26 जनवरी के बाद सामूहिक बलात्कारों एवं हत्याओं को लेकर होगा प्रदेशव्यापी आंदोलन

जपा की सरकार में आज महिलाओं पर जिस तरह का अत्याचार जिसमें बलात्कार और पूरे प्रदेश में हत्याओं का तांडव व बोलबाला है

By: Mahendra Pratap

Published: 03 Jan 2019, 07:28 PM IST

ritesh singh

लखनऊ, प्रदेश में लगातार सामूहिक बलात्कारों एवं हत्याओं की घटनाओं से आक्रोशित नागरिक एकता पार्टी ने पूरे प्रदेश में प्रदर्शन की तैयारी को लेकर आज एक आपात बैठक प्रदेश की ध्वस्त हो चुकी कानून व्यवस्था की समीक्षा हेतु प्रदेश कार्यालय में प्रदेश अध्यक्ष कमर रज़ा के आह्वान पर बुलाई, जिसमें पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शमीम खान, राष्ट्रीय महासचिव व पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता आलोक दुबे डा० अब्दुल कलाम यूथ ब्रिगेड के प्रदेश अध्यक्ष शाकिब खान, प्रदेश प्रवक्ता दीपक शुक्ला, महिला सभा की जिलाध्यक्ष सबा नईम, जिला प्रभारी विकास सिंह के साथ ही प्रदेश कमेटी के एवं जनपद लखनऊ के पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं की मौजूदगी में बैठक हुई।


राष्ट्रीय अध्यक्ष शमीम खान द्वारा कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रदेश में लगातार बढ़ रही बलात्कार व हत्याओं की घटनाओं से जनता के बीच डर व भय उत्पन्न होने के लिए प्रदेश सरकार की निंदा करते हुए कहा कि गोरखपुर के कैंपियरगंज क्षेत्र में एक आश्रम के चौकीदार की पत्नी का सामूहिक बलात्कार करने के बाद उसकी पीट-पीट कर हत्या कर देना और मेरठ तथा मुरादाबाद में नशीला पेय पिलाकर महिलाओं के साथ बलात्कार की घटना को अंजाम दिया गया।

इसी प्रकार आगरा में दुष्कर्म की शिकार होने से बच गई एक युवती पर सफेदपोश अभियुक्तों से सुलह करने का दबाव डाले जाने से उस युवती द्वारा आत्महत्या करने की गंभीर घटना समाचार पत्रों की सुर्खियां बनी हई है। आए दिन समाचार पत्रों में और टीवी चैनलों पर मातृशक्ति महिलाओं के साथ बलात्कार की हो रही घटनाएं और बलात्कार की घटना को छिपाने के लिए हो रही महिलाओं की बर्बर हत्याओं से समाज में भय का माहौल बन चुका है।

सरकार कानून व्यवस्था पर लगाम लगाने में अक्षम साबित हो चुकी है, इस सरकार की निरंकुशता के बारे में हर जगह खेत-खलिहान व गली-मोहल्लों में चर्चा हो रही है। मुख्यमंत्री ने सरकार बनने पर जिस तरह की सख्ती दिखाई थी उस सख्ती के कारण पुलिस पहले सड़कों पर नजर आती थी, लेकिन आज की तारीख में सरकार के नेताओं मंत्रियों में आपसी खींचतान के चलते प्रदेश में अपराधियों का बोलबाला है। जनता का हाल लेने वाला शासन-प्रशासन में कोई नहीं है।

प्रदेश में जब सपा और बसपा की सरकार थी तो जनता ने अत्याचार से त्रस्त होकर भाजपा की सरकार चुनी, लेकिन भाजपा की सरकार में आज महिलाओं पर जिस तरह का अत्याचार जिसमें बलात्कार और पूरे प्रदेश में हत्याओं का तांडव व बोलबाला है, उस पर अंकुश नहीं लगा पा रही है, इसका परिणाम आने वाले लोकसभा चुनाव में जनता देगी और इनको फिर से उत्तर प्रदेश में 2 सीटों पर समेट कर सबक सिखाने का काम कर देगी।

नागरिक एकता पार्टी पूरे प्रदेश में पुलिस की कार्रवाई व कानून व्यवस्था से पूर्णता असंतुष्ट है, ऐसे में पार्टी 26 जनवरी के बाद सरकार पर दबाव बनाने के लिए नागरिक एकता पार्टी पूरे प्रदेश में सड़कों पर उतर कर सरकार के खिलाफ आंदोलन छेड़ने का निर्णय ले चुकी है, और जब तक कानून व्यवस्था पर अंकुश नहीं लग जाता आंदोलन जारी रहेगा।

बैठक में प्रदेश के सभी जिलाध्यक्षों को महिलाओं के साथ प्रदेश में हो रहे उत्पीड़नों का विवरण एकत्र करने का निर्देश जारी कर दिया गया जिसके प्राप्त होने के उपरान्त पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष कमर रजा के नेतृत्व में प्रत्येक जिले के जिला मुख्यालय पर धरना-प्रदर्शन की तारीखें सुनिश्चित कर 26 जनवरी के बाद क्रमवार से विरोध प्रदर्शन शुरू किया जाएगा।

 

BJP
Show More
Mahendra Pratap Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned