स्वयं सहायता समूह से जुड़ कर सशक्त बने ग्रामीण महिलाएं

टीबी रोगियों को गोद लेकर कराएं समुचित इलाज का प्रबंध

By: Ritesh Singh

Published: 05 Jan 2021, 09:49 PM IST

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का आज मंगलवार को जनपद चंदौली का एक दिवसीय दौरा सम्पन्न हुआ। यहां पं0 दीनदयाल उपाध्याय नगर स्थित रेलवे के मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय सभागार में क्षय रोग उन्मूलन अभियान के तहत क्षय रोगियों की सहायता में जुटी स्वयं सेवी संस्थाओं, क्षय रोगी के परिवारीजनों से राज्यपाल से मुलाकात की। कार्यक्रम के दूसरे सत्र में उन्होंने कृषि विभाग की ओर से जिले में ‘ब्लैक राइस’ उत्पादन सहित कृषि उत्पादक संगठन और प्रगतिशील किसानों एवं महिला स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं से संवाद किया। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के बाद जनपद चंदौली का यह मेरा पहला दौरा है।

सबसे पहले राज्यपाल ने राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत 18 वर्ष तक के टीबी ग्रसित रोगियों को माननीय राज्यपाल उत्तर प्रदेश के प्रेरणास्वरूप स्वयं सेवी संस्थानों, जिनके द्वारा टीबी मरीजों को गोद लिया गया है, उन्हें प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया तथा उनसे क्रिया कलापों के बारे में संवाद किया गया। जिला क्षय रोग अधिकारी द्वारा ‘टीबी हारेगा देश जीतेगा’ के ऊपर पावर प्रजेंटेशन के माध्यम से संक्षिप्त प्रस्तुति दी गई। इस दौरान मानव कल्याण सेवा समिति चंदौली, मानव खिदमत फाउंडेशन मारूफपुर, उत्तर प्रदेश नेटवर्क वेलफेयर फार पीपुल, लिविंग विथ एचआईवी एड्स सोसाइटी, अक्षय परियोजना चंदौली, ग्राम्या संस्थान नौगढ़ चंदौली, रामनगर इंडस्ट्रीयल एसोसिएशन, सोशल वेलफेयर इंस्टीट्यूट पड़ाव, मानव सेवा केंद्र नौगढ़ चंदौली सहित आठ स्वयं सेवी संस्थाओं को प्रशस्ति पत्र दिया गया।

राज्यपाल ने कहा कि क्षय रोग से ग्रसित लड़के-लड़कियों में भेद न करें। सभी का समुचित इलाज करें। उन्होंने कहा कि टीबी उन्मूलन के लिए प्रदेश सरकार द्वारा अभूतपूर्व अभियान शुरू किया गया है, जो अन्य राज्यों में अभी तक नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ी केंद्र में भी तीन से छह साल के बच्चे आते हैं। हमें ऐसे बच्चों के पोषण एवं शिक्षा पर विशेष ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूलों की तरह आंगनबाड़ी केंद्रों को भी विकसित किया जाए। यहां स्वच्छ पानी, टॉयलेट, खेलने के सामान, खिलौने, कलर्ड टेबल, बैठने की अच्छी व्यवस्था इत्यादि का समुचित प्रबंध हो, जिससे बच्चे आकर्षित हो। इस अवसर पर उन्होंने यह भी कहा कि प्रत्येक गांव में चिन्हित मरीजों को ठीक करने के लिए गांव वाले संकल्प लें और उपचार में भरपूर सहयोग करें। दूसरे सत्र में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के समक्ष एफपीओ (किसान उत्पादक संगठन) एवं प्रगतिशील कृषकों से संवाद का कार्यक्रम हुआ। इस मौके पर कृषि विभाग की ओर से ब्लैक राइस का पावर प्रजेंटेशन कृषि रक्षा अधिकारी अमित जायसवाल की ओर से किया गया।

Show More
Ritesh Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned