मरीज को इमरजेंसी में तैनात डॉक्टर ने मरीजों को सरकारी पर्चे पर बाहर की दवाएं लिखी और इसे बाहर से लाने को कहा। जिससे मरीज मजबूरन बाहर की दवाएं लेकर अपनी जेब ढीली कर रहा है।

सूबे के स्वास्थ्य मंत्री की हिदायत के बाद भी सरकारी डॉक्टर बाहर की दवाएं लिख रहे हैं। इमरजेंसी में गंभीर हालत में पहुंचने वाले मरीजों का शोषण इस प्रकार किया जा रहा है कि गरीब मरीज कर्ज में डूब जा रहे हैं। वहीं सूत्रों की मानें तो संयुक्त जिला चिकित्सालय में प्रतिदिन हजारों रुपए कीमत की दवाइयां बाहर से लिखी जाती हैं। वहीं मरीजों का कहना है कि काफी दूर से यहां आने के बाद भी पैसा देकर बाहर से ही दवा खरीदना पड़ता है। इससे अच्छा तो इससे कम पैसे में हम झोलाछाप डॉक्टरों के पास इलाज करा लें।

इस संबंध में संयुक्त जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक विजय कुमार का कहना है कि मामला संज्ञान में है, पर किसी के द्वारा अभी लिखित शिकायत नही की गई है। लिखित शिकायत मिलने पर जांच कराकर जिसने भी दवा लिखी है उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned