यूपी की फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में शिफ्ट होगा सुनील राठी, 24 घंटे कड़ी सुरक्षा में रहेगा कुख्यात अपराधी

यूपी की फतेहगढ़ सेंट्रल जेल में शिफ्ट होगा सुनील राठी, 24 घंटे कड़ी सुरक्षा में रहेगा कुख्यात अपराधी

Hariom Dwivedi | Publish: Jul, 14 2018 09:56:31 AM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

शासन ने सुनील राठी की शिफ्टिंग के आदेश जारी कर दिये हैं, जल्द ही उसे हाई सिक्योरिटी में फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल पहुंचाया जाएगा

 

लखनऊ. माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या कर सुर्खियों में आया कुख्यात अपराधी सुनील राठी का नया ठिकाना फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल होगा। शासन ने सुनील राठी की शिफ्टिंग के आदेश जारी कर दिये हैं। जल्द ही उसे हाई सिक्योरिटी में फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल पहुंचाया जाएगा, जहां वह हाई सिक्योरिटी बैरक में रखा जाएगा, साथ ही 24 घंटे की सीसीटीवी कैमरे उस पर नजर रखेंगे। शासन की ओर से आईजी जेल चंद्रप्रकाश को निर्देश दिये गये हैं कि कड़ी सुरक्षा के बीच उसे बागपत जेल से फतेहगढ़ की सेंट्रल जेल में शिफ्ट किया जाए। गौरतलब है कि बीते दिनों बागपत जेल में बंद मुन्ना बजरंगी का मर्डर हो गया था, जिसकी हत्या का मुख्य आरोपी सुनील राठी है।

सुनील राठी को फतेहगढ़ के साथ ही लखनऊ या डासना जेल भी भेजे जाने का प्रस्ताव था। बताया जा रहा है कि मुख्तार के गुर्गों के खतरे के कारण सुनील राठी की शिफ्टिंग लखनऊ जेल के बजाय फतेहगढ़ भेजा जाएगा। बागपत जेल में माफिया मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद प्रशासन ने सुनील राठी व अन्य शातिर अपराधियों को जिला जेल से केंद्रीय जेलों में शिफ्टिंग की बात कही थी।

आनन-फानन में बुलाई अफसरों की बैठक
शासन से आदेश मिलते ही आई जेल चंद्र प्रकाश ने आनन-फानन में बड़े अफसरों की मीटिंग बुलाई। बागपत जेल प्रशासन के साथ ही बागपत के जिलाधिकारी और एसपी से भी चर्चा की। आईजी जेल चंद्र प्रकाश ने कानपुर परिक्षेत्र डीआईजी व फतेहगढ़ सेंट्रल जेल के प्रभारी वरिष्ठ अधीक्षक वीपी त्रिपाठी को निर्देश दिया है कि सुनील राठी को जेल में कड़ी निगरानी में रखा जाए। उसे हाई सिक्योरिटी बैठक में रखने के साथ ही 24 सीसीटीवी निगरानी में रखने को कहा गया है।

बागपत जेल में चलता है राठी का सिक्का!
तीन साल पहले जब बागपत जेल बनी थी तो सुनील राठी ने जेल अफसरों पर उसे वहां शिफ्ट करने का दबाव बनावा। अफसर नहीं माने तो कोर्ट की शरण में पहुंचा। कारण बताया कि उसके अधिकतकर मामले में बागपत में दर्ज हैं इसलिये उसे यहीं शिफ्ट कर दिया जाए। बागपत जेल में पहुंचते ही वह और मजबूत हो गया। जले में सीसीटीवी कैमरे हर जगह पर थे नहीं और जो थे भी वो सही ढंग से काम नहीं कर रहे थे। सुरक्षाकर्मी भी कम थे और आने-जाने वालों पर ज्यादा रोकटोक नहीं करते थे।

 

 

Ad Block is Banned