Triple Talaq : मुस्लिम महिलाएं महिलाएं बोलीं- असल ईद आज, अब मनाओ जश्न

Supreme Court द्वारा Triple Talaq पर ऐतिहासिक फैसला सुनाने के बाद मुस्लिम महिलाअों की जाने राय

By: Ruchi Sharma

Updated: 22 Aug 2017, 02:52 PM IST

Lucknow News. मुस्लिम समाज की महिलाओं के लिए अभिशाप बने चुके Triple Talaq पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए देश की सबसे बड़ी अदालत ने जैसे ही इसे असंवैधानिक करार दिया वैसे ही राजधानी लखनऊ में खुशी की लहर दौड़ पड़ी। ट्रिपल तलाक व हलाला जैसी कुप्रथाओं की जंजीरों में जकड़ी महिलाएं मिली इस आजादी को शब्दों में बयां नहीं कर पा रही हैं। महिलाओं का कहना है कि उनके लिए आज का दिन ईद से कम नहीं है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से अब उनके मौलिक अधिकारों की रक्षा हो सकेगी। घरों में उनका अब शोषण नहीं होगा और कम से कम वो अब अपने अधिकारों के लिए मजबूती के साथ आवाज बुलंद कर सकेंगी।

यह भी पढ़ें- मुस्लिम महिलाओं पर अब न होगा अत्याचार, सुप्रीम ने ट्रिपल तलाक को दिया असंवैधानिक करार

महिलाओं ने कहा, आज है असल Eid...शाम को मनाएंगे जश्न

ट्रिपल तलाक मुद्दे पर Supreme Court का फैसला आते ही लखनऊ में मुस्लिम समाज की महिलाओं की खुशी का ठिकाना नहीं रहा।

मुस्लिम वीमेन्स लीग की जनरल सेक्रेटरी ने कहा कि हम मुस्लिम महिलाओं के लिए असल ईद आज है।  उन्होंने कहा कि आज मुस्लिम समाज की सभी महिलाओं को जश्न मनाना चाहिए क्योंकि उन्हें असली आजादी आज ही मिली है। उन्होंने कहा कि Teen Talaq पर मुस्लिम महिलाओं को मिली आजादी का जश्न मनाने के लिए महिलाएं शाम 4 बजे जीपीओ में  इकट्ठा होंगी और अपनी खुशी का इजहार करेंगी।

 

वहीं चौक निवासी आबीदा खातून कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुए कहती हैं कि अब मुस्लिम समाज की महिलाओं पर अत्याचार नहीं हो सकेगा। Halala जैसी कुप्रथा पर लगाम लगेगी साथ ही महिलाओं को भी अब बराबरी का अहसास हो सकेगा। वहीं इंदिरा नगर निवासी समरीन का कहना है कि ट्रिपल तलाक महिलाओं के आत्मसम्मान की लड़ाई है जिस पर देश के सुप्रीम कोर्ट ने मुहर लगा दी है। ये हमारी और हमारे अधिकारों की जीत है।

 

Show More
Ruchi Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned