उत्तर प्रदेश विधानमंडल बजट सत्र, सपा-बसपा ने किया बहिर्गमन, कांग्रेस आए गैस सिलेंडर के साथ

यूपी विधानमंडल के बजट सत्र के दूसरे दिन भी हंगामा जारी रहा। सदन कार्यवाही एक बार फिर स्थगित हो गई.

लखनऊ. यूपी विधानमंडल के बजट सत्र के दूसरे दिन भी हंगामा जारी रहा। सदन कार्यवाही एक बार फिर स्थगित हो गई। गुरुवार की तरह शुक्रवार को भी समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी व कांग्रेस ने एक जुट होकर यूपी की बिगड़ी कानून व्यवस्था तथा अन्य मुद्दों पर चर्चा करने के आग्रह किया। सदन में गुरुवार को लखनऊ के कचहरी में वकील पर बम से हमले का मामला भी गरमाया। तो वहीं कांग्रेस सपा की तरह गैस सिलेंडर लेकर विधानसभा पहुंची और बढ़े हुए दाम का विरोध किया। इस बीच विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने सभी को शांति बनाए रखने का आग्रह किया, लेकिन किसी ने उनकी एक न सुनी। महिलाओं की सुरक्षा व शांतिपूर्ण आंदोलन करने वालों पर चर्चा की अनुमति न मिलने पर सपा और बसपा ने तो सदन का बहिर्गमन कर दिया। कांग्रेस के सदस्य तो बेल में आ गए और नारेबाजी करने लगे।

वकील पर बम से हमले का उठा मुद्दा-

शुक्रवार को विधानसभा की कार्यवाही जैसे ही शुरू हुई, कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा 'मोना' व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार 'लल्लू' लखनऊ कचहरी में देशी बम से वकील पर हमले को लेकर यूपी पर बिगड़ी कानून-व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए चर्चा की मांग करने लगे। आराधना मिश्रा 'मोना' ने कहा कि यह राम राज्य की बात करते हैं, लेकिन कानून व्यवस्था पर चर्चा की मांग की जाती है तो सरकार भाग जाती है।

ये भी पढ़ें- लखनऊ में एक और वकील पर हुआ हमला, बदमाशों ने की पांच राउंड फायरिंग, यूपी पुलिस में हड़कंप

सपा ने महिलाओं की सुरक्षा पर मांग की चर्चा की-
वहीं नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी ने महिलाओं पर अत्याचार व प्रताड़ना को मुद्दे को उठाते हुए मामले पर चर्चा की मांग की। विधानसभा अध्यक्ष ने इससे भी इंकार किया तो राम गोविंद चौधरी ने यह कहते हुए सदन का बहिष्कार किया कि महिलाओं पर अत्याचार की उनकी बात नहीं सुनी जा रही है। इस पर भाजपा नेता ने सुरेश खन्ना ने जवाब देते हुए कहा कि समाजवादी पार्टी से एक हजार गुना अच्छी है भाजपा की कानून व्यवस्था। सपा सिर्फ सदन में हल्ला कर अखबारों की सुर्खियां बटोरना चाहती है।

बसपा ने शांतिपूर्ण आंदोलनकर्ताओं का बयां किया दर्द-

बसपा में यहां पीछे नहीं रही। और शांतिपूर्ण आंदोलन करने वालों का दर्द बयां किया। बसपा नेता लालजी वर्मा ने सरकार की तुलना ब्रिटिश हुकूमत से कर दी और कहा कि जिस तरह जलियावाला बाग कांड हुआ था, वैसे ही यह सरकार शांतिप्रिय आंदोलनकारियों के ऊपर अत्याचार कर रही है। उनके कंबल छीने जा रहा हैं, जेल भेजा जा रहा है। उन पर जुर्माना लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार के इस अन्याय के खिलाफ बहुजन समाज पार्टी सदन का बहिर्गमन करती है। इसी बीच कांग्रेस के सदस्य नारेबाजी करते हुए बेल में आ गए। स्पीकर ने उन्हें समझाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं माने। इस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही को बीस मिनट के लिए स्थगित कर दी।

ये भी पढ़ें- दबंगों ने घर में घुसकर महिला का पैर काट शरीर से किया अलग, पति व बेटी भी जख्मी, अखिलेश यादव ने दिया बड़ा बयान

सिलेंडर लेकर कांग्रेस ने किया प्रदर्शन-

शुक्रवार को कांग्रेसी विधायक सिर पर गैस सिलिंडर लेकर पहुंचे और जमकर नारेबाजी की। यूपी कांग्रेस के अध्‍यक्ष अजय कुमार लल्‍लू के नेतृत्‍व में कांग्रेस के विधायकों ने केंद्र सरकार से एलपीजी गैस के दाम में की गई बढ़ोत्‍तरी को वापस लेने की मांग की। गैस सिलेंडर व हाथ में तख्तियां लिए कांग्रेस विधायक विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करने लगे। तख्‍ती पर लिखा था, 'महंगाई डायन खाए जात है।'

BJP CAA Congress
Show More
Abhishek Gupta Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned