scriptThe painful story of ex principal Vanshidhar and his wife | नियति ने औलादें छीनीं, तंत्र ने जीने का सहारा, अति वृद्ध शिक्षक दंपती की नहीं हो रही सुनावई | Patrika News

नियति ने औलादें छीनीं, तंत्र ने जीने का सहारा, अति वृद्ध शिक्षक दंपती की नहीं हो रही सुनावई

डॉ बंशीधर शुक्ल और उनकी पत्नी पहले से ही आयु जनित ब्याधियों से पीड़ित थे. ऐसे में दोनों को पुत्रों की मौत ने उन्हें तोड़कर रख दिया. इसके बाद भी उनके ऊपर पौत्री की परवरिश की जिम्मेदारी भी आ पड़ी. इसके बाद उन्होंने सरकारी स्तर पर बहू के स्थानांतरण की कवायद शुरू की. हर स्तर पर कई-कई पत्राचार किया, लेकिन किसी स्तर पर कोई मदद नहीं मिली. हालांकि उत्तराखंड सरकार ने स्थानांतरण की अनुमति दे दी, लेकिन उत्तर प्रदेश की सरकार से उन्हें कोई मदद नहीं मिली.

लखनऊ

Updated: December 24, 2021 12:30:26 pm

लखनऊ. हरदोई के सीएनएन कॉलेज के प्राचार्य रहे डॉक्टर वंशीधर शुक्ल दंपती पर अस्सी वर्ष की आयु में जिस तरह दुखों का पहाड़ टूटा बिरले ही किसी के साथ ऐसा हुआ होगा. एक वर्ष के भीरत उनके दोनों बेटों की आकस्मिक मृत्यु हो गई. काफी दिनों तक तो वह इस सदमे से उबर ही नहीं पाए, लेकिन जब तक जीवन है, तब तक जीना तो पड़ता ही है. चार साल से वह अपनी सरकार से मदद की गोहार लगा रहे हैं, पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है. अब उन्हें समझ नहीं आ रहा है कि आखिर वह क्या करें.
maa_bap.jpg
ये है पूरा मामला

मामला 2014 का है, जब हल्द्वानी के एक महा विद्यालय में शिक्षक उनके बड़े पुत्र का सड़क दुर्घटना में निधन हो गया. अतिवृद्ध दंपती के सामने बहू और उनके दो छोटे-छोटे बच्चों को पालने की जिम्मेदारी थी. मृतक आश्रित कोटे में उनकी बहू को हल्द्वानी में कॉलेज में नौकरी मिल गई, लेकिन उसके सामने समस्या थी कि अनजान जगह पर अकेले दो छोटे बच्चों के साथ रहे तो अतिवृद्ध सास-ससुर का क्या होगा? इसलिए उसने अपने बच्चों को सास-ससुर के पास हरदोई में छोड़ा और इस आशा में नौकरी ज्वाइन कर ली कि पारिवारिक स्थिति देखते हुए सरकारें शायद उसका तबादला उत्तर प्रदेश के गृह जिले या आसपास कर दें. वह इसके लिए प्रयास प्रारंभ ही करतीं, इससे पहले ही डॉक्टर वंशीधर शुक्ल के दूसरे बेटे, जिसकी नई-नई शादी हुई थी, की बीमारी के कारण मौत हो गई. एक वर्ष के भीतर दो बेटों की मौत से डॉ शुक्ल एकदम टूट गए.
उत्तराखंड सरकार ने दी अनुमति पर अपनी सरकार ने किया निराश

डॉ बंशीधर शुक्ल और उनकी पत्नी पहले से ही आयु जनित ब्याधियों से पीड़ित थे. ऐसे में दोनों को पुत्रों की मौत ने उन्हें तोड़कर रख दिया. इसके बाद भी उनके ऊपर पौत्र की परवरिश की जिम्मेदारी भी आ पड़ी. इसके बाद उन्होंने सरकारी स्तर पर बहू के स्थानांतरण की कवायद शुरू की. हर स्तर पर कई-कई पत्राचार किया, लेकिन किसी स्तर पर कोई मदद नहीं मिली. हालांकि उत्तराखंड सरकार ने स्थानांतरण की अनुमति दे दी, लेकिन उत्तर प्रदेश की सरकार से उन्हें कोई मदद नहीं मिली.
निराश हुए बुजुर्ग

बहू के स्थानांतरण के लिए डॉ शुक्ल का संघर्ष चार वर्ष से अनवरत जारी है. सरकारी तंत्र को लिखी चिट्ठियां न जाने कहां चली जाती हैं. कोई सुधि लेने वाला नहीं. किसी स्तर पर कोई सुनवाई नहीं. वह कहते हैं कि अब उनकी ऐसी अवस्था भी नहीं रही कि दौड़-भागकर किसी से अनुनय-विनय करें. उन्होंने अब सबकुछ भगवान पर छोड़ दिया है. वह कहते हैं कि जब नियति ने ही उनका सबकुछ छीन लिया है, तो नौकरशाही से कैसी शिकायत.

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

एनसीसी रैली में बोले पीएम मोदी- महिलाओं को सेना में मिल रही बड़ी जिम्मेदारियांSC-ST को आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला, राज्य तय करें प्रमोशन का पैमानाNeoCov: ओमिक्रॉन के बाद सामने आया कोरोना का नया वैरिएंट 'नियोकोव' और भी खतरनाकDCGI ने भारत बायोटेक को इंट्रानैसल बूस्टर डोज के ट्रायल की दी मंजूरी, 9 जगहों पर होंगे परीक्षणAkhilesh Yadav और शिवपाल यादव को हराने के लिए मायावती के प्लान B का खुलासाघर से निकलने से पहले देख ले अपनी ट्रेन का स्टेटस, कई ट्रेन रद्द, कई के रूट बदलेपुलिस से बचने के लिए नदी में कूदा अधेड़, खोजने के लिए गोताखोर और एसडीआरएफ की टीम जुटीसुभासपा ने जारी की तीन उम्मीदवारों की लिस्ट, राजभर का दावा- हमारे निशान पर सपा प्रत्याशी लड़ेगा चुनाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.