उनके पास जज हैं तो हमारे पास जनता है- अखिलेष

उनके पास जज हैं तो हमारे पास जनता है- अखिलेष

Anil Ankur | Publish: Sep, 11 2018 08:56:43 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

साइकिल यात्रा के समापन बोले सपा अध्यक्ष

 

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेष यादव ने कहा है कि जनता भाजपा के बोझ से छुटकारा चाहती है। सरकार की जिम्मेदारी मंहगाई खत्म करने की है लेकिन केन्द्र सरकार ने जब विपक्ष आन्दोलित था डीजल-पेट्रोल के दामों में बढ़ोŸारी कर दी। किसान को न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिला। जीएसटी से व्यापारी परेशान हैं। महिलाओं बच्चियों की इज्जत सुरक्षित नहीं है। नौजवानों की नौकरी-रोजगार के अवसर बंद हैं। जनता जानती है कि कौन झूठ बोल रहा है? भाजपा अगले 50 साल तक सŸाा में बने रहने का दावा करती है जबकि जनता अगले 50 हफ्तों में ही अपना फैसला दे देगी। देष को नया प्रधानमंत्री मिलेगा।

लोकतंत्र बचाओ देष बचाओ

यादव आज पार्टी मुख्यालय में वाराणसी से चलकर किषन दीक्षित के नेतृत्व में आए 227 साइकिल यात्रियों को सम्बोधित कर रहे थे। ‘लोकतंत्र बचाओं, देष बचाओं‘ साइकिल यात्रा एक दर्जन जनपदों से गुजरते हुए आज लखनऊ पहुंची। 30 अगस्त 2018 से प्रारम्भ साइकिल यात्रा चंदौली, सोनभद्र, मिर्जापुर, भदोही, जौनपुर, प्रतापगढ़, सुल्तानपुर, अमेठी, बाराबंकी होते यात्रा का समापन आज 11 सितम्बर 2018 को हुआ। दीक्षित के साथ साइकिल यात्रा में सर्व रविकांत पप्पू साहनी, फिरोज अहमद, अनूप खरवार, जितेन्द्र यादव, ज्ञानू चैरसिया तथा दिलीप आदि का उल्लेखनीय योगदान रहा। दिव्यांग अभिषेक सिंह चैहान भी पूरी यात्रा में शामिल रहे।

सामाजिक न्याय के लिए साईकिल यात्रा

यादव ने नौजवान साइकिल यात्रियों को बधाई देते कहा कि समाजवादी युवाओं ने लोकतंत्र बचाओं के अतिरिक्त विकास और सामाजिक न्याय की यात्राएं भी चलाई है। साइकिल यात्रियों को जो दर्द उठाना पड़ा उस पर जनता जरूर मरहम लगाएगी। यादव ने कहा कि देष में भाजपा की नीतियों से लोकतंत्र खतरे में है। भाजपा ने जनहित में एक भी काम नहीं किया। वह तो ऐसे फैसले करती है जिससे लोगों को परेषानी हो और उनमें दुःख पैदा हो। भाजपा की राज्य सरकार पेपर लीक का बहाना कर भर्ती रोक देती है।

उनके पास जज हैं तो हमारे पास जनता है

यादव ने कहा कि भाजपा कहती है कोर्ट और जज हमारे हैं। हमारा कहना है कि हमारे पास जनता है। भाजपा सबसे बड़ी जातिवादी पार्टी है। वह जाति में जाति निकालती है। वह प्रयोग करती है कि कैसे लोग दुःखी होते है। उन्होंने कहा मजबूरी में सिर मुंडाने वाले बीटीसी षिक्षकों के बारे में यह कहना कि उन्होंने पाप किए होंगे तो जो हर तीन चार दिन में सिर मुंडाते है तो उनके बारे में क्या कहा जायेगा? जैसे भ्रष्टाचार दिखाई नहीं देता है वैसे डीएनए भी नहीं दिखता है।

Ad Block is Banned