यूपी ही नहीं देश की राजनीति में भी इन जेठानी-देवरानी का बजता है ठंका, आज तक कभी नहीं हारीं

देश की राजनीति इनके ईर्ध-गिर्ध घूमती है।

 

By:

Published: 19 Jan 2019, 02:57 PM IST

लखनऊ. यूपी ही नहीं देश की राजनीति में एक ऐसा परिवार है जिसका देश की आजादी में तो बड़ा योगदान रहा ही साथ ही उसके बाद भी इस परिवार के सदस्यों ने देश की सेवा की। यह परिवार किसी परिचय का मोहताज नहीं है। इस परिवार की दो महिलाएं दोनों कई बार से लगातार सांसद चुनी जा रही हैं। ये दोनों ही रिश्ते में जेठानी और देवरानी हैं। आज तक जितने भी इन्होंने चुनाव लड़े किसी में हार का सामना नहीं किया। यह दोनों महिलाएं देश की राजनीति में काफी महत्व रखती ही हैं और राजनीति भी इनके इर्ध-गिर्ध धूमती है। 2014 के लोकसभा चुनाव में भी इन्होंने अपना परचम लहराया। अब 2019 के लोकसभा में भी इनकी धूम रहेगी।

अचानक राजनीति में आईं दोनों
ये दोनों महिलाएं रिश्ते में जेठानी देवरानी हैं। ये दोनों अचानक राजनीति में आईं। इनके साथ ऐसा वाक्या हुआ, जिसके कारण इन्हें राजनीति में आना पड़ा, पहले से इनका राजनीति में आना तय नहीं था। लेकिन अचानक कुछ ऐसा हुआ जिससे उन्हें राजनीति में आना पड़ा और जब वह राजनीति में आईं तो यहां भी उन्होंने अपनी ईमानदारी, सच्चाई से अपने देश की सेवा की और अपनी पार्टी को आगे बढ़ाया।

हर मुश्किलों का हिम्मत से किया मुकाबला
दोनों महिलाएं अपना सामान्य जीवन जी रही थीं, लेकिन अचानक उनके सामने ऐसी परिस्थितियां आ गई कि वे न चाहते हुए भी राजनीति में आईं। उन्होंने हिम्मत से काम लिया और राजनीति में हर ऊंचाई पर चढ़ती गईं। पार्टी की हार हो गई मगर ये दोनों जेठानी और देवरानी कभी भी लोकसभा का चुनाव नहीं हारीं। हर चुनाव में इनकी जीत होती आ रही है। अब 2019 का लोकसभा चुनाव होने वाला है, इसमें भी अभी इनसे टक्कर लेने वाला कोई विरोधी दूर-दूर तक नहीं दिख रहा है।

काफी सक्रिय रहीं
जेठानी कांग्रेस पार्टी में तो देवरानी भाजपा में हैं। ये दोनों राजनीति में काफी सक्रिय हैं। पार्टी के कामकाज में भी इनका काफी महत्व है। जेठानी तो कई सालों तक कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष रही हैं। हाल ही में उन्होंने यह पद छोड़ दिया अब इस पद पर उनके बेटे के पास है। वहीं देवरानी केंद्र की मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं। इससे पहले भी वह कई सरकारों में मंत्री रह चुकी हैं।

बेटे भी सक्रिय सांसद
ये दोनों खुद तो लोकसभा की सदस्य हैं और इनके बेटे भी लोकसभा के सदस्य हैं। जेठानी यूपी की रायबरेली से कांग्रेस से लोकसभा सांसद हैं तो देवरानी भी यूपी के ही आंवला लोकसभा क्षेत्र से सांसद और केंद्र की मोदी सरकार में मंत्री हैं। जेठानी का बेटा अमेठी से कांग्रेस पार्टी से तो देवरानी का बेटा सुल्तानपुर से बीजेपी से सांसद है।

यहां बात देश के उस राजनीतिक घराने की हो रही है। जिसने देश को तीन-तीन प्रधानमंत्री दिए हैं। हम बात कर रहे हैं सोनिया गांधी और उनकी देवरानी मेनका गांधी की। सोनिया गांधी राजीव गांधी की पत्नी हैं तो मेनका गांधी संजय गांधी की पत्नी हैं। राजीव और संजय गांधी दोनों पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बेटे हैं। संजय गांधी की मौत 1980 में एक प्लेन क्रेश के दौरान हो गई थी तो वहीं पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का निधन 1991 में लोकसभा चुनाव के दौरान एक जनसभा के दौरान लिट्टे के आत्मघाती विस्फोट में हो गया।

 

 

BJP Congress
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned