scriptSpinning Wheel Teach CBSE UP Board Students Theory of Physics | अब फिजिक्स के सिद्धांत पढ़ाएगा बापू का चरखा, जानिए कैसे | Patrika News

अब फिजिक्स के सिद्धांत पढ़ाएगा बापू का चरखा, जानिए कैसे

Students Innovation: अब छात्र बापू के चरखे से पढ़ाई करेंगे। इससे फीजिक्स के सिद्धांतों को ज्ञान लेंगे। सीबीएसई और यूपीबोर्ड के बच्चे नए तरीके से प्रैक्टिकल के साथ पढ़ाई करेंगे।

लखनऊ

Updated: April 09, 2022 04:50:53 pm

School Update: आर्थिक स्वावलंबन के प्रतीक गांधी जी के चरखे की मदद से 11वीं-12वीं के छात्रों को फिजिक्स पढ़ाई जाएगी। शिक्षक चरखा चला कर दिखाएंगे कि कैसे मैकेनिकल एनर्जी इलेक्ट्रिकल एनर्जी में तब्दील हो रही है। यह प्रयोग करते समय चरखा सूत भी कातेगा। यह पहल टिंकर इंडिया की लैब कर रही है। टिंकर इंडिया ने यह किट सीबीएसई व यूपी बोर्ड के पाठ्यक्रम के आधार पर तैयार की हैं। इस किट में ऐसी सामग्री है, जिसमें शिक्षक कक्षा में पढ़ाया जा रहा विषय सामने प्रयोग करके भी दिखा सकेंगे। इसमें चरखे के अलावा चुंबक, क्वाल और कैपेसिटर (संघारित्र) भी शामिल हैं। यह किट प्रदेश के सभी कॉलेजों को दी जाएंगी।
Spinning Wheel Teach CBSE UP Board Students Theory of Physics
Spinning Wheel Teach CBSE UP Board Students Theory of Physics
CBSE - UP Board Students: टिंकर इंडिया के संस्थापक कौस्तुभ ओमर और जय नारायण इंटर कॉलेज में कक्षा 12 के छात्र राघवेंद्र मिश्रा ने इसे तैयार किया है। लकड़ी के बेस पर रखे चरखे के साथ एक बेलनाकार (सिलेंड्रिकल) चुंबक लगाया गया है। इसी के अंदर एक उच्च क्षमता वाली तांबे की क्वायल है। किनारों पर एक झालर लगाई गई है। एक स्थान पर छोटा कैपेसिटर लगा है। चरखा चलाने पर इसमें मैकेनिकल एनर्जी (यांत्रिक ऊर्जा) पैदा होती है। चरखे के साइड में लगे चुंबक के बीच लगी क्वायल भी घूमने लगती है। इससे इंडक्शन (प्रेरण) के कारण बिजली (इलेक्ट्रिकल एनर्जी) पैदा होती है। बिजली से झालर जलने लगती है। यह करेंट कैपेसिटर में दे दें तो ऊर्जा स्टोर भी की जा सकती है। इससे मोबाइल चार्ज कर सकते हैं। छात्र इसके माध्यम से एक ऊर्जा का दूसरे में परिवर्तन के सिद्धांतों को समझ सकेंगे। साथ में सूत कातने की विधि भी समझाई जा सकती है।
यह भी पढ़ें

कभी भारत बोफोर्स कंपनी से खरीदता था अस्त्र शस्त्र, अब बोफर्स को पसंद आई 'सारंग'

किट में यह उपकरण भी शामिल

किट में 15 से अधिक वर्किंग माडल शामिल किए गए हैं। लेजर किरणों को मन चाहे एंगल पर फेंकने, चुंबक के प्रभाव से पेन सेट को हवा में लटकाने जैसे माडल शामिल हैं। इनके माध्यम से व्हीटस्टोन ब्रिज, विद्युत चुंबकीय प्रेरण, प्रकाश के अपवर्तन, परावर्तन, विद्युत जनरेटर, धारा का चुंबकीय प्रभाव, संघारित्र के आवेशन, निरावेशन (चार्जिंग-डिस्चार्जिंग), बरनौली की प्रमेय, पास्कल के नियम, आवेग-संवेग और ध्वनि आदि समझाए जा सकेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नाइजीरिया के चर्च में कार्यक्रम के दौरान मची भगदड़ से 31 की मौत, कई घायल, मृतकों में ज्यादातर बच्चे शामिल'पीएम मोदी ने बनाया भारत को मजबूत, जवाहरलाल नेहरू से उनकी नहीं की जा सकती तुलना'- कर्नाटक के सीएम बसवराज बोम्मईमहाराष्ट्र में Omicron के B.A.4 वेरिएंट के 5 और B.A.5 के 3 मामले आए सामने, अलर्ट जारीAsia Cup Hockey 2022: सुपर 4 राउंड के अपने पहले मैच में भारत ने जापान को 2-1 से हरायाRBI की रिपोर्ट का दावा - 'आपके पास मौजूद कैश हो सकता है नकली'कुत्ता घुमाने वाले IAS दम्पती के बचाव में उतरीं मेनका गांधी, ट्रांसफर पर नाराजगी जताईDGCA ने इंडिगो पर लगाया 5 लाख रुपए का जुर्माना, विकलांग बच्चे को प्लेन में चढ़ने से रोका थापंजाबः राज्यसभा चुनाव के लिए AAP के प्रत्याशियों की घोषणा, दोनों को मिल चुका पद्म श्री अवार्ड
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.