scriptSpecial Judge ADJ Arvind Mishra sentenced the guilty to seven years' i | दुष्कर्म के प्रयास के दोषी को विशेष न्यायाधीश अरविंद मिश्र ने सुनाई सात साल के कठोर कारावास की सजा | Patrika News

दुष्कर्म के प्रयास के दोषी को विशेष न्यायाधीश अरविंद मिश्र ने सुनाई सात साल के कठोर कारावास की सजा

बच्चों के साथ होने वाले अपराधों पर लगाम लगाने व अपराधियों को कठोर सजा का संदेश देने के लिए लखनऊ में लगातार कार्रवाई हो रही है। इससे पहले भी लखनऊ की पाक्सो कोर्ट ने गंभीर अपराध के मामले में बच्चियों से दुष्कर्म करने वाले दोषियों को दंडित करते हुए फांसी की सजा सुनाई है। दोनों मामले में दोषियों ने इंसानियत को शर्मसार करते हुए बच्चे को शिकार बनाया था। कोर्ट में सुनवाई करते हुए पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर दोनों दोषियों को सजा-ए-मौत दी थी। एक सप्ताह पहले 15 दिसंबर को विशेष न्याधीश ने गुडंबा थाने में दर्ज एक मामले में दोषी पिता को अजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

लखनऊ

Updated: December 22, 2021 01:30:00 pm

लखनऊ. राजधानी लखनऊ की पाक्सो अदालत बाल अपराधों के दोषियों को लगातार कठोर सजा सुना रही है। राजधानी लखनऊ की पाक्सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश अरविंद मिश्र ने नाबालिक के साथ दुष्कर्म के प्रयास के मामले में दोषी रामबाबू यादव को सात साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। इससे पहले विशेष न्यायाधीश अरविंद मिश्र गंभीर अपराध के मामले में दो दोषियों को फांसी व अन्य मामले में अजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।
arvind_mishra.jpg
यह है मामला

साइकिल से घर लौट रही 12 वर्षीय नाबालिग को रोककर दुराचार का प्रयास करने के आरोपी रामबाबू उर्फ बबलू यादव को विशेष न्यायाधीश अरविंद मिश्र ने दोषी ठहराया है। विशेष न्यायाधीश ने रामबाबू यादव को सात साल के कठोर कारावास की सजा व 20 हजार रुपये जुर्माने से दंडित किया है। न्यायाधीश ने आदेश दिया है कि जुर्माने की पूरी राशि प्रतिकर के तौर पर नाबालिग के वयस्क होने तक फिक्स डिपाजिट में रखी जाए। कोर्ट ने कहा कि दोषी ने जिस तरह का अपराध किया है, उसे समाज में छोटे-छोटे बच्चों को लेकर एक डर का माहौल है। लिहाजा छोटे बच्चे अपने बचपन को स्वच्छंद होकर नहीं जी पा रहे हैं। कोर्ट में सरकारी वकील सुखेंद्र प्रताप और अभिषेक उपाध्याय जानकारी देते हुए बताया कि मामले में पीड़ित के पिता ने 26 जून 2013 को इटौंजा थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
ये भी पढ़ें:घर बैठे खरीद सकते हैं आवास विकास के फ्लैट, पहले आओ पहले पाओ के आधार पर मिल रहे घर

अपराधों पर गंभीर सजा दे रही कोर्ट

बच्चों के साथ होने वाले अपराधों पर लगाम लगाने व अपराधियों को कठोर सजा का संदेश देने के लिए लखनऊ में लगातार कार्रवाई हो रही है। इससे पहले भी लखनऊ की पाक्सो कोर्ट ने गंभीर अपराध के मामले में बच्चियों से दुष्कर्म करने वाले दोषियों को दंडित करते हुए फांसी की सजा सुनाई है। दोनों मामले में दोषियों ने इंसानियत को शर्मसार करते हुए बच्चे को शिकार बनाया था। कोर्ट में सुनवाई करते हुए पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर दोनों दोषियों को सजा-ए-मौत दी थी। एक सप्ताह पहले 15 दिसंबर को विशेष न्याधीश ने गुडंबा थाने में दर्ज एक मामले में दोषी पिता को अजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Covid-19 Update: भारत में कोरोना के 3.37 लाख नए मामले, मौत के आंकड़ों ने तोड़े सारे रिकॉर्डSubhash Chandra Bose Jayanti 2022: आज इंडिया गेट पर सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का PM Modi करेंगे लोकार्पणदिल्ली में जनवरी में बारिश का पिछले 32 साल का रिकॉर्ड ध्वस्त, ठंड से छूटी कंपकंपी, एयर क्वालिटी में सुधारUP चुनाव में PM Modi से क्यों नाराज़ हो रहे हैं बिहार मुख्यमंत्री नितीश कुमारU19 World Cup: कौन है 19 साल का लड़का Raj Bawa? जिसने शिखर धवन को पछाड़ रचा इतिहासUP TET Exam 2021 : बारिश पर भारी अभ्यर्थियोंं का उत्साह, कड़ी सुरक्षा में शुरू हुई TET परीक्षाAjmer Urs : 1 फरवरी को उतरेगा संदल, 2 को खुलेगा जन्नती दरवाजाUP Top News: उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा विभाग शिक्षक पात्रता परीक्षा आज, दो पालियों में परीक्षा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.