योगी सरकार का बड़ा फैसला, यूपी में गन्ने समर्थन मूल्य 25 रुपये बढ़ाकर 350 रुपये प्रति क्विंटल किया

Sugarcane Support Price in UP Increased by Rs 25 to Rs 350 per quintal- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने रविवार को उत्तर प्रदेश के किसानों को दो बड़े तोहफों की सौगात दी है। लखनऊ के डिफेंस एक्सपो (Defence Expo) ग्राउंड वृंदावन क्षेत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा के किसान सम्मेलन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की।

By: Karishma Lalwani

Published: 26 Sep 2021, 05:09 PM IST

लखनऊ. Sugarcane Support Price in UP Increased by Rs 25 to Rs 350 per quintal. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने रविवार को उत्तर प्रदेश के किसानों को दो बड़े तोहफों की सौगात दी है। लखनऊ के डिफेंस एक्सपो (Defence Expo) ग्राउंड वृंदावन क्षेत्र में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा के किसान सम्मेलन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। उन्होंने इस अवसर पर सम्मेलन को संबोधित कर कहा कि आज से गन्ना मूल्य बढ़ाए जाने का फैसला किया है। अब तक जो गन्ना 325 रुपया प्रति क्विंटल खरीदा जाता है, वह 350 रुपया में खरीदा जाएगा। इसी तरह 315 वाले की कीमत 340 और 305 वाले की 330 रुपया मिलेगी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने किसानों के बिजली के बकाए बिल पर ब्याज भी माफ करने की घोषणा की। इसके अलावा गन्ना मूल्य में वृद्धि से 45 लाख गन्ना किसानों की आय में आठ फीसदी की बढ़ोत्तरी की भी घोषणा की।

सपा-बसपा पर साधा निशाना

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने अपनी सरकार के कार्यकाल में किसी भी मिल को बेचने का काम नहीं किया। बसपा और समाजवादी सरकार पार्टी की सरकार के कार्यकाल में 21 चीनी मिलें बंद हुई थीं। इन लोगों ने सरकारी चीनी मिलों को औने-पौने दामों पर बेच दिया था। 250-300 करोड़ रुपए की चीनी मिलों को 25-30 करोड़ रुपए में बेचने का काम हुआ था। हमने बंद चीनी मिलों को चलाने का काम किया। सपा-बसपा सरकारों ने जिन चीनी मिलों को बेचने का काम किया था उनमें से जो चीनी मिलें वापस आ सकती थी हमने उनमें नए संयंत्र लगाकर शुरू किया। अगर गेहूं खरीद की बात करें तो पिछली सरकार ने 19,02,098 किसानों को 12,808 करोड़ रुपए का भुगतान किया था। हमारी सरकार ने 43,75,574 किसानों को 36,504 करोड़ रुपए का गेहूं भुगतान उनके खाते में किया।

गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में कृषि कानून विरोधी आंदोलन को समर्थन देकर विपक्षी दल सत्ताधारी दल के खिलाफ माहौल बनाने में प्रयासरत है। भाजपा सरकार लगातार दावा कर रही है कि सरकार की नीतियों से किसानों की स्थिति सुधरी है। इस आयोजन में किसान सम्मेलन में प्रदेश की सभी 403 विधानसभा सीटों से किसानों को बुलाया गया।

ये भी पढ़ें: यूपी स्वास्थ्य विभाग का नया आदेश, 10 वर्षों से अधिक समय से जमे पदाधिकारियों को हटाया जायेगा

ये भी पढ़ें: घर पर शराब की बोतल रखने के लिए लेना होगा होम बार लाइसेंस, चुकानी होगी बड़ी कीमत

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned