यूपी के 10 लाख स्मार्ट मीटरों की बिजली हो गई थी गुम, योगी सरकार ने लिया बड़ा एक्शन, अधिकारियों पर गिरी गाज

- ईईएसएल और एलएंडटी के स्टेट हेड निलंबित, 24 घंटे में रिपोर्ट तलब

लखनऊ. जन्माष्टमी के मौके पर अचानक यूपी के पांच जिलों के लगभग 11 लाख घरों की बिजली कट गई। बिजली गुल होने की समस्या उन घरों में आई जहां स्मार्ट मीटर लगे हैं। स्मार्टमीटर डिस्कनेक्शन के मामले में प्रमुख सचिव ऊर्जा अरविंद कुमार ने कहा कि स्मार्ट मीटर में खामी से नहीं बल्कि गलत कमांड देने से बिजली गुल हुई थी। जिसके बाद गलत तरीके से स्मार्ट मीटर उपभोक्ताओं के कनेक्शन कटने के मामले में योगी सरकार ने कार्रवाई भी की। गलत कमांड देने वाले एलएण्डटी प्रोजेक्ट मैनेजर शशिकांत अग्रवाल और ईईएसएल यूपी हेड आदेश सक्सेना को निलंबित कर दिया गया। साथ ही ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इसके जांच के आदेश दे दिए हैं।

 

अचानक गुल हुई थी बिजली

दरअसल बेहतर बिजली सेवाएं देने के नाम पर लगाए गए स्मार्ट मीटर ने अचानक धोखा दे दिया। कई जिलों की बिजली व्यवस्था ध्वस्त हो गई। ये सब एक गलत कमांड की वजह से हुआ। बुधवार शाम को करीब साढ़े चार बजे स्मार्ट मीटर के सर्वर पर एक गलत कमांड दी गई, जिसकी वजह से रात 12 बजे तक बिजली गुल रही। इस समस्या की जद में करीब डेढ़ दर्जन मंत्री व अधिकारी भी आ गए। जिसके बाद नाराज बिजली उपभोक्ताओं ने जगह-जगह जमकर हंगामा किया। हालात ऐसे हो गए कि कई विधुत उपकेंद्रो पर पुलिस फोर्स लगानी पड़ी। सूचना के बाद शक्ति भवन स्थित यूपीपीसीएल मुख्यालय में हड़कंप मच गया। ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा व यूपीपीसीएल चेयरमैन अरविंद कुमार इस दिक्कत को दूर कराने में जुटे रहे।

 

गलत कोड के चलते हुई परेशानी

वहीं पावर कॉरपोरेशन ने दावा किया कि रात 9.30 बजे तक 70 प्रतिशत डिस्कनेक्ट हुए कनेक्शन को कनेक्ट कर दिया गया। जिन शहरों में सबसे ज्यादा बिजली व्यवस्था प्रभावित हुई उसमें लखनऊ के साथ-साथ मेरठ, वाराणसी, गोरखपुर, लखनऊ, प्रयागराज, अलीगढ़, बरेली और मथुरा शामिल हैं। बिजली विभाग के एक इंजीनियर के मुताबिक स्मार्ट मीटर के सर्वर पर किसी कर्मचारी द्वारा एक गलत कमांड दे दी गई, जिसकी वजह से अचानक कई घरों में बिजली गुल हो गई। हालांकि देर रात तक यह नहीं पता चल सका कि गलत कमांड कहां से जारी की गई।

 

जांच के आदेश

वहीं मामले में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने यूपीपीसीएल चेयरमैन अरविंद कुमार को जांच के आदेश दिए हैं। साथ ही इस गलती के लिए जिम्मेदार अधिकारियों पर कार्रवाई के लिए भी कहा है।

 

नितिन श्रीवास्तव
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned