राष्ट्रपति चुनाव-Akhilesh Yadav नहीं देंगे Mira Kumar को वोट

राष्ट्रपति चुनाव-Akhilesh Yadav नहीं देंगे Mira Kumar को वोट
Akhilesh Yadav

 Presidential Election में अखिलेश यादव मीरा कुमार को वोट नहीं देंगे। 17 जुलाई यानी सोमवार को राष्ट्रपति पद के लिए वोट डाले जाएंगे। 

लखनऊ. राष्ट्रपति चुनाव में Akhilesh Yadav मीरा कुमार को वोट नहीं देंगे। १७ जुलाई यानी सोमवार को President पद के लिए वोट डाले जाएंगे। राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए ने Ramnath Kovind को अपना उम्मीदवार बनाया है तो वहीं विपक्ष ने कांग्रेस की Mira Kumar को विपक्ष का साझा प्रत्याशी बनाया है। मीरा कुमार के साथ सपा, बसपा और कांग्रेस हैं। मीरा कुमार ने पिछले दिनों लखनऊ में सपा-बसपा से अपने लिए वोट मांगा था। लेकिन यहां सबसे बड़ी बात यह है कि सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ही मीरा कुमार को वोट नहीं देंगे। अखिलेश मीरा कुमार को भले ही सपा विधायकों का वोट दिलाने के लिए कमर कसे हुए हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि अखिलेश यादव ही मीरा कुमार को वोट नहीं देंगे। अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य हैं यानी MLC हैं।
 
बतादें कि President Election में सभी प्रदेशों की विधानसभाओं के इलेक्टेड मेंबर और Lok Sabha तथा Rajya Sabha में चुनकर आए सांसद ही वोट डालते हैं। प्रेजिडेंट की ओर से संसद में नॉमिनेटेड मेंबर वोट नहीं डाल सकते। राज्यों की विधान परिषदों के सदस्यों को भी वोटिंग का अधिकार नहीं है, क्योंकि वे जनता द्वारा चुने गए सदस्य नहीं होते। ऐसा ही सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष Akhilesh Yadav के साथ है वे भले ही मीरा कुमार का समर्थन कर रहे हैं लेकिन वे जनता द्वारा चुने गए सदस्य नहीं हैं इसलिए राष्ट्रपति चुनाव में वे वोट नहीं डाल सकेंगे। 

कैसे होता है President Election
भारत में राष्ट्रपति के चुनाव का तरीका अनूठा है और एक तरह से इसे आप सर्वश्रेष्ठ संवैधानिक तरीका भी कह सकते हैं। इसमें विभिन्न देशों की चुनाव पद्धतियों की अच्छी बातों को चुन-चुन कर शामिल किया गया है। हमारे देश में राष्ट्रपति का चुनाव एक Electoral College करता है, लेकिन इसके सदस्यों का प्रतिनिधित्व आनुपातिक भी होता है। उनका सिंगल वोट ट्रांसफर होता है, पर उनकी दूसरी पसंद की भी गिनती होती है। इस चुनाव प्रणाली की खूबसूरती को समझने के लिए हमें इन बिंदुओं को समझना होगा।

इनडायरेक्ट इलेक्शन
Presidential Election एक निर्वाचक मंडल यानी इलेक्टोरल कॉलेज करता है। भारत के संविधान के आर्टिकल 54 में इसका उल्लेख है। यानी जनता अपने प्रेजिडेंट का चुनाव सीधे नहीं करती, बल्कि उसके वोट से चुने गए लोग यानी विधायक और सांसद करते हैं। यह है अप्रत्यक्ष निर्वाचन।

किसे है वोट देने का अधिकार
राष्ट्रपति चुनाव में सभी प्रदेशों की Vidhan Sabha के इलेक्टेड मेंबर और Lok Sabha तथा Rajya Sabha में चुनकर आए सांसद वोट डालते हैं। प्रेजिडेंट की ओर से संसद में Nominated Member वोट नहीं डाल सकते। राज्यों की विधान परिषदों के सदस्यों को भी वोटिंग का अधिकार नहीं है, क्योंकि वे जनता द्वारा चुने गए सदस्य नहीं होते।
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned